विभिन्न प्रकार के मुद्दे (मसले)

क्या हमारे इरादे हमें बचा सकते हैं?

एक प्रण (इरादा) जो उचित कार्यवाही की ओर ले जाता है एक व्यक्ति को बचा सकता है। एक इरादा जो किसी दृढ़ संकल्प का परिणाम नहीं होता, एक व्यक्ति को नहीं बचा सकता। एक इरादा होने का अर्थ एक उद्देश्य और एक लक्ष्य होना है। यह एक मन और प्रतिबद्धता की अवस्था भी है। एक स्पष्ट इरादा होने का अर्थ स्पष्ट रूप से समझना है कि एक की क्या इच्छा है और उसे कौन से मार्ग का पालन करना चाहिए, मन की उचित स्थिति प्राप्त करना और फिर उद्देश्य परिकल्पित को प्राप्त करने की मांग करना है।

इरादा सभी कार्यवाही की कमानी उछाल है। होश व दावे में या नहीं, इरादा एक व्यक्ति को विशेष कार्यों की जिम्मेदारी के और अधिकार देता है। यह विशेष परिणाम लाने की इच्छा और शक्ति का मजबूत आधार है। हर चीज़ जो अपनी स्थापना और बनने के समय मानवता और दुनिया से संबंधित है, वे किसी की मंशा पर निर्भर करता है।

सब कुछ हमारे मन में पहले एक विचार के रूप में आता है और इस पर आधारित होता है कि कोई इसे वास्तविकाता में लाएगा या नहीं, यह बाद में दृढ़ता के माध्यम से वास्तविकाता बन सकती है, यदि प्रारम्भिक विचार इरादे में नहीं बदलता, तो परियोजना कोई उपयोगी फल सहन नहीं कर सकती। द्ढ़ता के बिना दृढ़ संकल्प के माध्यम से निरंतर और संकल्प परिभाषित कोई परियोजना सफल नहीं हो सकती।

इरादा अच्छे और बुरे कर्मों के संबंध में एक निर्णायक भूमिका है। इसकी गुणवत्ता किसी भी बीमारी या हानि के इलाज की तरह कार्य कर सकती है, या छुपी विनाश की भांति एक पल में सभी उपलब्धियों को नष्ट कर सकती है। कर्म जो बहुत छोटे और महत्वहीन दिखाई देते हैं वे अंतनिहित मंशा पर पूरी तरह से आधारित बड़े सकारात्मक या नकारात्मक परिणाम पैदा कर सकते हैं।

सभी कार्य जो ईश्वर की सेवा की चेतना में किए गए हों, जैसे कि प्रार्थना या कुछ आज्ञित सुख से अस्थाई रूपये से दूर रहना, हमारे पुरस्कार को बढ़ाता है हमें उच्च आध्यात्मिक स्तर तक उठाता है। बेशक उल्टा भी सही है, हम ईश्वर को उसके कानून के अनुसार कुछ कार्यों के प्रदर्शन और छोड़ देने से मनाते हैं और इस प्रकार सबसे अच्छी ऊँचाई प्राप्त कर सकते हैं।

और फिर से हो सकता है कि दूसरी बार हम वास्तव में वही चीज बिल्कुल उसी तरह करें, पर ईश्वर के लिए उसका कुछ अर्थ न हो, क्योंकि हम उसे उचित इरादे के बिना करते हैं। उदाहरण के लिए युद्ध के मैदान पर शहादत, इस्लाम की सर्वोच्च उपलब्धियों में से एक है। जो लोग उसकी आशा करते हैं पर केवल अपनी इच्छा से लड़ते हैं, वे शहीदों में नहीं माने जाते और इसलिए वह उपहार प्राप्त नहीं कर पाते। दूसरी ओर जो लोग लगातार और ईमानदारी से शहादत की मांग करते हैं, पर स्वयं बिस्तर पर मर जाते हैं, व शहीद माने जाते हैं, क्योंकि इमानदारी से इस्लाम की रक्षा और मुसलमानों के लिए अच्छा भविष्य प्रदान करना चाहते हैं। उन्हें शहादत (वीरगति) और स्वर्ग के उपहार की आशाा करने का अधिकार है।

इरादा एक चाबी है जो अनन्त के द्वार को खोलती है। जब ठीक से उपयोग किया जाए, तो यह शाश्वत सुख का द्वार खोल देती है, क्योंकि सभी कर्तव्य जो ईमानदारी और ठीस से प्रदर्शित किए गए हो, वे उन पर लगाए गए समय के अनुसार नहीं, बल्कि एक के जीवन को प्रभावित करने की श्रेणी के अनुसार पुरस्कृत किए जाते हैं। यदि यह चाबी ठीक से उपयोग नहीं की जाए, तो यह अनन्त दुख और दीनता की ओर ले जाती हैं

जिहाद (अल्लाह के मार्ग में युद्ध) लिए तैयार कोई भी सिपाही, हालांकि जो वास्तव में युद्ध में व्यस्त न हो उसे वास्तव में युद्ध में लगे सिपाहियों के पुरस्कार की आशा करने का अधिकार है। कोई सिपाही जो रक्षा करने की प्रतीक्षा कर रहा हो, वह पुरस्कार के लिए उतना ही पात्र है, जितना वास्तव में रक्षा करने वाला ईश्वर के मार्ग में रक्षा करने का पुरस्कार महीनों तक प्रार्थना करने के पुरस्कार के समान है।

इस प्रकार एक विश्वासी (आस्तिक) छोटे जीवन के बाद ही स्वर्ग को प्राप्त कर सकता हैं, जब कि एक अविश्वासी (नास्तिक) जो उतने ही समय तक जिया, वह केवल अनन्त दण्ड और दुख प्राप्त करेगा। अन्यथा बाहरी न्याय के अनुसार लोगों को उनके अच्छे और बुरे कर्मों की मात्रा के साथ उनको गुण या दोष के अनुसार पुरस्कृत किया जाना चाहिए। इसका अर्थ यह होगा कि अनन्त काल के रूप में दोनों अच्छे और बुरे लोगों के लिए अंतिम अंत है, शाश्वत सुख या दण्ड एक इरादे में नीहित है। एक इरादा ईमानदारी और सही रहने के लिए सदैव के शाश्वत सुख में परिणाम होगा। इरादा अभी के रूप में, अस्वीकृति, इंकार और भ्रष्टाचार में रहने से सदैव के शाश्वत सुख में परिणाम होगा।

यदि जीवन के अंतिम क्षण में, ईश्वर के प्रति जागरूक और समर्पित कर्मचारियों को एक और 1000 वर्ष जीने के लिए अवसर दिया, वे एक ही क्षमता के जीवन का नेतृत्व करेंगे। इस ईमानदार इरादे के आधार पर यह तदनुसार स्वीकार और पुरस्कृत किए जा सकते हैं क्योंकि विश्वासियों के इरादे उनके कामों से कई अधिक उदार होते हैं।(80) इसलिए लोगों को उनके इरादे के अनुसार पुरस्कृत या सज़ा दी जाएगी। इरादा सच्चा विश्वास प्राप्त करने के लिए और परमसुख में परिणाम का संरक्षण है, अनन्त पीड़ा में विपरीत परिणाम है।

शैतान को सबसे कोमलता से अनन्त अविश्वास के लिए भुगतान करना होगा, वह प्रोत्साहित या पालन करता है। शैतान उन लोगों पर निर्विवाद असर डालता है जो लोग कुछ अच्छा कर रहे हों। उसकी गतिविधियों के परिणाम के रूप में कुछ लोग अपनी जन्मजात क्षमता में सुधार खोजने और छिपे मूल्यों और गुण को परिष्कृत और अधिक सर्तक हो गए और वे जागरूक बन गए हैं।

शैतान व्यक्तिगतों और लोगों पर आक्रमण करता है, हमारे दिल में बोया, जहरीले बीज से वह हमें बुरी आदत और बुराई के जाल में फंसाता है। हमारी आध्यात्मिक संकाय हमें उसके लालच और भ्रष्टाचार के विरूद्ध चेतावनी देती है, और हमें युद्ध के लिए कहती है, अभी के रूप में विशेष शारीरिक कोशिकाऐं अलार्म बजाने के लिए और संक्रमण का विरोध करती है।

रोधक प्रतिरोधक क्षमता शरीर की प्रतिरक्षा में सुधार हमारी आध्यात्मिक स्थिति को सबसे शक्तिशाली (ईश्वर) की शरण मांग से मज़बूत बनाती है। यह देखते हुए हमें शैतान के हमलों से हानि की तुलना में अधिक लाभ मिल सकता है। आत्मा को कोई भी परिक्षण अपनी सतर्कता, चेतना और प्रतिरोध करने की शक्ति को बढ़ाता है। इन सभी से आत्मा को क्या सही है के लिए अधिक निर्धारित बनाया जाता है। अधिक समझदार जब यह नर्तकी मुठभेड़ हो ऐसी परीक्षण ईश्वर के मार्ग में योद्धा को दिग्गजों में तथा शहीदों और संतो में बदल देती है, और अविश्वासियों को विश्वासियों को फर्क दिखाती है।

अभी शैतान का उनके पुरस्कार में कोई भाग नहीं है जो उसके विरूद्ध संघर्ष के द्वारा उच्च पुण्य प्राप्त करते हैं। जो कपट और विदवेष से बाहर गुमराह और भ्रष्ट लोगों का नेतृत्व करना चाहते हैं, वह अपने बुरे इरादे और बरे कर्मों के लिए सदैव दण्ड के भागी हैं:

“अल्लाह ने पूछाः तुझे किस चीज ने सज़दा करने से रोका जबकि मैंने तुझ को आदेश दिया था? बोला, मैं उससे अच्छा हूं तूने आग से पैदा किया है और उसे मिट्टी से कहा अच्छा तू यहां से नीचे उतर। तुझे अधिकार नहीं है कि यहां बड़ाई का गर्व करे। निकल जा कि वास्तव में तू उन लोगों में से है जो खुद अपना अपमान चाहते हैं। बोला, मुझे उस दिन तक मुहलत दे जबकि ये सब दोबारा उठाए जाऐंगे। कहा तुझे मुहलत (समय) है। बोला अच्छा तो जिस तरह तूने मुझे गुमराही में डाला है, मैं भी अब तरेी सीधी राह पर इन इंसानों की घात में लगा रहूंगा।”(अल-अराफ़ 7:12-16)

उसकी ईष्र्या और अभिमानी अवज्ञा के बाद शैतान जानबूझ कर विद्रोह और अविश्वास का मार्ग चुनता है उसकी शपथ और लोगों की गुमराही का नेतृत्व करने वाला प्रण हमारे लिए कभी न समाप्त होने वाली त्रासदी की प्रारंभिकता है।

संक्षेप में विश्वासियों के लिए इरादा ही सब कुछ है, क्योंकि यह अपने दिनचर्या कार्य में उन्नति और बहुत फल का उत्पादन कर सकते हैं, इसकी विशेषता और सामग्री शाश्वत और आनन्दमय जीवन के लिए द्वार खोलती है साथ ही शाश्वत दण्ड और दुख के द्वार भी खोलती है।

आज सुन्नाः की क्या भूमिका है?

हदीस का कहना हैः “वहां एक पुरस्कार के रूप में 100 शहीदों का सवाब (पुण्य) मिलेगा, उसको जो मेरी सुन्ना (सुन्नत) का पालन करता है, जब मेरे समुदाय में खराबी हो।”

तकनीकी तौर पर सुन्ना पैग़म्बर (हज़रत मुहम्मद स.अ.व.) के रहने का मार्ग संदर्भित करता है, विशेष रूप से यह तरीकों और प्रथाओं को संदर्भित करता है, वह चाहते थे कि मुसलमान इसका पालन करें और सभी कार्यों और मानदण्ड के लिए ही वह रहते थे और इसकी केवल सिफारिश की है तभी हम पर यह अनिवार्य नहीं है।

इस्लामी विद्वानों के द्वारा अच्छी तरह से यह विषय निपटा लिया गया है, जिससे से सभी सहमत है कि “सुन्ना” धर्म का मार्ग है और यह कि एक ईश्वर के नाम से सत्य तक पहुंचने के लिए एक सीढ़ी की तरह है। यह ऐसी योग्यता का एक प्रकार है कि सभी प्रणालियां और उनके सिद्धान्त, यहां तक कि उन विद्धानों और संतों द्वारा भी स्थापित किए गए। मामूली धुंधले और अस्पष्टता के साथ देखे जाने वाले सभी मनीषियों, आध्यात्मिक शिक्षकों ओर सत्य चाहने वालों ने भी इसे स्वीकार किया और इस मार्ग में सुन्ना की बात की। इस प्रकार हर किसी को इसका पालन करने के लिए प्रोत्साहित भी किया।

ईश्वर ने पैग़म्बरों को उठाया और उनके माध्यम से ही जीवन का उचित तरीका पता चलता है। खुदा ने पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) को अन्तिम पैग़म्बर के रूप में भेजा, उनके सभी कार्यों में उन्हें निर्देशित करो, और फर्ज, वाजिब, सुन्ना और मुस्तहब को उन तक पहुंचाओ।(82) और सभी गुण जो एक पैग़म्बर के कार्यों पर चलने का प्रयास करेगा। ईश्वर के समीप आ जाएगा और उसे इस “हदीस अल-कुदसी” में वर्णित एक उपाधि उपलब्ध होगी।

“धार्मिक कर्तव्य से बढ़ कर और किसी भी कार्य से मेरे कर्मचारी मेरे समीप नहीं आ सकते। मैंने उन पर लगाया वह उच्चतक कार्य करके मेरे और समीप आ जाते हैं, ताकि मैं उन्हें प्रेम कर सकूं, जब मैं उन्हें प्यार करता हूं तो मैं वो सुनता हूं जो वे सुनते हैं, वो देखता हूं, जो वह देखते हैं, वे हाथ हूं जिनसे वे जकड़ते हैं और वे पैर हूं जिससे वे चलते हैं।” (83)

इसका एक अर्थ यह है कि ईश्वर चीजों की वास्तविक सत्यता देखने के लिए, ऐसे विश्वासियों को सक्ष्म बनाता, और इसलिए चीजों का सही और कुशलता से मूल्यांकन के लिए उन्हें संभव बनाता है। नए द्वार और नए क्षीतिज खोलने से ईश्वर उन्हें सच के लिए मार्ग दर्शित भी करता है।

ऐसे विश्वासियों को सुगमता से परख लेने और मार्गदर्शन के रूप में वे त्रृटि और भ्रष्टाचार से भागने की ओर उड़ते हैं। जब वह सत्य आवाज़ सुनते हैं, वे स्वयं के लिए आने दोबारा जोश, उदत्त आकांक्षाओं के अधिग्रहण का संकल्प करते हैं। नैतिक रूप से समृद्धि और आध्यात्मिकता शुरू करते हैं। जब वे बात करते हैं तो ईश्वर उन्हें सत्य बोलने वाला बनाता है, जब वे कुछ करते हैं तो ईश्वर उन्हें सीधे, अच्छे और लाभदायक परिणाम के लिए निर्देशित करता है और कभी उन्हें स्वयं से अकेला नहीं छोड़ता। चूंकि इन सेवकों को उसकी स्वीकृति और प्रसन्नता की खोज है, ईश्वर उन्हें अवसर प्रदान करने और उसकी दिव्य प्रसन्नता के कार्य अनुसार ही उन्हें सक्षम बनाता है।

इसलिए ईश्वर ने सभी पैग़म्बरों के जीवन को नियंत्रित और निर्देशित किया, एक को छोड़ सभी प्रकार से उनकी प्रसन्नता के लिए अग्रणी अवरूद्ध, उन्हें अपने से अन्य तरीकों को चुनने से रोका। एक मात्र सुन्ना के लिए निर्देशित किया, तो कई लोगों ने सुन्ना का पीछा किया कि यह मार्ग उद्वार करने के लिए स्पष्ट से बनाया है। केवल विचलन से मुक्त और सफलता की ओर इस संसार प्रसन्नता और अगले संसार के लिए प्रमुख मार्ग है।

एक समय में जब द्वेष, अनैतिकता और दूरभिसंधियां इतने बड़े पैमाने पर थी, जब सुन्ना को चलित और पुर्नजीवित करने का प्रयास करा। ये अभ्यास फर्ज और वाजिब के साथ भविष्य के किसी भी समाज में अपना केन्द्रीय स्थान और आश्वासन है, यह प्रलेय के दिन सहनशील बनाने के सर्वोच्च महत्व का कार्य भी करेगा। इस प्रकार यह कार्य जो लोग शहीदों के पद के लिए ईमानदारी से कार्य करने और उन्हें एक समान पुरस्कार के लिए आश्वासन से कार्य करने और उन्हें एक समान पुरस्कार के लिए आवश्वासन को बढ़ात है। दो शहीदों का पुरस्कार प्राप्त करना पर्याप्त आशीर्वाद हो जाएगा, परन्तु अधिक का वादा किया है, इसको अतिरिक्त जो लोग सत्य के विश्वास को पुर्नजीवित करने का प्रयास करते हैं, जो 100 शहीदों से भी अधिक पुरस्कार प्राप्त कर सकेंगे।

सुन्ना (सुन्नत) के कुछ विशेष रूप से तत्वों को फिर से जीवित करना उच्च वचन पुरस्कार के योग्य है, उदाहरण के लिए कलंकी गपशपक का एक प्रकार व्यभिचार या हत्या से भी घृणित है।(84) यहां एक व्यक्ति निंदा और पूरे समुदाय के बीच एक स्पष्ट अंतर है। ऐसे एक मामले में एक नीजि पास व्यापक बुराई करने के लिए नेतृत्व कर सकता है। जब एक समय पर मुसलमानों को भ्रष्टता के लिए आमंत्रित किया जा रहा था, और इस्लाम की शक्ति, प्रभाव और प्रसार का रोका और निर्बल करने के लिए प्रयास करते हैं वे कई शहादतों का पुरस्कार अर्जित करेंगे और इस्लाम में महीनों के साथ में खाने लगेंगे, उनके इनाम अभी भी अधिक हो जाएंगे उनकी अनुमति से।

जो लोग ईश्वर की सेवा करते हैं उन्हें इष्ट और आशीर्वाद दिए गए। इस्लामी विचार और जीवन पुर्नजीवित किए गए एक समय जब सब कुछ इस्लाम का विरोध करने के लिए हो रहा था। ईमानदार और सक्षम कर्मचारी के साथ ध्वनि संस्थाओं की स्थापना के लिए कार्य कर रहे थे, इस्लामी चेतना के लिए युवा लोगों को बढ़ा रहे थे- एक अद्वितीय कार्य के कुछ विचार किया जा सकता है। यदि ऐसे महान लोग और आध्यात्मिक मार्गदर्शक के रूप में “हज़रत अब्दुल क़ादिर जिलानी रह.” और अन्य दिखाई दिए, तो कई सदियों के बाद नैतिक समर्थन देने के लिए। यह महान महत्व के लिए और कर्तव्यों की आवश्यकता के कारण है।

पैगम्बर द्वारा सपनों में देखा गया है कि वे अधिक समर्थन और उनके मार्ग में उल लोगों के लिए प्रसन्नता की सूचना दे रहे हैं, हालांकि सुन्ना की सेवा में सुन्ना के एक चमत्कार से कम नहीं परन्तु हम किसी के लाभ और गुण की पहचान के रूप में ऐसी बातों पर विचार नहीं कर सकते।

कुछ व्यक्ति, समूह और संस्थाऐं यह निश्चित रूप से उनकी कृपा और आशीर्वाद का एक महान भाग प्राप्त करने के प्रयास में लगे हुए हैं। यह हो सकता है क्योंकि “एक जो कारण (घटना) कर्ता की भांति है” और यह ईश्वरीय अहसान की विशालता का एक और रूख है, दूसरी ओर ज़िम्मेदारी और विश्वास हटा दिया जाता है, ऐसे कर्मचारी या जो अपनी प्रारंभिक पवित्रता, ईमानदारी उत्साह और गति बनाए नहीं रखते उनका इंकार, अपवर्जित और दूरदर्शिता द्वारा त्याग भी कर दिया गया और जो लोग अधिक योग्यता के लिए विश्वास पारित किए जाऐंगे।

केवल तभी हम ईश्वर के एहसान को आभास और सराहना करते हैं, जब हम कुछ भी करे वे ईमानदारी से प्रयास करके करें और हमारे लिए खुले अवसर का सबसे अच्छा उपयोग करना यही है कि हम अपने आप को ईश्वर की ओर अधिक से अधिक कृतज्ञ होने के लिए उपयुक्त बनाऐं तभी हम यह साबित कर सकते हैं।

नास्तिकता इतने बड़े पैमाने पर क्यों है?

नास्तिकता ईश्वर के अस्तित्व जो बिल्कुल उसकी आज्ञाओं को अस्वीकार करने में सम्मिलित है, साथ ही साथ धार्मिक प्रतिबिम्ब और गंभीरता के रूप से अच्छी तरह से नकार अर्थ है, और कुल स्वयं स्वतंत्रता ईश्वर के अतिरिक्त की संभावना में विश्वास ऐसे विश्वासियों की पाल की अवधारणा को नकारना, लोगों को लगता है वे कृप्या के रूप में वे रह सकते हैं उसमें लोगों के मन और मस्तिष्क भ्रष्टाचार में नीहित है। नास्तिकता फैलती है क्योंकि शिक्षा का दुरूपयोग है और युवा लोगों की उपेक्षा की जा रही है और वास्तव में विद्यालय इसका बचाव करता और पालता है।

आस्था और धर्म के अनिवार्य के बारे में निर्बल हो जाते हैं केवल ईश्वर की दया और मदद उन्हें बचा सकती है। यदि कोई समुदाय इस प्रवृत्ति का निर्णायक और सफलतापूर्ण रूप से सामना नहीं करता तो उसके सदस्यों के हृदय और मस्तिष्क अन्य प्रभावों की विचलन के लिए नेतृत्व करने के लिए खुल गए हैं।

नास्तिकता पहले से ही आस्था के सिद्धान्तों में रूचि की एक कमी के रूप में प्रकट होती है। इस दृष्टिकोण के साथ लोग अक्सर दावा करते हैं कि यह सकारात्मक हैं क्योंकि यह मन की स्वतंत्रता और विचार की स्वतंत्रता की मार्गों के ज़ोरदार के रूप में क्या आसान है कि ओर उदासीनता मुड़ती है। यह किसी भी ईमानदार और गंभीर प्रतिबिम्ब के बहाने के लिए बहाना सीखते हैं और उपेक्षा तो अनवधानता, नास्तिकता और धर्म के लिए भी अवमानना में आसानी से गिर जाती है।

वास्तव में नास्तिकता न ध्वनि तर्क पर आधारित है और न ही मानव अंतज्र्ञान या अनुभव के द्वारा समर्थित है। कम अभी भी यह वैज्ञानिक सच पर आधारित है, यह कोई एक असावधान और विद्रोही मन नहीं बल्कि आमतौर पर आलसी परन्तु कभी-कभी सक्रिय और आतंकवादी से अधिक नहीं है।

ईश्वर के भीतर और बाहर अनगिनत अभिव्यक्ति स्वयं गवाही देते हैं कि यहां केवल एक ही निर्माता और राज्यपाल है, जिसने प्रशासन, निर्देश और इस ब्रह्माण्ड को बनाया है। हमें प्रत्येक अभिव्यक्ति को एक पत्र या पुस्तक के रूप में, जो ईश्वर से हमें मिली है के बारे में सोचना चाहिए। एक प्रकार में उसके दिव्य गुण परिलक्षित है जो कि हम समझ सकते हैं। यह गुण निर्माण में कही भी खोजे जा सकते हैं, जो कि हम समझ सकते हैं। यह गुण निर्माण में कही भी खोजे जा सकते हैं, जो मानवता को परखने और सिखाने की बड़ी जगह से अधिक कुछ भी नहीं है। हालांकि कुछ लोग जिन्हें ग़लत अवधारणा है, वे इन चिन्हों को समझने में और देखने में भूल कर गए। परिणाम स्वरूप उन्होंने प्राकृति का और उसके सिद्धान्तों और रिश्तों का इस प्रकार से उल्लेख किया है कि कई लोगों ने (ख़ास कर युवा) सच्चे विश्वास का त्याग दिया।

प्राकृतिक संसार के कोमल संतुलन औ असंख्य सूक्ष्म प्रण के बारे में कुछ ने कहा और लिखा है, इस तरह के आदेश केवल सबसे बलशाली होने के लिए ज़िम्मेदार ठहराए जा सकते हैं। बहाव और कक्षाओं की एक अंर्तसंबंध जटिलता के भीतर ग्रह और सितारे असीम रहते हैं कि अनन्त कुछ भी हम ने कभी भी डिज़ाइन या बनाने से अधिक बिल्कुल ठीक है, यदि हम क्या बनाते हैं ये बुद्धिमान नमूने के साक्ष्य के रूप में स्वीकार है फिर क्यों दूर अधिक विशाल और जटिल ब्रह्माण्ड इस नियम के अपवाद माने जाते है।

प्रकृति विशाल (वास्तविक और संभावित) उत्पादक शक्ति का एक बड़े कारखाने जैसा दिखता है, इसके चलते सिद्धान्त अचरज सूक्ष्म और कोमल है, फिर भी दृढ़ता से आश्वस्त ख़ाका और लय में स्थापित है। कहां प्रकृति इन कार्यकारी नियमों से प्राप्त होती है? कुछ लोगों का कहना है प्रकृति स्वयं बनी है, परन्तु यह किसी को कैसे संतुष्ट कर सकती है? संचालन नियमों में से एक आत्म आयोजन शक्ति का एक उपाय है, परन्तु हम इस नियम की उत्पति जानना चाहते हैं।

सिद्धान्त चीज़ या अस्तित्व के गैर आवश्यक गुण है और इस रूप में गौण और मादक और सार पर निर्भर है कि गुण जिस जन्तु या वस्तु के निवासी है उसके पहले या अकेले अस्तित्व में नहीं रह सकते, इस प्रकार यदि एक संयन्त्र इसके विकास के लिए प्रकाश नमी और पोषक तत्वों की मांग से आत्म आयोजन शक्ति के उपाय को दर्शाता है, इसका अर्थ है कि स्वयं के आयोजन शक्ति का एक उपाय इसके बीज में दबाया गया है। इसी प्रकार भौतिक विज्ञान के आकर्षण के सिद्धान्त के रूप में विद्धमान हैं और आम जनता दूरी और बल के माध्यम से चल रहे हैं, दावा है कि ऐसे सिद्धान्तों का मूल या विदयमान वस्तुएं या प्राणियों के स्त्रोत के लिए अस्थिर है।

अस्थिर आत्म विश्वास के साथ जो इस प्रकार के दावे करे जाते हैं वे दोषी हैं दावा है कि वह असाधारण सूक्ष्म और ब्रह्माण्ड आदेश अस्तव्यस्त संयोग का परिणाम करने के लिए बेतुका है विरोधाभासी है, और बहुत अवैज्ञानिक है क्योंकि सभी साक्ष्य अंक के बिल्कुल विपरीत है।

लम्बे समय के प्रयोगों और प्रतिबिम्ब के परिणामस्वरूप मुलर ने घोषणा की, कि जीवन की उत्पति के कारण की व्याख्या नहीं कर सकते। उन्होंने विज्ञान और वैज्ञानिकों को एक संभव विवरण के रूप में “संयोग की मुर्खता” की ओर से स्थापित किया, इसी प्रकार अध्ययन के 22 वर्ष की श्रृंखला के बाद, रसायन विज्ञान की सोवियत संस्थान ओपेरिन की अध्यक्षता में साबित कर दिया कि रसायन और रासनिक प्रतिक्रियाओं के नियम ने जीवन के मूल पर कोई प्रकाश नहीं डालने को बहाना है और यह कि विज्ञान ने अभी भी प्रश्न का कोई उत्तर नहीं दिया।

जब इन वैज्ञानिकों ने मानव जांच के लिए मृत सीमाओं को स्वीकार किया तो सभी विज्ञान और वैज्ञानिकों की ओर से ऐसा किया गया था कि अभी तक इस प्रकार के कार्य पहले के और कम सावधान वैज्ञानिकों द्वारा किए गए नुक्सान को पूर्ववत नहीं कर सके, जिन्होंने विश्वासनीय वैज्ञानिक सिद्धान्त के रूप में केवल अनुमान की पेशकश की। दुर्भाग्य से सामान्य दृष्टिकोण और गुण ऐसे अनुमानों और अच्छे वैज्ञानिकों द्वारा वास्तविकता स्थापित से नहीं है जो निरंतर आकार में हो रहे हैं।

उदाहरण के लिए सिद्धान्त के बजाए कई पाठय पुस्तकों और विश्वकोषों के तथ्य के रूप में मनुष्य के लिए वानर से मानवता का विकास उपस्थित और जारी है। वास्तव में वैज्ञानिकों की बढ़त संख्या, यहां तक की कुछ विकासवादी का तर्क है कि विकास के “डार्विन का सिद्धान्त” वास्तव में एक वैज्ञानिक सिद्धान्त नहीं है। सर्वोच्च बौद्धिक क्षमता से कई आलोचक मानते हैं कि हमें अभी भी नहीं पता कि कैसे यह विकास स्थान लेता है, जबकि वहां सभावित कारण, वास्तविकता प्रक्रिया, आम जनता और इसमें विश्वास कर रहे कम एक बड़ा सौदा है।

विभिन्न अनुसंधान परियोजनाऐं और प्रकाशित अध्ययन विकास पर शक डालती है और निर्माण के रूप में प्रकृति की एक सच्ची तस्वीर और उसमें हमें स्थान देना चाहती है। इस प्रकार के धर्म जैसे “हम ईश्वर में विश्वास क्यों करते है?” उनकी मदद करते हैं जो विकास में गै़र विश्वासियों को अजीब लोगों के रूप में मानते हैं जो अपनी सलाह पर पुर्नविचार और उस मामले पर अधिक समझदारी प्रतिबिम्ब है।

ये देखते हुए कि प्राकृति दुनिया की स्वस्थ और विश्वसनीय समझ एक अकेले सार्वभौमिक निर्माण पर विश्वास की और ले जाता है, नास्तिकता मन की स्वतंत्रता या विचार की स्वतंत्रता से अधिक हठ, पूर्वग्रह और भ्रम को छोड़ने के इंकार पर निर्भर करती है। युवा लोग इस चपेट में आने के योग्य होते हैं क्योंकि उन्हें अपने व्यवहार के स्वभाव और उसके परिणाम की अधूरी समझ होती है, उनके आध्यात्मिक अस्तित्व और उनके परिणाम स्वरूप आध्यात्मिक आवश्यकताओं की जानकारी बहुत सीमित है और उनकी महत्वपूर्ण और अमहत्वपूर्ण बातों के बीच संतुलन की समझ की कमी है जो कि पूर्ण मानव अस्तित्व की विशेषता है। इसलिए वे वैज्ञानिक सुगमता से पुरानी अवधारणाओं के रूप में प्रस्तुत सत्य से धोखा खा जाते हैं, हालांकि वैज्ञानिक जानते हैं (और कहा है) कि वे सिद्धान्त से आधिक कुछ नहीं है। इसी कारण से आज सत्यता के विषय में शिक्षण और सीखना अन्य कर्तव्यों और दायित्वों से अधिक महत्वपूर्ण है।

यदि इस महत्वपूर्ण को लिया नहीं गया तो हम भविष्य में बिगड़ती स्थिति को दूर करने में असमर्थ रहेंगे। उन बुरे परिणामों में से कुछ पहले से ही हमारे साथ है। यह हमारे वर्षों से दुख का प्रमुख करण हो सकता है। हम वह वर्षों से दुख का प्रमुख कारण हो सकता है। हम वह अभाग्यशाली पीढ़ी है जो कि अच्छे शिक्षकों से वंचित किए गए हैं- शिक्षक जिन्होंने दिमाग और मन की आवक एकता और सद्वाव प्राप्त किया वास्तव में स्वयं को अपने गहरे विचारों और भावनाओं के रूप में जानते थे, दूसरों को पढ़ाने में वांछित थे और दूसरों की प्रसन्नता को बढ़ावा देेने के लिए और उनके कल्याण के लिए पीड़ा उठाने को तैयार थे। हम आशा करते हैं कि इस तरह के महान शिक्षक हमारे बीच से पैदा हों और वास्तव में लोगों को अनेक वर्तमान नैतिक और आध्यात्मिक पीड़ा से बचाने का मानवीय अभियान शुरू करेंगे।

यदि ऐसा किया जाता है तो वर्तमान और भविष्य की पीढ़ियां अपने जीवन के महान प्रश्नों के बारे में सोच और तर्क में स्थिरता प्राप्त कर लेगें। वे झूठी मान्यताओं और भ्रम के आकर्षक का विरोध कर सकेंगे और इस प्रकार प्रकृति और अपने जीवन के उद्देश्य पर लगातार शक की चिंता से बच सकेंगे। कम से कम आंशिक रूप से ही सही पर वे नास्तिकता और आविश्वसनीयता से प्रतिशिक्षित किए जाऐंगे।

मास मीडिया (समूह साधन) लगातार विचारों, जीवन शैली और चरित्र के प्रकार को दर्शाता है जो कि स्वयं भोग और स्वयं परित्याग को प्रोत्साहित करते हैं, इस प्रकार यह बदमाशों या नवीनतम उन्माद है, बनने का प्रयास करते हैं। वे तत्काल संतुष्टि और प्रसन्नता भी चाहते हैं और अपने दिमाग या अपनी खेती के लिए परेशान नहीं होते, परन्तु तुच्छता और महत्व की कमी से अश्लील और भद्दा दिखावा पसन्द करते हैं।

लोग रोमांचक और आर्कषक विचार, तरीके जल्दी अपनाते हैं, वे नहीं जानते इसलिए भी अधिक अजीब और अजनबी और अन्तत कुल उदासीनता का मामला बन जाते हैं। इस प्रकार हम प्रभावी तरीके ढूंढ पाऐंगे, जो अंधेरे से दूर प्रकाश की ओर चिन्ता से दूरे शांति की ओर नेतृत्व करेंगे।

युवा लोग उत्तेजनीय और अतिसंवेदनशील होते हैं वे असीम स्वतंत्रता लालसा और असंतुष्ट भूख और इच्छाओं बहुतायत है, उनकी पीढ़ी उदार के कारण दिल और दिमाग असंतुलन और आसाम्यता है, जो उन्हें नास्तिकता की ओर नेतृत्व कर सकता है। जिनके लिप्त के जागने में दुख या कंजूसी आती है। हालांकि मामूली या संक्षिप्त वे तत्वकाल प्रसन्नता है वे सुख और आनन्दों पर कूदते हैं जो कि शैतान उन्हें दिखाता है, और इसलिए उनकी अपनी आपदा के लिए तैयार है वह नास्तिकता की आग की उड़ान भरते हैं जैसे पतंगे प्रकाश से आकर्षित होते हैं।

जब आत्मा मर चुकी होती है, तो हृदय भी मर जाता है, दया ओझल हो जाती है और मन व्यग्र के कारण उलझन में हो जाता है, लोग अपने गुज़र सनक या बुरी धुनी के असहाय शिकार हो जाते हैं, जिसको भी कामुक जूनून और कामुकता के साथ जूनून सवार हो जाता है, उसे लगातार संकट और परिवर्तन दिशा को भुगतान होगा। हर नए फैशन की सराहना में यदि एक एक विचारधारासे सत्य है तो घुमाव के लिए एक और भ्रम से शक करने के लिए ये फिर वापिस हो कर उन्होंने उसी रूप में सोचा है। वे विश्वास में आकर्षण पाते हैं ये दिल का स्थाई या तो एक रोगी में होगा या कर्तव्य का एक सत्य भावना में होगा।

ना ही उन्हें नैतिक शिक्षा, आत्म अनुशासन, चिंतन आत्मा के सुधार या अपनी नैतिकता और शिष्टाचार को मज़बूत में कोई योग्य मिल जाएगा, जो पूर्ण तुच्छ बात और आत्मा अतिभोग के आदि हैं, वे हमारे पूर्वजों की किसी भी उपलब्धि से इन्कार करते हैं और जान बूझ कर अनभिज्ञ रहते हैं। पुण्य और प्रसन्नता के बीच आध्यात्मिक और विवेक के बीच एक संतुलन है।

प्रत्येक को नहीं बचाया जा सकता, इसलिए हमारी बुरी आदतों को शक्ति से नहीं बनने की स्थापना की गई है, उन युवा लोगों को शिक्षित करने के प्रति हमारे प्रयासों को निर्देश देना चाहिए जो इस प्रणाली में करने के लिए हमारा अस्तित्व है और निर्भर के मौलिक सिद्धान्तों द्वारा सिखाया जाना चाहिए। उन्हें व्यवस्थित किया जाना चाहिए जो लोग इस प्रयास में अपने समुदाय या राष्ट्र के लिए विफल दिखाई दें, नैतिक और आध्यात्मिक भ्रष्टाचार में डूब कर अब जब तक यह बचाया जा सकता है तब तक ये जारी है।

नास्तिकता का एक और कारण सभी दबाव और मनाही की जानबूझ कर इंकार है। ऐसी अनिश्चय और अनियंत्रित लिप्ति (ख़ास कर फ्रांस) ने मुसलमान समाज को पश्चिमी यूरोप से अस्तित्वता के गिरे हुए रूप के माध्यम से केन्द्रित किया जिसने स्वतंत्रता के पक्ष में पारंपरिक मूल्यों और औपचारिक धार्मिक शिक्षा से इंकार किया। सिद्धान्त यह है कि व्यक्तिगत अनुभव से व्यस्क बन सकेंगे (और बन सकते थे) और उदार तथा नैतिक व्यक्तियों में विकसित हो जाएंगे।

यह सिद्धान्त परवाह किए बिना जहां लागू हो गया है वहां समझदारी का, चिंता या जतन का और दयालु इंसान का उत्पादन नहीं किया गया। वास्तव में यह उनके परिवारों परम्पराओं से अलग व्यक्तियों द्वारा दुख और तेज़ स्वार्थ है और यहां तक की स्वयं से भी। यह अनुयायी अपनी नैतिक्ता और स्वाद विकसित नहीं करते, बल्कि उथले नीजि जीवन जीते हैं और कोई सत्य खोजने का प्रयास नहीं करते। संक्षेप में उन्हें केवल भ्रामक आशा है कि एक पल के लिए सुख मिल सकता है और वे उसी पल के लिए जीवित है।

इनमें से कुछ विचार पूरे विषय को कवर नहीं करते हैं। अभी तक मुझे आशा है कि भविष्य में मार्गदर्शक अध्यापकों, विवेक और दूरदर्शिता के नेताओं के साथ उन पर विचार करते समय फैल विचलन और नास्तिकता रोकने की कोशिश करेंगे। मैंने इस समय में संक्षिप्त जानकारी प्रस्तुत की है और प्रार्थना है कि कुछ लोगों को सच करने लिए सतर्क करके स्वयं का जीत सकते और यह पाने का अर्थ है कि हमें क्या अच्छा करना है।

जिहाद क्या है?

जिहाद एक अरबी शब्द है, जिसका अर्थ सभी प्रकार की कठिनाईयों का सामना करने के लिए प्रयास करना, कठिन प्रयास करना है, इस्लाम के बाद इसका अर्थ ईश्वर के मार्ग में प्रयास करना हो गया है।

कुरआन लगभग जिहाद के बराबर स्तर का है, इस्लाम के साथ एक महत्वपूर्ण इस्लामी कर्तव्य, ईश्वर के सबसे प्रतिष्ठित कर्मचारी, चाहे पैग़म्बर हो या संत, अविश्वासियों के विरूद्ध और अपने स्वंय के कामुख स्वयं के विरूद्ध जिहाद के माध्यम से अपना गौरव प्राप्त किया है, जिहाद ईश्वर की दृष्टि में एक महान मूल्य है, क्योंकि वह हमें प्रयास करने के लिए बनाता है इसलिए कि हम अपने सही अस्तित्व को खोज सकते हैं और दूसरों को भी ऐसा करने के एि प्रोत्साहित कर सकते हैं।

ईश्वर ने कुरआन में फरमायाः-

“मुसलमानों में से वे लोग जो बिना किसी कारण के घर बैठे रहते हैं और वे जो अल्लाह के मार्ग में जान और माल से जानतोड़ कोशिश करते हैं, दोनों की हैसियत समान नहीं है। अल्लाह ने बैठने वालों की अपेक्षा जान और माल से जिहाद करने वालों श्रेणी बड़ी रखी है। यद्यपि हर एक के लिए अल्लाह ने भलाई ही का वादा फ़रमाया है, मगर उसके यहां जानतोड़ प्रयास करने वालों की सेवाओं का बदला बैठने वालों से बहुत अधिक है।”(4:95)

लोगों के पास विविध योजनाऐं हैं और उन योजनाओं में उनके उद्देश्यों दूसरों को उनकी स्थिति का मूल्यांकन करने की अनुमति देते हैं, परन्तु हमारा अंत क्या है? जो कुछ भी हमारा पद या व्यवसाय है, प्रत्येक व्यक्ति तरल पदार्थ की एक बूंद से बनाया गया है और एक लाश के रूप में समाप्त हो जाएगा।

यह सब चीजों से सह है परन्तु पैग़म्बरियत के कार्य है न्याय के दिन इसके इनाम कई गुणा है, क्योंकि इसमें कुछ आध्यात्मिक गुण सम्मिलित है, जो मृत्यु दर से नहीं है, एक पैग़म्बर को ईश्वर को जानने वाले सक्षम लोग और जिससे अनन्त काल तक पहुंचते हैं की तलाश है। हम शरीरिक भ्रष्टाचार और विघटन के अधीन के लिए निर्माणित नहीं किया गया था। हमारी गहरी स्वभाविक प्रवृति अनन्त काल की ओर है और पैग़म्बर जो सावधान शिक्षित और हमें इस प्रवृत्ति कार्य सौंपा गया है और जिहाद इस पहलू को व्यक्त करता है, इसके महत्व के कारण को कुरआन अलग करता है, उन मुस्लिम को जिन्होंने पैग़म्बर के लिए कसम खाई थी कि वे जिहाद प्रदर्शन करेंगेः “ऐ नबी, जो लोग तुम से बैअत कर रहे थे, वे वास्तव में अल्लाह से बैअत कर रहे थे। उनके हाथ पर अल्लाह का हाथ था। जब जो प्रतिज्ञा को भंग करेगा उसके प्रतिज्ञा भंग करने का वबाल उसके अपने ही पर होगा और जो उस प्रतिज्ञा को पूरा करेगा जो उसने अल्लाह से की है, अल्लाह जल्द ही उसको बड़ा बदला प्रदान करेगा। (48:10)

इस छंद (आयत) से पता चलता है कि जब भविष्यदवक्ता ने मुसलमानों को बताया वे मक्का में लौटें और तीर्थयात्रा (हज) करें, तो वे मक्का के लिए तीर्थयात्रियों के रूप में निकल पड़े। परन्तु जब मैं हुदाएबिया पहुंचे, मक्का के (शिर्क) खुदा के साथ सम्मिलित करने वालों ने उन्हें पास जाने के लिए इंकार कर दिया और युद्ध की धमकी दी। यह अप्रत्याशित आपत्ति ने विश्वासियों को झटका दिया, जो इस्लाम के सम्मान के रूप में यह भारी चैंका माना गया, वे नहीं जानते कैसे उत्तर दे, “हज़रत उस्मान इब्ने अफ़्फान” को संदेश वाहक बना कर भेजा मक्का की पुनः पुष्टि के लिए कि वे केवल तीर्थ यात्रा करवाने और लिहाजा शान्ति के लिए आए थे।(86) मक्का के प्रमुखों ने हज़रत उस्मान को कैद किया और उनकी मृत्यु की अफवाह फैला दी, यह समाचार मुसलमानों को क्रोधित कर गई, पैग़म्बर ने मांग की वे उनका हाथ पकड़ कर राजभक्ति की प्रतीक्षा करें। अल्लाह ने उसी समय यह आयत (छंद) उतारीः-

“वास्तविकता यह है कि अल्लाह ने ईमान वालों से उसकी जान और उनके माल जन्नत (स्वर्ग) के बदले ख़रीद लिए हैं। वे अल्लाह के मार्ग में लड़ते और मारते और मरते हैं, उनसे (जन्नत का वादा) अल्लाह के ज़िम्मे एक पक्का वादा है, तौरात और इन्जील और कुरआन और कौन है जो अल्लाह से बढ़ कर अपने वादे को पूरा करने वाला हो? अतः खुशियां मनाओ अपने उस सौदे पर जो तुम ने अल्लाह से चुका लिया है, यही सबसे बड़ी सफ़लता है। (9:111)

यह सौदा सर्वोच्च गौरव है, क्योंकि जो कोई भी इसमें प्रवेश करेगा, वे ईश्वर से सीधे संबोधित किया जाएगा।

संदेशवाहक ने कहाः “एक आंख एक दिन की डयूटी के लिए खुली रखना, पूरी प्रकार ईश्वर के कारण में एक पास के माध्यम से शत्रु घुसपैठ के खतरे के विरूद्ध है, संसार और इसकी सभी सामग्री के मालिक है।(87) इस हदीस से हम यह परिणाम निकाल सकते हैं कि ईश्वर के कारण के लिए उस खतरे से एक दिन के लिए सचेत रहना, जो कि किसी समुदाय को घटित करे। काबे को पाने से अच्छा है, क्योंकि काबा दुनिया की चीजों में से है।

एक और हदीस हमें बताती हैः “एक अच्छे कार्य का मुआवजा जिहाद के अलावा मौत के समय काट दिया जाता है, जिहाद का पुरस्कार, न्याय के दिन बढ़ता रहता है। इसके अलावा ईश्वर उन लोगों को क़ब्र में पूछ ताछ से मुक्त कर देता है जो उसके मार्ग में प्रयास करते हैं।

जिहाद के दो पहलू हैः कामुख इच्छाओं पर काबू पाने के लिए और बुरे झुकाव के लिए लड़ाई (बड़ा जिहाद) और सम्मान उद्देश्य प्राप्त करने के लिए दूसरों को प्रोत्साहित करना (छोटा जिहाद) हैं मुस्लिम सेना शत्रुओं को हराने के बाद मदीना वापिस आ रही थी, जब संदेशवाहक ने उनसे कहाः “हम एक अधिक छोटे जिहाद से लौट रहे हैं।” जब साथियों ने पूछा बड़ा (महान) जिहाद क्या है, तो उन्होंने समझाया यह कामुख स्वयं के साथ लड़ाई करना है।(88)

जिहाद का उद्देश्य पास के विवशवासियों को शुद्ध करना है। इसलिए कि वे सच्ची मानवता प्राप्त कर सकें। पैग़म्बरों को इस उद्देश्य के लिए भेजा गया थाः “जिस प्रकार (तुम्हारा इस चीज़ के कल्याण हुआ कि) हम ने तुम्हारे बीच स्वयं तुम में से एक रसूल भेजा जो तुम्हें हमारी आयतें सुनाता है, तुम्हारे जीवन को सवांरता है, तुम्हें पुस्तक और तत्वदर्शिता की शिक्षा देता है, और तुम्हें वे बातें सिखाता है जो तुम न जानते थे।”(2:151)

हम बच्चे माल की भांति है जिस पर पैग़म्बरों ने कार्य किया और हमारे दिलों और कानों से सील (मुहर बन्द) हटाने और हमारी आंखों से पर्दा उठाने के द्वारा उन्होंने हमें शुद्ध और परिष्कृत किया। जो कि ईश्वर के अस्तित्व और एकता के संकेत है, और चीजों, और घटनाओं की सूक्ष्म वास्तविकता में घुस सके। केवल पैग़म्बर ही मानवता के उस उच्च स्थिति तक मार्गदर्शित कर सकते हैं, जिसकी ईश्वर को आशा है।

सांकेतिक शिक्षण करने के अतिरिक्त, पैग़म्बर ने हमें पुस्तक और बुद्धि में भी शिक्षित कया है, क्योंकि कुरआन अंतिम पैग़म्बर पर अंतिम रहस्योदघाटन था। जब ईश्वर शास्त्र की बात करता है तो उसका अर्थ कुरआन होता है और सुन्नत जब वह बुद्धि की बात करता हैं इसलिए यदि हम सही ढंग से निर्देशित होने की आशा करते हैं तो हमें कुरआन और पैग़म्बर की सुन्नतों का पालन करना ही होगा।

पैगम़्बर हमें वो भी सिखाते हैं जो हम नहीं जानते जैसे क स्वयं को पाप से युद्ध करना है और हम न्याय के दिन तक उनसे सीखते रहेंगे। उनके तरीके का पालन करके कई महान मुसलमान संत बन गए। उनमें से एक हज़रत अली (रजि.) ने कहा कि इस्लाम के स्तम्भों पर उनका विश्वास इतना मजबूत था कि उनके निश्चय में वृद्धि नहीं होगी चाहे अदृश्य से पर्दा हटा दिया जाए।(90) कहा जाता है कि हज़रत अब्दुल कादिर जिलानी रह. को सातवें आसमान के रहस्यों की भी अंर्तदृष्टि थी, ये और कई अन्य जैसे कि हज़रत फुजैल इब्न इयाज, हज़रत इब्राहीम इब्ने आदम, और ब्रिश अली खाफी, पर ईश्वर पैग़म्बरियत भेज सकता था, यदि उसने अंतिम पैग़म्बर को पहले ने भेजा होता।

पैग़म्बर के मार्गदर्शन के माध्यम से हमारे बौद्धिक क्षितिज से अज्ञान के काले बादल हटा दिए गए हैं और कई वैज्ञानिक और तकनीकी विकास होंगे, उस प्रकाश से जो वह ईश्वर से लाए थे।

जिहाद, भविष्यदवक्ताओं की विरासत है और पैग़म्बरियत लोगों को ईश्वर की कृपा तक ऊपर उठाने का लक्ष्य है। यह भविष्यदवक्ता मिशन जिहाद कहा जाता है क्योंकि इसका अर्थ भविष्यदवक्ता मिशन जिहाद कहा जाता है क्योंकि इसका अर्थ सत्य का साक्षी बनना है। जो लोग जिहाद करते हैं ईश्वर के मार्ग में वहन करके अस्तित्व और एकता के साक्षी बनेंगेः “अल्लाह ने स्वयं इस बात की गवाही दी है कि उसके सिवा कोई खुदा नहीं है और फरिश्ते और सब ज्ञानवान भी सच्चाई और न्याय के साथ इस पर गवाह है कि उस बलशाली गहरी समझ वाले के सिवा वास्तव में खुदा नहीं है।” (आले इमरान 3:18) ऐसे लोग स्वर्गीय अदालत में इसी सत्य के गवाह बनेंगे जहां अविश्वासियों के मामले का निर्णय किया जाएगा।

ईश्वर अपने अस्तित्व और एकता का गवाह स्वयं है, और जिन लोगों ने ज्ञान का उच्च स्तर प्राप्त कर लिया है, वे इस गवाही की सच्चाई को जकड़ हैं। फ़रिश्ते (दूत) इस बात के गवाह हैं, क्योंकि वे स्वभाव में बिल्कुल शुद्ध हैं। ठीक उनकी भांति जो ज्ञान के साथ संपन्न है, यहां तक कि यदि हर कोई ईश्वर के अस्तित्व और एकता से इंकार करे तो भी इन समूहों की गवाही इस सत्य की स्थापना करने के लिए पर्याप्त है।

जो इस सत्य के गवाह (साक्षी) हैं उन्हें इसे फैलाने के लिए दुनिया भर में यात्रा करनी चाहिए। यह पैगम्बरों का कर्तव्य था और यह हमारा कर्तव्य भी होना चाहिएः “ये सारे रसूल खुश खबरी देने वाले हैं और डराने वाले बना कर भेजे गए थे ताकि उनके भेज देने के बाद लोगों के पास अल्लाह के मुकाबले में कोई तर्क न हरे और अल्लाह हर हाल में प्रभावशाली और तत्वदर्शी है।” (लोग नहीं मानते तो न मानें) मगर अल्लाह गवाही देता है कि ये नबी की कुछ उसने तुम पर उतारा है अपने ज्ञान से उतारा है और इस पर फ़रिश्ते भी गवाह है, यद्यपि अल्लाह का गवाह होना बिल्कुल काफ़ी है।”(अल-निसा 4:165-166)

ईश्वर ने हर एक राष्ट्र से एक व्यक्ति को चुना और उसे पैग़म्बर नियुक्त किया। पैग़म्बर हज़रत आदम के समय से मानव इतिहास के हर अंधेरे युग को पैग़म्बर के संदेश द्वारा प्रबुद्ध किया गया। यह हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) के समय तक जारी रहा, जो कि सब लोगों की बौद्धिक और आध्यात्मिक क्षितिज को सूचित करने के लिए भेज गए थेः “ऐ नबी (मुहम्मद स.अ.व.) हम ने तुम को गवाही देने वाला शुभ सूचना देने वाला और सावधान कर देने वाला बना कर भेजा है।” (अल-फतह 48:8)

पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) का कुरआन में पैग़म्बर के रूप में वर्णन है। निश्चित लेख का उपयोग उन्हें अन्य सभी पैग़म्बरों से अलग करता है और इंगित करता है कि वह उत्तमता से अधिक पैग़म्बर है। उन्हें सभी निर्माण, पशुओं, पौधों और निर्जीव चीजों के लिए एक वरदान के रूप में भेजा गया।

ईश्वर ने कुरआन के कई छंदों(आयतों) में हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) को सीधे भाषण दिया है और कहा हैः “हम ने तुम्हें भेजा है।” इसका अर्थ है कि वह पैग़म्बर हैं जो ईश्वर के अस्तित्व और एकता की गवाही देने के लिए ईश्वर द्वारा भेजे गए हैं। उसने इस कार्य को अज्ञानता के समय किया जब लगभग हर कोई इस सच्चाई से इंकार कर रहा था। धीरे-धीरे उनके अनुयायियों में वृद्धि हुई जब तक के इस सत्य के झण्डे के वैश्विक पदाधिकारी नहीं बन गए। पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) ने उन लोगों को इस दुनिया और अगली में सुख की शुभ सूचना दी जो अच्छा करते हैं और उन्हें चेतावनी दी जो बुराई करते हैं। ऐसा करने में उन्होंने जिहाद का प्रदर्शन किया।

ईश्वर ने प्रत्येक लोगों पर एक पैग़म्बर भेजा है जिसका अर्थ है कि सभी को पैग़म्बरियत का थोड़ा विचार तो है। पैग़म्बरियत की गतिविधि का वर्णन करने के लिए जिहाद शब्द का प्रयोग सभी आस्तिक के दिलों में इतने गहरे तरह से उत्कीर्ण है कि वे सब सत्य के प्रसार और इस प्रकार दूसरों के मार्ग दर्शन की जिम्मेदारी को गहरे रूप से आभास करते हैं।

कमतर जिहाद, जो आम तौर पर ईश्वर के कारण के लिए लड़ाई के रूप में समझा जाता है, वह युद्ध के मैदान में केवल वास्तविक लड़ाई करने का उल्लेख नहीं करता, बल्कि यह व्यापक है क्योंकि यह बोलने से लेकर वास्तविक लड़ाई तक सब कुछ सम्मिलित करता है, बशर्ते कार्यवाही ईश्वर के लिए हो। हर व्यक्ति या सांप्रदायिक कार्यवाई चाहे कितनी छोटी या बड़ी हो, मानवता के लाभ के लिए ली गई, कमतर जिहाद के अर्थ में शामिल है।

जबकि कमतर (छोटे) जिहाद सभी सामग्री सुविधाओं को जुटाने पर निर्भर करता है और बाहरी दुनिया में प्रदर्शित किया जाता है, इससे अधिक जिहाद स्वयं के विरूद्ध अपने नीजि कामुक से लड़ना है। जिहाद के ये दो रूप एक दूसरे से अलग किए जा सकते हैं, केवल उनके लिए जो शारीरिक स्वयं को जीत लेते हैं वही कमतर (छोटे) जिहाद कर पाऐंगे, जो बदले में हमें अधिक बढ़ कर जिहाद में सफलता देने में मदद करेगा।

संदेशवाहक ने हमें दोनों प्रकार के जिहाद का प्रदर्शन सिखाया और सत्य का प्रचार करने वाले सिद्धान्तों की स्थापना की जिसका हमें न्याय के दिन तक पालन करना है। उनके अभिनय का तरीका बहुत व्यवस्थित था। वास्तव में ये उनकी पैग़म्बरियत का एक और साक्ष्य है और व्यवहार में ईश्वर के मार्ग का पालन करने का एक अदभुत उदाहरण है।

अपनी पैग़म्बरियत के पहले वर्षों में संदेशवाहक काबा में नमाज पढ़ते थे। ऐसे कर के ईश्वर से अच्छा पुरस्कार पाने की आशा के साथ साथ उनका पहला इरादा युवा बच्चों में सत्य का प्रचार करना था। पर उन तब पहुंचना असंभव था। यह जानते हुए की कार्यवाही शब्दों से अधिक बल से बोलती है, उन्होंने काबा पर प्रार्थना करनी शुरू कर दी। उनकी जिज्ञासा जागने के बाद, उन्होंने पूदा कि वह क्या कर रहे हैं, और इसलिए उन्हें उपदेश देने का एक अच्छा अवसर दे दिया।

प्रार्थना करते समय पैग़म्बर पर कई बार हमला किया गया। उनके साष्टंग के अंर्तगत अबू जेहल ने उन्हें बड़े पत्थर से मारने की योजना बनाई। अबू जेहल ने पत्थर ऊपर उठाया ताकि उसे पैग़म्बर पर फेंक सके, परन्तु फिर वह कांपना शुरू हो गया और भय से पीला पड़ गया, उसके हाथ उसके सिर के ऊपर स्थिर ही रह गए। जब उससे पूछा गया कि क्या हुआ था तो उसने कहा कि एक भयानक राक्षक उसके और पैग़म्बर के बीच आ गया और उसने लगभग उसे निगल ही लिया था।(91)

दूसरे अवसर पर जब पैग़म्बर प्रार्थना कर रहे थे, तो “उकबा इब्ने अबी मुएत” ने पैग़म्बर के गले पर अपनी पगड़ी लपेट कर उनका गला घोटने का प्रयास किया। इसको सुन कर हज़रत अबुबक्र (रजि.) घटना के स्थान पर पैग़म्बर को बचाने के लिए भागे ओर चिल्लाए “क्या तुम एक आदमी को केवल इसलिए मारना चाहोगे कि वह कहता है कि “मेरा स्वामी अल्लाह है?” ये हज़रत मूसा अलैहि. के समय एक विश्वासी द्वारा बोले गए शब्दों की गूंज है, जो उन्हें उन लोगों से बचाने भागा जो उन्हें मारना चाहते थे।

यदि ईश्वर ने पैग़म्बर को बचाया न होता तो वह इन हमलों में किसी में भी शहीद हो सकते थे। अपनी जान के ख़तरे पर भी उन्होंने खुलेआम, सच का उपदेश दिया। हज़रत अबूबक्र (रजि.) अपने घर की खिड़की से जोर-जोर से कुरआन पढ़ते थे। जो उसे सुनते थे वे उनके पास इकट्ठे हो जाते थे। उनके पढ़ने ने इतने लोगों को आकर्षित किया कि मक्का के सरदार ने उन्हें यह कार्य बंद करने को कहा। इब्ने दगिन्नाह जिन्होंने हज़रत अबूबक्र (रजि.) की सुरक्षा बढ़ा दी थी, उन्हें वह खण्डित करनी पड़ी। हालांकि तब भी हज़रत अबूबक्र (रजि.) अपने पढ़ने को जारी रखने के लिए निश्चित थे(93)

चाहे शब्दों या गतिविधियों के माध्यम से साथियों (सहाबियों) ने जिहाद करना कभी नहीं छोड़ा क्योंकि वे अच्छी प्रकार जानते थे कि उनका व्यक्तित्व और सामप्रदायिक एकता, उनके हिजाद में भाग लेने पर निर्भर करती थी। इसके अलावा वे समझते थे कि एक मुसलमान, ईश्वर से सुरक्षा अपने धर्म की मदद करके ही सुरक्षित कर सकता है।

“ऐ लोगों जो ईमान लाए हो, यदि तुम अल्लाह की सहायता करोगे तो वह तुम्हारी सहायता करेगा। और तुम्हारे क़दम मज़बूत जमा देगा।”(47:7) दूसरे शब्दों में जो लोग भटकने से सुरक्षा चाहते हैं, उन्हें अपना एक मात्र उद्देश्य ईश्वर की राह में कड़ी कोशिश करना बना लेना चाहिए।

यह समझने के लिए कि यह कैसे किया जाता है हमें यह याद करना होगा कि कैसे पैग़म्बर और उनके साथी स्वयं को संचालित करते थे। जब स्थिति सहन शक्ति से बाहर हो गई कुछ मुसलमानों को अबिसीनिया जाने की आज्ञा दे दी गई। यह देशान्त निवास में सभी मुसलमान जो पीछे रह गए या आगे निकल गए वे वापिस मदीना से मक्का आ गए।

यहां दोनों पहले इस्लामी राज्यों और एक नई प्रकार के जिहाद के लिए नीवं रखी गई थी। एक खाते में मौजूद वास्तविकता को लेना था, कभी कभी मुसलमान दौड़ते और अन्य समय पर वे धीरे-धीरे चलते हैं, दूसरे शब्दों में जिहाद को अपनी रणनीति की आवश्यकता है। मुसलमानों को उनके उत्पीड़कों के विरूद्ध जवाबी कार्यवाही नहीं थी, जब तक ईश्वर उन्हें मदीना में निम्नलिखित छंद (आयत) द्वारा ऐसा करने की अनुमति न दे देतेः “अनुमति दी गई उन लोगों को जिनके विरूद्ध युद्ध किया जा रहा है, क्योंकि वे उत्पीड़ित है और अल्लाह को यकीनन उनकी सहायता की सामथ्र्य प्राप्त है।” ये वे लोग है जो अपने घरों से बिना मतलब निकाल दिए गए सिर्फ इस कसूर पर किए वे कहत थे “हमारा रब अल्लाह है।” यदि अल्लाह लोगों को एक दूसरे के द्वारा हटाता न रहे तो खानकाहें और गिरजा और उपासना गृह और मस्जिदें जिनमें अल्लाह का अधिकता से नाम लिया जाता है। सब ढा दी जाऐं। अल्लाह अवश्य उन लोगों की सहायता करेगा जो उसकी सहायता करेंगे। “अल्लाह बड़ा बलवान और प्रभुत्वशाली है। (अलझ 22:39-40)

वर्ष के हर प्रकार के वाहन उत्पीड़न करने के बाद विश्वासियों ने उत्साह के साथ प्रतिक्रिया व्यक्त की, केवल कपटियों ने स्वयं उपस्थित के लिए इंकार कर दिया। जब पैग़म्बर ने मुसलमानों को मक्का वालों से लड़ने के लिए बुलाया, कपटी या तो अपने घरों में आलस्य से रहे या रणभूमि से भाग गए क्योंकि वे अपनी कामुक स्वयं और आधार इच्छाओं के दास थे इसके विपरित सभी ईमानदार मुसलमान रणभूमि में गए जब भी उन्हें लड़ने के लिए बुलाया गया, क्योंकि जिहाद का अर्थ ईश्वर और अनन्त काल तक पहुंचना है, इसलिए वे जोशीलों के रूप में उनके उत्तर उत्साहित थे यदि वे स्वर्ग के लिए आमंत्रित किए गए थे।

हर कोई अप्रिय मृत्यु समझता है और साथियों में से कुछ के कोई आपवाद नहीं थे, जैसा कि हम ने कुरआन में पढ़ाः “तुम्हें लड़ाई का आदेश दिया गया है और वह तुम्हें ना-पसंद है- हो सकता है कि एक चीज़ तुम्हें ना-पसंद हो और वही तुम्हारे लिए अच्छी हो, और हो सकता है कि एक चीज़ तुम्हें पसन्द हो ओर वही तुम्हारे लिए बुरी हो। अल्लाह जानता है। तुम नहीं जानते।”(2:216) ऐसी ना-पसंद एक प्राकृतिक मानव विशेषता है, परन्तु वास्तव में मुसलमानों ने ईश्वर और उसके पैग़म्बरों की बात सदैव मानी और बदले में ईश्वर और उसके पैग़म्बरों की बात सदैव मानी और बदले में ईश्वर ने उन्हें सफलता और जीत दी। यह जीत विश्वासियों को नई ताकत और ऊर्जा देती है और जबकि पड़ोसी जनजातियों के लिए मक्का वाले महान संकट का कारण बने।

मुसलमान ने अपना विश्वास ज़ोरदार और सक्रिय जिहाद के माध्यम से रखा, जो धीरे-धीरे जिहाद का परित्याग करते हैं, वे निराशजनक मायूस हो जाते हैं, क्योंकि वे स्वयं भावना से वंचित और सत्य उपदेश करना बद कर दिया। जो लोग जिहाद में रहते है कभी अपना उत्साह नहीं खोते और सदैव अपनी गतिविधियों की क्षेत्र को बढ़ाने का प्रयास करते हैं। एक नए में हर अच्छे कार्य के परिणाम के बाद से मुसलमान अच्छे से वंचित नहीं हुएः “जो लोग हमारे लिए प्रयास करेंगे उन्हें हम अपने मार्ग दिखाऐंगे, और यक़ीनन अल्लाह अच्छे कार्य करने वालों ही के साथ है।” (अल-अनकबूत 29:69)

यहां कई अग्रणी पथ के रूप में सीधे पथ है यहां निर्माण के तैयार में सांस की संख्या रही है, जो उसके कारण के लिए प्रयास करते हैं, वे ईश्वर द्वारा इन पथों में से एक पथ के लिए निर्देशित किए जाते हैं और यहां गुमराही की ओर जाने से बचाए जाते हैं। जो कोई भी एक संतुलित जीवन रहता है, न ही अपने आवश्यकता और गतिविधियों न ही अपनी पूजा और अन्य धार्मिक पालनों में सीमा से अधिक होते हैं। इस तरह का संतुलन सही मार्गदर्शन का संकेत है।

हालांकि अविश्वासियों से लड़ाई में किए गए महान बलिदान वे फिर भी सब कम जिहाद का गठन है जिहाद का यह पहलू कम है जब अधिक जिहाद की तुलना में होता है। कम जिहाद कभी अंकना नहीं होता क्योंकि मुस्लिम को इस्लाम के नाम पर एक सैन्य अभियान में भाग लेने से सम्मानित या शहीदों की श्रेणी प्राप्त करने में सक्षम बनाता है। ऐसे शीर्षक स्वर्ग के द्वारा खोलते और ईश्वर की स्वीकृति को सुरक्षित करते हैं।

छोटे जिहाद में पूरी तरह से संभव के रूप में धार्मिक दायित्वों का निर्वाहन करने के लिए प्रयास होते हैं, जबकि बड़े जिहाद हमारी विनाशकारी चालकता और अंहकार, ईष्र्या, स्वार्थ, आत्मदंभ के रूप में उदयमी और सभी कामुक इच्छाओं के विरूद्ध लड़ने की आवश्यकता प्रदान करते हैं।

जो लोग छोटे जिहाद का परित्याग करे वे आध्यात्मिक गिरावट के लिए उत्तरदायी है, उनकी संसारिक कमज़ोरियों के लिए जोखिम के कारण है, परन्तु वे ठीक हो सकते है, शान और प्रेम का आराम और विजयी युद्ध से। वशीकरण मुस्लिम सैनिक आसानी से लौटेंगे क्योंकि वे सोच सकते हैं कि अब यह आराम करने और ऐसी चीजों में लिप्त का समय है। पैग़म्बर ने हमें चेतावनी दी थी उनके साथ जब एक समय मदीने से जीत कर लौट रहे थे, तब उन्होंने कहाः “हम छोटे जिहाद से बड़े जिहाद की ओर लौट रहे हैं।”

साथी (सहाबी) युद्ध के मैदान पर शेर की भांति भयानक थे और ईश्वर की पूजा में फ़कीरों के रूप में विनम्र और ईमानदार थे। वे रात का अधिक भाग ईश्वर की प्रार्थना में व्यय करते थे। एक बार जब लड़ाई के दौरान रात हो गई तो उनमें से दो बारी-बारी रक्षा करते। एक विश्राम करता था, जबकि दूसरा प्रार्थना करता था। इस स्थिति के बारे में जानकर शत्रुओं ने उन पर कई तीर चलाए, उनके तीर लग गया था और खून भी निकल रहा था, फिर भी उन्होंने प्रार्थना जारी रखी। जब प्रार्थना पूरी हुई तो उन्होंने अपने मित्र को जगाया जिसने विस्मय में पूछा कि उन्होंने उसे शीघ्र क्यों नहीं उठाया। उन्होंने कहाः “मैं सूरह अलकहफ पढ़ रहा था और उसमें मिली गहरी प्रसन्नता में हस्तक्षेप नहीं चाहता था।”(95)

प्रार्थना के दौरान साथी “परमआनन्द जैसी मूच्र्छता की स्थिति में चले जाते थे और कुरान इस तरह से पढते थे जैसे कि वह सीधा उन पर ही प्रकट हो रहा हो। इसलिए उनके शरीर पर तीर लगने से दर्द नहीं हुआ। जिहाद के अपने कम और अधिक पहलुओं के बारे में उनमें पूर्ण अभिव्यक्ति मिली।

पैग़म्बर ने जिहाद के इन दो पहलुओं को सबसे उत्तम प्रकारों से संयुक्त किया। उन्होंने युद्ध के मैदान पर स्मारकीय साहस प्रदर्शित किया। हज़रत अली (रजि.) सबसे साहसी मुसलमानों में से एक माने जाते हैं कि लड़ाई के सबसे महत्वपूर्ण क्षणों में साथी पैग़म्बर की पीछे शरण ले लेते थे। एक बार जब मुस्लिम सेना ने उल्टा अनुभव किया और हुनैन की लड़ाई थी पहले चरण में बिखरना शुरू हो गए और अपने पीछे हटते साथियों पर चिल्लाएः “मैं पैग़म्बर हूं यह कोई झूठ नहीं है मैं अब्दुल मुŸालिब का पोता हूं यह कोई झूठ नहीं है।” (96)

जब ईश्वर को पूजने की बात आई तो वह इतने ही समर्पित थे। वह अपन प्रार्थना में ईश्वर को भय और प्रेम से भस्म हो गए थे, जो लोग उन्हें देखते थे वे उनकी ओर महान कोमलता आभास करते थे, वह अक्सर लगातार कई दिन उपवास रखते थे, कभी कभी वह पूरी रात प्रार्थना करते थे, जिससे उनके पैर सूज जाते थे। एक बार जब हज़रत आयशा (रजि.) ने सोचा कि प्रार्थना में उनका हठ अत्याधिक था तो उन्होंने उनसे पूछा कि यह जानते हुए भी कि आप सारे गुनाहों से पाक हैं फिर आप स्वयं को इतना क्यों थकाते हैं तो हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) ने कहाः “क्या मुझे ईश्वर का एक आभारी दास नहीं होना चाहिए?” केवल यही उनका उत्तर था।(97)

पैग़म्बर इतने साहसी थे कि जब कोई मक्की लोग उन्हें और हज़रत अबूबक्र (रजि.) को खोजते हुए बहुत निकट आ गए, जब वे सौर गुफा में शरल ले रहे थे उन्होंने केवल यह कहाः (हज़रत मुहमम्द स.अ.व.) “डरो मत निश्चित रूप से ईश्वर हमारे साथ है।”(98) दूसरी ओर वह इतने दयालू थे कि वह जब भी कुरआन पढ़ते या सुनते थे तो रोने लगते थे, एक बार उन्होंने इब्ने मसूद से एक परिच्क्षेद सुनाने का अनुरोध किया। पर उन्होंने माफी मांगते हुए कहा वह उनको कुरआन नहीं सुना सकते, जिन पर कुरआन स्वयं (प्रकट) किया रहस्योदघाटित किया गया परन्तु संदेश वाहक ने बल दिया और कहा कि दूसरों के कुरआन सुनने में वे आनन्द लेते थे। इब्न मसूद ने सूरए अलनिसा सुनानी शुरू की ज बवह यहां तक पहुंचेः “फिर सोचो कि उस समय ये क्यो करेंगे जब हम हर समुदाय (उम्मत) में से एक गवाह लाऐंगे और इन लोगों पर तुम्हें अर्थात मुहम्मद (स.अ.व.) को वाह की हैसियत से खड़ा करेंगे।”(4:41) पैग़म्बर ने उन्हें रूकने को कहा ईश्वर के डर से जिसे वह और सहन नहीं कर सकते थे। इब्न मसूद बाक़ी कहानी सुनाते हैं “पैग़म्बर इतनी दरियादिली से आंसू बहा रहे थे कि मैंने पढ़ना बंद कर दिया।”(99)

पैग़म्बर उतने ही दयालू थे जितने कि वह साहसी थे। वह एक दिन में ईश्वर में कम से कम उत्तर बार माफी मांगते थे, और बार-बार अपने समुदाय को ईश्वर से क्षमा मांगने की आवश्यकता पर बल देते थे।(100)

जो बड़े जिहाद में सफल हो जाते हैं वे लगभग छोटे जिहाद में भी सफल हो ही जाते हैं, परन्तु इसका उल्टा सत्य नहीं है। हज़रत आयशा (रजि.) कहती हैं “एक रात पैगम्बर ने अपनी आधी रात की प्रार्थना के लिए मुझ से अनुमति मांगी, मैंने कहा, मैंने कहा, मैं आप की संगत के लिए जितना चाहूं लूं जो आप चाहते हैं मैं रात और दिन के बारी-बारी से आने में उन बुद्धिमानों के लिए बहुत निशानियां है।”(3:190) बार-बार सुबह तक आंसू ही बहाते रहे।

कभी-कभी वह अपनी पत्नी को जगाए बिना ही प्रार्थना करते के लिए जाते थे, क्योंकि वह उनकी नींद खराब नहीं करना चाहते थे। हज़रत आयशा (रजि.) बताती हैः

“एक रात जब मैं पैग़म्बर (हज़रत मुहम्मद स.अ.व.) को ढूंढने उठी और पत्नी की पास गए होंगे, इससे मुझे बहुत जलन भी हो गई। मैं दोबारा ढूँढने के लिए उठी तो मेरे हाथ अंधेरे में थे तब उनके पैर को छुआ, वह सजदे में थे और प्रार्थना कर रहे थे, वह कर रहे थे खुदा मुझे अपने क्रोध से प्रसन्नता से अपनी शरण में ले ले, मैं आपके अनुग्रह से आपकी शरण में आना चाहता हूं, आपकी दया से और दया पीड़ी में अपनी शक्ति से अपने अथक प्रयास कर रहा हूं, प्रशंसा के रूप में प्रशंसा करने के लिए भी उपयुक्त नहीं हूं।”(102)

अच्छी तरह से जानकार होने के कारण दायित्व को अपनी हर कार्यवाही का पालन करना चाहिए, उनके साथी ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया था इसके बाद मैं उनकी संगत के लिए उपयुक्त हो गया। कुछ शारीरिक रूप से उसके पास से अगले जन्म में विचार के व्यथित से अलग हो गया। उदाहरण के लिए तावबान अपनी भूख खो देने के बाद एक सैन्य अभियान में भाग लेने में असमर्थ था। पैग़म्बर की वापसी पर हर किसी के लिए बाहर गया और उसे पूरा किया। तावबान इतना धुंधला (पीला) था कि संदेशवाहक ने उनके स्वास्थ के बारे में पूछा तावबान ने कहाः

“हे पैग़म्बर मैं आप से जुदा होने जा रहा हूं इसके बाद के भय से ग्रस्त हो रहा हूं। आप पैग़म्बर हैं आप तो स्वर्ग में प्रवेश करेंगे, परन्तु क्या मैं भी इसके लिए उपयुक्त हो जाऊँगा यह पता नहीं और यदि खुदा मुझे मानता है तो मेरे लिए निश्चित रूप से मेरे विश्वास से बहुत अधिक ऊपर होगा। इस मामले में अपनी संगत में सदैव के लिए सक्षम नहीं हो जाऊँगा। मुझे पता है कि मैं यह सहन करने में सक्षम नहीं हो सकता। खुदा देख रहा है कि मैं इस दुनिया में आप से तीन दिन की जुदाई सहन नहीं कर सकता।”(102)

तावबान की चिंता से राहत मिली थी जब पैग़म्बर ने उनसे कहाः “तुम सदैव एक ही संगत में रहोगे जिससे तुम प्यार करोगे।” इस जीवन में किसी को प्रेम करना उदाहरण का अनुसरण है अर्थ है और अन्य लोगों की तुलना में साथियों से यह कराने के लिए चैकस (होशियार) रहे थे।

हज़रत उमर (रजि.) पैग़म्बर के परिवार के साथ सम्बंध स्थापित करने के लिए बहुत उत्सुक थे। उन्होंने सुना था कि उत्तरार्द्ध का कहना है कि इसके बाद वंश के सभी संबन्धों को छोड़ कर बेकार में अपने ही घर के लोगों के साथ रहना होगा। हालांकि पैग़म्बर ने हज़रत उमर (रजि.) का हाथ कई बार आयोजित किया और कहाः “हम सदैव साथ हैं (दोनों की भांति) और बाद में भी रहेंगे। हज़रत उमर (रजि.) की इच्छा थी कि वे यह संबंध बनाए। उन्होंने हज़रत फातिमा(रजि.) से शादी करके इस लक्ष्य को प्राप्त करने का प्रयास किया परन्तु वह केवल हज़रत अली (रजि.) से शादी करना चाहती थी। उन्होंने पैग़म्बर से अपनी बेटी हज़रत हफ़सा (रजि.) से शादी करी। खि़लाफत के कुछ वर्षों बाद और चाहा कि पैग़म्बर की बेटी उम्मकुलसुम (रजि.) से शादी करें परन्तु यदि हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) चाहें हों। बाद में एक पड़ोसी राजा की बेटी से शादी करी, परन्तु वह यही चाहते थे कि पैग़म्बर के घर से संबंध स्थापित रहे।

एक बार हज़रत हफ.सा (रजि.) ने हज़रत उमर (रजि.) से कहाः “मेरे प्रिये पिता समय समय पर विदेशी प्रतिनिधि लोग आते हैं और आपको दूतावास प्राप्त करते हैं तो आपको प्रत्येक के लिए नए नए कपड़े बदलने चाहिए।” हज़रत उमर (रजि.) इस सुझाव से हैरान थे और उन्होंने कहाः “मैं अपने दो मित्रों पैग़म्बर (हज़रत मुहम्मद स.अ.व.) और हज़रत अबूबक्र (रजि.) के साथ अलग संगत को कैसे सहन कर सकता हूं? मुझे तो उनके उदाहरण का कठोरता से पालन करना चाहिए तभी मैं उनके साथ भविष्य में हो सकता हूं।

अधिक से अधिक जिहाद में पैग़म्बर और उनके सफल साथियों का अपने परमेश्वर के प्रति समर्पण बहुत ही मज़बूत था। उन्होंने खुदा की प्रार्थना में अपना समय इतना व्यतीत नही किया, परन्तु यह मामला नहीं था कि क्योंकि उन्होंने अच्छी प्रकार से संतुलित जीवन का नेतृत्व किया।

वह अपने कर्मों के प्रति बहुत ही गंभीर थे। उन्होंने ईश्वर के लिए ही सब कुछ किया और स्वयं को लगातार अनुशासित करते रहे। एक समय जब हज़रत उमर(रजि.) शिक्षा दे रहे थे, उन्होंने अचानक स्पष्ट कारण के बिना कहाः “और अमर तुम एक अपने पिता की भेड़े चरवाने वाले चरवाहा थे।” प्रार्थना के बाद जब पूछा कि उन्होंने ऐसा क्यों कहा, उन्होंने उत्तर दिया मेरे दिमाग में आया कि मैं ख़लीफा हूं इसलिए गर्व आभास होने की बजाए डर लगा।” एक दिन उन्होंने देखा कि कोई अपनी पीठ पर बोरी ले जा रहा था, जब पूछा कि वो ऐसा क्यों कर रहा है तो उसने उत्तर दियाः “मैं अपने भीतर कुछ गर्व आभास किया तो मैं इसी गर्व से वांछित छुटकारा पाने के लिए ऐसा कर रहा हूं।” बाद में एक ख़लीफा इब्ने उमर अब्दुल अजीज ने अपने मित्र को पत्र लिखा और फिर उसे फाड़ दिया जब कारण पूछा गया तो उन्होंने समझाया मुझे स्वयं अपनी वाक्यपटूता पर गर्व था तो मैंने इसे फाड़ दिया।

केवल ऐसी ही सही आत्माऐं जिहाद प्रदर्शन में प्रभाव परिणाम उत्पन कर सकती हैं जिन लोगों ने गौरव, आत्मसम्मान और निष्ठाहीनता का त्याग नहीं दिया है, इसमें सबसे इस्लाम की क्षति के बहुत कारण हैं, मैं सोचता हूं कि ऐसे लोगों को वांछित परिणाम कभी प्राप्त नहीं होगा।

कुरआन के कुछ छंद या आध्याय दोनों प्रकार के जिहाद का वर्णन करते हैं। उनमें से एक हैः “जब अल्लाह की मदद आ जाए और विजय प्राप्त हो जाए। और (से नबी) तुम देख लो कि लो दल के दल अल्लाह के दीन (ईश्वरीय धर्म) में प्रवेश कर रहे हैं। तो अपने रब की प्रशंसा के साथ उसकी तसबीह (गुणगाण) करो, और उससे माफी की दुआ मांगो। बेशक वह बड़ा तौबा स्वीकार करने वाला है।” (110:1,2,3) जब विश्वासियों ने छोटे जिहाद में लड़ाई, उपदेश, अच्छाई और बुराई या अनिष्ठ का प्रदर्शन किया तो खुदा की मदद से जीत के आये थे और लोग जनसमूह की संख्या मैं इस्लाम में प्रवेश करने लगे। उस पल में सभी बलशलियों को आज्ञा है कि उनकी और अधिक महिमा करें, उनकी माफी की मांग की प्रशंसा करते हुए जैसा कि परमेश्वर की ओर से सफलता और विजय है, इबादत की और प्रशंसा की जानी चाहिए।

यदि हम शत्रु पर स्वयं अपनी कामुक को हमारी विजय के साथ हमारे गठबंधन से जीत सकते हैं तो पूरी प्रकार से जिहाद का प्रदर्शन किया जाएगा। हज़रत आयशा (रजि.) बताती हैं कि इन छंदो के रहस्योदघाटन के बाद पैगम्बर ने अक्सर यह प्रार्थना सुनाईः “ऐ अल्लाह मैंने तुम्हारी महिमा के साथ तुम्हारी प्रशंसा की, मैं आप से क्षमा चाहता हूं और अब पश्चाताप के लिए मेरी बारी है।”

पैग़म्बर की बातों से व्यक्त है कि एक साथ दो पहलुओं पर जिहाद किया जा सकता है उनमें से एक के बारे में कहाः “दो लोगों की आंखें नरक की आग के लिए गवाही नहीं देगी, एक तो वे लोग जो लड़ाई के मैदान पर सिपाही की मौत मरते हैं और दूसरे वे लोग जो खुदा के भय से और मौत के भय से खुदा को याद करके रोते हैं।”(105) पहले लोग मर कर छोटे जिहाद में लगे हुए हैं जबकि दूसरे व्यक्ति अधिक बड़े जिहाद में लगे हुए हैं। जो लोग अपने जिहाद में सफल होंगे वे नरक की पीड़ा से बच जाऐंगे।

हमें अपने सम्पूर्णता में जिहाद पर विचार करना चाहिए, जो एक बात कहें और फिर मुसलमानों को तम्बू में कुछ और कारण न हो परन्तु कठिनाई भी न हो। वे स्वयं अनुशासन नहीं कर सकते और इस्लाम के लिए बेसुरापन ले आए। दूसरी ओर जो लगभग एकान्त में रहते हैं और केवल योग के कुछ पहलुओं की तरह एक आध्यामिक प्रणाली के लिए इस्लाम को बढ़ावा देने के कार्य करने में उच्च आध्यात्मिक गंतव्यों को पाने का प्रयास करते हैं ऐसे लोगों को एक मुस्लिम अग्रणी कर्तव्य है कि उन्हें इनती आध्यात्मिक परिपक्वता प्राप्त है कि नरक से उन्हें बचा लिया गया है। वे लोग आभास करने के लिए विफल है जो स्वयं के रूप में नरक से सुरक्षित है। हमें तब तक उसकी सेवा जारी रखनी चाहिए जब तक हम जीवित हैः “और उस अन्तिम घड़ी तक अपने रब की बन्दगी करते रहो जिसका आना यक़ीनी है।”(15:99)

मुसलमानों को कभी भी स्वयं को नर्क की पीड़ा से सुरक्षित नहीं समझना चाहिए, या ईश्वर की क्षमा और कृपा की आशा को छोड़ना नहीं चाहिए, उन्हें हज़रत उमर (रजि.) की भांति ईश्वर के भय से कांपना चाहिए, हालांकि इस डर के कारण से उन्हें स्वर्ग में जाने की आशा करते रहनी चाहिएः “और हर उस व्यक्ति के लिए जो अपने रब के सामने पेश होने का डर रखता हो दो बाग़ हैं।”

संक्षेप में जिहाद सच्चाई का उपदेश और आत्म नियंत्रण होता है। इसके लिए अपनी कामुक इच्छाओं पर नियंत्रण होता है। इसके लिए अपनी कामुक इच्छाओं पर नियंत्रण पाने की और दूसरों के उत्साह जनक की आवश्यकता है। पहले को दृष्टि ओझल करना सामाजिक आराजकता पैदा करता है, जबकि दूसरे को दृष्टि ओझल करना सुस्ती पैदा करता है। आज में इस्लाम की सच्ची समझ को सामान्य रूप से प्राप्त करना चाहिए और जिहाद की समझ विशेष रूप से। यह केवल पैग़म्बर की सुन्नतों का कड़ाई से पालन करने से ही आभास किया जा सकता है।

क्या मुसलमान साम्राज्यवाद के दोषी हैं?

यह दोष, मुस्लिम जगत के विरूद्ध समतल किया जाता रहा है, मैं निम्नलिखित प्रश्न पूछ कर इसका तोड़ करूंगा।

1400 वर्ष पहले मौजूदा परिस्थियों को देखते हुए मक्का और मदीना में रहने वाले लोग अपनी ही कबीले और जनजाति का शोषण कैसे कर सकते थे? यदि शोषण माने गए लोग और भूमि हिजाज़ की थी जो कि निर्धन, बिना फल वाली और बंजर थी, तो उन पर आक्रमण या उनका शोषण कौन करना चाहेगा? सबसे उदार मुसलमानों पर जिन्होंने इस्लाम का संदेश फैलाने में अपनी जान जोखिम में डाली, जिन्होंने अपने जीवन का अधिकतर भाग अपने बच्चों, परिवार और घर से दूर अपने आकार के 10 या 20 गुना बड़ी सेनाओं से लड़ कर बिताए हैं जो बहुत दुख आभास करते थे कि वे युद्ध भूमि पर मर नहीं पाए और इस्लाम के पहले शहीदों में सम्मिलित नहीं हो पाए उन मुसलमानों पर सम्राज्यवादी का आरोप लगाना हंसने वाली बात है।

जिन्होंने साम्रज्यवाद सबसे बुरे इरादों के साथ दूसरों पर आक्रमण, कब्जा और शोषण किया है वे सत्ता के भूखे व्यक्ति या देश हैं। कुछ का उल्लेख करने के लिएः महान सिकन्दर, नेपोलियन, रोजन सम्राज्य और नाजी जर्मन, चंगेज खान द्वारा चलाई गई मंगोल सेनाऐं, पश्चिमी यूरोप द्वारा चलाई गई सेनाऐं, रूसी तानाशाही (चाहे सम्राट या साम्यवादी) और अमेरिकन साम्राज्य (चाहे “भाग्य प्रकट” करना या लोकतंत्र के लिए सुरक्षित दुनिया बनाना”) जहां भी इस प्रकार के अभियान आए और गए उन्होंने विजयता और गुलाम दोनों की नैतिकता, आराजकता, संघर्ष, आंसू खून के बहाव और तबाही के कारण भ्रष्ट कर दी। आज उनके वारिस जैसे साहसी चोर उस संपत्ति की चोरी को छुपाने के लिए मालिकों को धोखा देते हैं। इस्लाम पर है, उसके पैग़म्बरों और उनके साथियों के साथ आ जाते हैं।

सच्चे मुसलमान दूसरों के शोषण की मांग कभी नहीं करते और न ही उन्होंने दूसरों को ऐसा करने दिया, जहां मुस्लिम सरकार का अधिकार था, एक समय पर जब मुस्लिम सेनाएं जीती ये जीते जा रही थी ख़लीफा हज़रत उमर ने कहाः “जो मुझे ठीक रखता है वह सबसे गरीब मुसलमानों के स्तर पर रहना है।”उन्होंने वास्तव में ऐसा किया, जैसे एक दिन में वह कुद ही जैतून खाते थे, तो वह किसका शोषण कर रहे थे?

एक युद्ध के पश्चात जब एक मुसलमान सैनिक को अपने दुश्मन से लड़ने और उसकी हत्या करने पर उसका सामान लेने को कहा जाता था, उन्होंने कहा “मैं युद्ध में भाग संपति पाने के लिए नहीं करता।” अपने गले की ओर संकेत करते हुए उन्होंने कहा “जो मैं चाहता हूं वह यह है यहां पर एक तीर और शहीद के रूप में मौत” (उनकी इच्छा पूरी कर दी थी) शहादत की मृत्यु की इच्छा करते हुए वह किसका शोषण कर रहे थे?

एक और युद्ध में एक मुस्लिम योद्धा ने प्रमुख शत्रु को मार डाला जिसने कई मुसलमानों को मारा था। मुस्लिम कमान्डर ने उन्हें अपने मृत शत्रु को मार डाला जिसने कई मुसलमानों को मारा था। मुस्लिम कमान्डर ने उन्हें अपने मृत शत्रु के पास से गुजरते देखा। कमान्डर मृत सैनिक के सिर के पास गया और पूछा कि इसे किसने मारा। मुस्लिम उत्तर देना चाहता था, पर कमाण्डर न उसे ईश्वर के नाम पर वापिस बुलाया, मुस्लिम स्वयं को ऐसा करने के लिए बाध्य मानता है पर एक कपड़े के टुकड़े से अपने चेहरे को छुपा लिया।

निम्नलिखित बात चीत हुईः

क्या तुम ने इसे ईश्वर के लिए मारा?

हां!

ठीक है, पर यह 1000 दीनार का टुकड़ा ले लो

परन्तु मैंने यह ईश्वर के लिया किया है।

तुम्हारा नाम क्या है?

मेरा नाम तुम्हारे लिए क्या है? शायद तुम ये सब को बता दो और जीवन के बाद इसका उपहार लेने से मुझे बाहर कर दो।

ऐसे लोग दूसरों का शोषण कैसे कर सकते हैं और पूरी दुनिया भर में कालोनियां की स्थापना कैसे कर सकते थे? स्पष्ट रूप में जो इस्लाम और मुसलमानों से घृणा करते हैं वे इस्लाम के प्रसार की ऐतिहासिक सत्यता को देखने के लिए अंधे हैं।

शोषण और साम्राज्यवाद क्या कर रहे हैं देखें, साम्राज्यवाद या उपनिवेशावाद शासन की एक प्रणाली है जिसके द्वारा एक घनी और शक्तिशाली देश अन्य देशों को नियन्त्रित करते हैं, उनके व्यापार और नितियां स्वयं को समृद्ध और अन्य व्ययों पर अधिक शक्ति प्राप्त करना, यहा शोषण के कई प्रकार होते हैं, आज की दुनिया में वे निम्नलिखित रूप ले सकते हैं:-

आक्रमणकारी प्रत्यक्ष शासन और संप्रभुता की स्थापना के द्वारा आदेश में पूर्ण संप्रभुता स्वदेश लोगों को महरूम करने के लिए है यहां उपनिवेशवाद के कई उदाहरण इतिहास में है।

सैन्य अधिकार, ताकि आक्रमणकारी देश की भूमि और संसाधन पर विजय को नियंत्रित कर सके एक उदाहरण भारत में ब्रिटिश औपनिवेशक शासन है।

खुले या गुप्त हस्तक्षेप और एक देश की आंतरिक में हस्तक्षेप और विदेशी मामलों, अर्थव्यवस्था और बचाव उदाहरण है। दुनिया के देशों में तीन देश विभिन्न विकसित देशों द्वारा नियंत्रित और साज़बाज़ है।

बुद्धिजीवियों का हस्तातंरण जो वर्तमान में साम्राज्यवाद का सबसे आप और खतरना प्रकार है, युवा बुद्धिमान और देशों में से प्रतिभाशाली लोग कारनामों के लिए चुने और उनके वृत्तियां दी गई। वे विदेशों में शिक्षित किए गए, वे कहां के लिए प्रस्तुत और विभिन्न समूहों के सदस्य बना दिए गए, जब वे अपने देश में वापिस आते हैं। वे प्रभावशाली प्रशासनिक और अन्य पद उन्हें दिए जाते हैं, ताकि वे अपने देश की नियति को प्रभावित करें। जब देश या विदेशी लोगों को विदेश में शोषकों चाप राज्य तंत्र में महत्वपूर्ण पदों में रखा करने के लिए संप्रक कर सकते हैं। देश की भीतर से विजय प्राप्त हैं यह बहुत सफल तकनीक पश्चिमी साम्राजयवादियों के लिए सक्षम है, अपने कई लक्ष्यों की घृणा को उत्पन्न करने के लिए वे जिद करना चाहते हैं, आज मुस्लिम संसार इस जाल में फंस गया है और इस प्रकार के शोषण और दुरूपयोग भुगतान के लिए जारी है।

आज के देश कि तरह के साम्राज्यवाद से गुजर रहे हैं और उनके विषय क्या हैं:

अपने मूल्य संस्कृति और इतिहास से लोगों के विमुख आत्म सात के विभिन्न उपाय है। एक परिणाम के रूप में पहचान और उद्देश्य के संकट सेना के मोदी हैं तो उन्हं अपने अतीत पता नहीं है और स्वतंत्र रूप से स्वयं अपने भविष्य की कल्पना नहीं कर सकते हैं।

किसी उत्साह प्रयास और समर्थन के लिए उनके देश को विकसित उत्साह बूझती है। शाही स्वामी पर निर्भर उपयोग (पूर्व) प्रदान किया गया है, विज्ञान और ज्ञान के लिए उत्पादक और प्राथमिक बनने की अनुमति नहीं है और केवल इतना ही है कि नकली मज़बूती से अध्ययन और नए शोध की स्वतंत्रता स्थापित नहीं होगी।

लोग “लीम्बो” में रहते हैं और पूरी तरह से विदेशियों पर निर्भर है। वे चुप रहते हैं और प्रगति, सभ्यता पश्चिमी करण जैसे खाली वाक्यांशों द्वारा मोहित और पसंद है।

सभी राज्य संस्थाओं की विदेशी सहायता जो कोई बड़े पैमाने पर वित्तय और संस्कृति ऋण से अधिक वास्तविकता में है के द्वारा प्रवेश कर चुके हैं। आयात-निर्यात और विकास पूरी तरह से नियंत्रित कर रहे हैं या शोषक हितों के अनुसार आयोजित किए जा रहे हैं।

हालांकि जनता ने गरीबी में प्रयास करने के लिए कोई खड़ी नहीं छोड़ा है, शासक वर्ग का असाधारण खर्च और विलासिता के लिए प्रयोग किया गया है। परिणाम स्वरूप साम्प्रदायिक असंतोष लोगों को तंग करने के लिए एक दूसरे के साथ लड़ने का कारण बनते हैं और उन्हें भी बाहर अधिक प्रभाव बनाने के लिए और हस्तक्षेप करने के लिए असुरक्षित होना पड़ता है।

मानसिक और आध्यात्मिक गतिविधि को दबा दिया गया है और इसलिए शिक्षण, संस्थाओं के लिए विदेशी तरीके, विचार और विषयों की नकल करनी पड़ रही है। उद्योग के पुर्वनिर्मित कोडांतरण भाग कम है। सेना के साम्राज्यवादी देशों के लिए एक सस्ते दामों का मैदान बन गया है, अपनी खरीद के लिए मंहगा हार्डवेयर अच्छी तरह जारी रखा गया है, इसके बाद के उद्योग सुनिश्चित करते हैं।

हमें लगता है कि वास्तव में ये सम्राज्यवाद जो विनाशकारी परिणाम की चाह से कहीं भी लाया गया, इस्लामी विजय की तुलना करने में तर्क संगत है।

अपने घरों और देशों में से एक महान लोगों के पलायन के कारण मुस्लिम सेनाओं की जीत कभी नहीं हुई, और न ही इसे कभी अपनी और पैरों पर चेन बांध कर लोगों को कार्य करने से रोका और मान्यताओं का पालन कर सकें। उन्होंने ठीक से मुसलमानों की रक्षा की। मुस्लिम को राज्यपाल और शास्कों से उन्हें प्रेम था उनकी न्याय और अखण्डता के कारण उनका सम्मान किया गया। समानता, शांति और सुरक्षा विभिन्न समुदाय के बीच स्थापित किया गए थे।

दमिश्क के ईसाई उनके चर्च में इकट्ठे होते थे और जो ईसाई बाईजानटियम के विरूद्ध एक मुस्लिम विजय राज्य के नियंत्रण में आ गए थे, उन्होंने प्रार्थना की मांग की। यदि मुसलमानों द्वारा गै़र मुस्लिम लोगों के अधिकार का सम्मान नहीं किया गया, तो वे एक ऐसे विशाल राज्य में सदियों के लिए सुरक्षा बना कर रख सकते हैं कि इसे एक से अंतिम घोर की यात्रा के लिए छः महीने से अधिक समय के लिए लिया है।

एक मदद नहीं कर सकता परन्तु उन मुस्लिम शासकों में गतिशील ऊर्जा है, जिसने उन्हें ऐसा बना दिया है, जब हम वर्तमान शासकों की तुलना में उनकी प्रशंसा करते हैं। परिवहन, दूरसंचार का भी आधुनिक अर्थ है और सैन्य के बावजूद वासि ऊर्जा, वे भी देश को एक छोटे से क्षेत्र में शांति और सुरक्षा बना कर नहीं रख सकते।

आज कई विद्वानों और बुद्धिजीवी जो इस्लाम की गतिशीलता के मूल्य से जो इस्लाम की वैश्विक संप्रभुŸाा के बारे लाया जाता है जो आज के बाद हमारे अनन्त अस्तित्व का आधार बनेगी, हमें स्पष्ट रूप से यह आभास है कि उन्हें बताओ कि मुसलमानों पर पुर्नविचार करना और उन्हें प्राप्त करना चाहिए। जबकि भूमि को जीतने पर मुसलमान भी उनके दिलों को जीतने के निवासी थे। वे प्यार, सम्मान और आज्ञाकारिता के साथय प्राप्त हुए थे। कोई भी लोग ऐसे नहीं हैं जिन्होंने इस्लाम को स्वीकार करके सिर उसकी शिकायत की हो कि उनकी सांस्कृति को मुसलमानों के आने से खनन किया गया या रोका गया। ईसाई यूरोप की विजय अभियान में मरने की वास्तविक्ता को साथ निरा और स्पष्ट इसके विपरीत है।

भूमि पर मुसलमानों का जल्दी विजय प्राप्त करना ज्ञान और कला था क्षमता पूर्ण मूल्यांकन है। वे स्थानीय विद्वानों और वैज्ञानिकों के लिए और अवसर प्रदान करने के लाए और अपने कार्यों को आगे बढ़ाने के लिए तैयार है। अपने धर्म के बावजूद, मुसलमानों ने उच्च संबंध में लोगों का आयोजन किया और उन्हें समाज में सम्मानित किया। अमेरिका में ब्रिटिश उपनिवेशवादियों के वंश के मूल निवासी अमेरिकियों के लिए जो किया था आस्ट्रेलिया में आदिवासी, अल्जीरिया में फ्रांस या इण्डोनेशीया में डच (हाॅलैंड देश के निवासी) के लिए किया था, उन्होंने ऐसा कभी नहीं किया और विजय प्राप्त लोगों के साथ ऐसा व्यवहार किया कि मानों वे उनके धर्म ही लोग हैं और उनके भाई बहिन की तरह है।

ख़लीफा हज़रत उमर (रजि.) ने एक बार कोपटिक मिस्त्र को बताया जो एक महान मक्का वाले के हाथों मारा गया था वैसे ही जैसे कि उसने उन्हें मारा था, जब हज़रत उमर (रजि.) ने उन्हें डांटा और कहा कि “मनुष्य स्वतंत्र पैदा हुए हैं, क्या तुम उन्हें वश में रखते हो?” जव वह मस्जिद अल-अक़्सा की चाबी प्राप्त करने के लिए गए तो हज़रत उमर ने फ़िलीस्तीन में विभिन्न चर्चों में पादरियों से बात की और सर्वेक्षण किया। एक बाद जब वह चर्च में थे जब वह समय प्रार्थना के लिए था। पुजारी ने बार-बार उन्हें चर्च के अन्दर प्रार्थना करने के लिए कहा परन्तु हज़रत उमर (रजि.) ने इंकार कर दिया कहाः “आप अन्य ईसाईयों द्वारा अपमानित किए जाऐंगे यदि आप ने मुझे चर्च में प्रार्थना करने दी।” उन्होंने चर्च (गिरिजा) परिसर को छोड़ कर बाहर ज़मीन पर प्रार्थना की।

ये कुछ उदाहरण है और इंगित करते हैं कि कैसे मुसलमान संवेदनशील, सहिष्णु, ईमानदार और अन्य लोगों की ओर मानवीय व्यवहार करने वाला है, वास्तविक सहिष्णुता का इस प्रकार का दृष्टिकोण किसी भी अन्य लोगों या समान द्वारा प्राप्त नहीं किया गया है।

इस्लाम के साथ संगत पुनर्जन्म है?

पुनर्जन्म सिद्धान्त को दर्शाता है कि मृत्यु के बाद आत्मा एक और शरीर पर निवास करती है, फिर दुबारा मर जाती है और एक ओर शरीर के लिए चलती है, जब तक यहां ऐसा करने के लिए कोई कारण नहीं न हो यह इस्लाम के साथ असंगत है।

पुनर्जन्म के कुछ आकार में विश्वास लगभग सभी समाजों में पाया जा सकता है, चाहे आदिम हो या परिष्कृत, यह विविधताओं विश्वास और लोकप्रिय संस्कृति आध्यात्मिक जीवन से इंकार करती है, यह लगभग कुछ क्षेत्रों में सभ्य समाज के लिए इस प्रकार के छदम धार्मिक विश्वासों और दावों के पकड़े हैं- चाहे गंभीरता से या नहीं कि मृत्कों की आत्माओं के बारे में भटकना कभी-कभी शारीरिक रूप माना जाता है और जीवित प्रभाव जब तक वे अपने नए शरीर में व्यवस्थित नहीं हो जाते।

इस सिद्धान्त पुरातनता के लिए एक तर्क सबूत है जो साहित्यों में पाया जा सकता है ओविड [d.18ce] रंगीन अपव्यय जिसमें देवताओं ने मानव और पशुओं के रूपों को लिया, मनुष्य ने मानव और पशुओं के रूपों को लिया, मनुष्य ने अलग-अलग आकार लिए और आगे तक परन्तु एक विश्वास के साथ कि एक व्यक्तिगत आत्मा को रचना के हर स्तर और जीवन आकार की हर प्रजातियों के माध्यम से गुजरना होगा। चाहे चेतन या अचेतन हो, संवेदशील या गैर संवेदशील हो।

यदि हमें इस पर चिन्तन है, हमें जल्दी आभास होगा क सिद्धान्त वास्तव में आत्मा अमरता पर एक अजीब विस्तार है दूसरे शब्दों में इसकी गिरी है कि आत्मा अमर है। माता पिता और संतानों के बीच शारीरिक और अन्य लक्षण में समानता देखने से सिद्धान्त उत्पन्न हा सकते हैं। क्या यह पुनर्जन्म के सिद्धान्त के साथ उचित विसंगत आनुवांकिता और अनुवंशिकी का आकर्षक जैविक घटना अस्पष्ट करने के लिए है?

यह सिद्धान्त नील नदी बेसिन में उभरा है और अन्य लोगों में वापिस फैला, जैसे भारत में ग्रीस के लिए कहा जाता है। वहां यह शास्त्रीय यूनानी दार्शनिक लोगों की वाग्मिता के लिए सांत्वना और आशा के एक स्त्रोत में युक्ति संगत बनाया है जैसे कि हमस ब करते हैं, हम ने अनन्त काल के लिए प्रतीक्षा की। मुसलमानों के धर्म शास्त्रियों के प्रयासों के लिए खण्ड के बावजूद भी क़बीलों, ईसाई धर्म, यहूदी विचारों के माध्यम से और इस्लाम के माध्यम यहूदी धर्म में प्रवेश लिया।

आगे कुछ सबूत क्षमा की प्रार्थना करने वाले हैं। उदाहरण के लिए रसायनिक (शोक मूर्ति) क़बालियों को एक संगमरमर की मूर्ति में (पुराने टैस्टमैंन में वर्णित) परिवर्तन का उल्लेख है और धूल की एक मूर्ति में पैगम्बर हज़रत लूत अलैहि. की पत्नी का उल्लेख हैं दूसरी यहूदियों को बन्दरों और सुअरों में शाब्दिक परिर्वतन करने के लिए भेजा है।

तर्क वृत्ति और पशुओं में एक और वृद्धि है, साथ ही संयत्र राज्य के वैभव को एक बार मानव बुद्धि और प्राण को उत्पाद के रूप में बताते हैं। यह विचार मानव के लिए शर्म की बात है और उसके समर्थकों को नीचा दिखाना है। हम सभी जानते हैं कि वहां एक कार्यक्रम है निर्जीव निर्माण के लिए पूर्व निर्धारित नियति है, परन्तु यह नहीं है बल्कि सदभाव और व्यवस्था के पूर्व राज्यों में हम उन मानव आत्माओं के चिन्ह देखने के लिए दूर की कौड़ी लाते हैं। प्रकाश और नमी की और विकास की दिशा उदाहरण के लिए और वास्तव में पौधों को एक निश्चित संयत्र जीवन है, घास काटने के लिए इसका अर्थ है कि उसका जीवन एक पूर्व मानव आत्मा का परिणाम है कि किसी तरह इसके निर्माण का स्तर कम करने के लिए नीचे तरह कार्य करने के लिए लगाया जा सकता है।

इस दावे के बावजूद प्रयास की पुष्टि करने के लिए कोई कभी एक सतत् है कि मानव आत्मा ने संयत्र से एक बार एक संदेश प्राप्त किया और नही हम ने किसी खाते के बारे में किसी से सुना है कि वह (मर्द) या वह (औरत) एक बार किसी संयत्र या जानवर की आत्मा थे। मीडिया (साधन हेतु) तथाकथित लोगों में से पिछले जन्म याद करके कुछ खातों से प्राचारित किया है और भी विशिष्ट घटनाऐं दिखाई हैं। हालांकि मामले में इस तरह का दावा पूरी तरह बेतुका नहीं है, क्या ये देखा गया है या पढ़ा गया है और फिर जानबूझ कर या अन्यथा यादों के रूप में सविस्तार से समझाया जा सकता है और बदला भी जा सकता है। संक्षेप में ऐसे खाते कोई साधारण कल्पनाओं से अधिक नहीं है।

तथ्य यह है कि शौकमूर्ति और हज़रत लूत अलैहि. की पत्नी संगमरमर या क्रमशः धूल की मूर्तियों में बदल रहे थे। यह तर्क यदि सचमुच स्वीकार किए जाते हैं तो इससे पुनर्जन्म साबित नहीं होता, क्या हमारा केवल एक शरीरिक आत्मा का स्थानांतरण परिवर्तन नहीं है।

मरे हुए या पत्थर बने हुए शरीर के रूप में भय लगता है कि यह एक रहस्मय घटना तो नहीं है। ऐसे कई शव पाए गए हैं, ज्वालामुखी राख के निरपेक्ष सूखापन द्वारा संरक्षित है। पोमपेई, अचानक ज्वालामुखी विस्फोट से वासुवियस द्वारा 97 बम में हो गया था और शेष सदियों के लिए दफ़न कर दिया गया, हाल ही में कई शौकमूर्ति की खुदाई में शरीर से भय लगता हुआ पता चलता है, इस खण्डर में चेहरों और शरीरों से भय लगता है तो स्वयं उनके कृपालू को व्यस्त ने फैलाता है और हम अपने अंहकार में इतना सुरक्षित कर सकते हैं, यदि हम चाहते हैं तो देवीय क्रोध और सज़ा का संकेत पढ़ सकते हैं। शायद उनका जीवन मार्ग की राख में जम गया था और ऐसा करने के लिए भावी पीढ़ी को सूचित, संरक्षित किया गया। इसकी व्याख्या करने के लिए पुनर्जन्म साक्ष्य के रूप में अस्थिर है।

पुनर्जन्म में विश्वास मिस्त्र भारत और ग्रीस में भविष्य में एक बार ध्वनि विश्वास के एक विकृत संस्करण से बाहर हुआ और आत्मा के अमरत्व के लिए एक लालसा से विकसित किया गया। इस प्रकार के विकृत विचार का पता न तो अखेनेटन मिस्त्र की और न ही पाइथागोरस ग्रीस को था।

अखिनेटन के अनुसार कण् [d. 1362nc] जब किसी का जीवन इस दुनिया में समाप्त होता है तो स्वर्ग में उसका एक अलग से नया जीवन शुरू होता है। जब कोई मरता है तो उसकी आत्मा स्वर्ग के महान्तम न्यायालय में क्षतिपूर्ति के लिए ले जाई जाती है। यह इतना अधिक हो जाता है। कि आसाईरिस की स्थिति में पहुंच जाती है। उसके द्वारा खाता देने की आशा इस प्रकार के शब्दों में हैः “जब मैं पापों से मुक्त कर दिया गया था तब आपकी उपस्थिति में आया था। मैंने अपने जीवन के दौरान वह सब कुछ किया जो मैं भक्त लोंगों की कृपा के लिए कर सकता था। मैंने किसी का खून नहीं बहाया, चोरी नहीं की और न ही कोई शरारत या मतलबपरस्ती की, और न ही मैंने किसी को व्याभिचार के लिए प्रतिबद्ध किया था।” जो लोग ऐसा बोलते हैं वे ओसाइरिस मण्डली में शामिल हो सकते हैं, शैतान के कारण से जिसके बुरे कर्मों के कारण उसका अच्छा पल्ला झुक नहीं सकता, उसे नरक में फेंका गया और राक्षसों द्वारा उस पर अत्याचार किए गए।

ऐसा स्वस्थ विश्वास अखिनेटन के धर्म से संबंधित समाधि लेख पर भी देखे गएः

“जो तुम का चुके हो वे बहुत अधिक है, और हमारी आँखें उनमें से अधिका समझ नहीं पाती है। हे एक अकेले ईश्वर! आप जितनी शक्ति का अधिकार कोई नही रखता। वह आप ही हैं जिसने ब्रह्माण्ड, जैसा आप चाहते थे वैसा बनाया और केवल आप ने, वे आही हैं जो इस दुनिया को सभी मनुष्यों, छोटे बड़े सभी जानवरों के लिए उपयुक्त होने की आज्ञा देते हैं, चाहे वे धरती पर चलें या आकाश में उड़ें, और आप अकेले हैं जो उन्हें बनाए रखते हैं और उनका पोषण करते हैं। आप का धन्यवाद सभी सुन्दरियां अस्तित्व में आई सभी आंखें आपको उनके माध्यम से देखती हैं। वास्तव में मेरा दिल आप का है। (आप मेरे दिल में है)

ऊपर उद्धत शब्दः विचार, वे चीजें थी जो क़रीब 4000 वर्ष पहले मिस्त्र से सच के रूप में मानी जाती थीं।

प्राचीन ग्रीस में पुनर्जीवन और आत्मा के अमरत्व पर विश्वास बहुत स्वस्थ था। महान दार्शनिक पाइथागोरस (डी.सी. 500 ई. पूर्व) मानते थे कि शरीर छोड़ने पर आत्मा पृथ्वी छोड़ने से पहले से ही ऐसा ही जीवन जीती है। वह कुछ ज़िम्मेदारी के साथ इस पृथ्वी पर आज्ञित की गई है। यदि यह कुछ बुराई करती है तो इसे दण्डित किया जाएगा। नर्क में फेंक दिया जाएगा और राक्षकों द्वारा सताया जाएगा। वह जो अच्छाई करेगी उसके बदले में उसे उच्च पद दिया जाएगा और सुखी जीवन का आशीर्वाद दिया जाएगा। उन बदलाव की अनुमति देकर जो उनके दृष्टिकोण में उस समय किए गए हों, हम अब भी यह देख सकते हैं कि इस्लाम धर्म के पुनर्जन्म के साथ मौलिक समानताऐं हैं।

प्लेटो का हिसाब भी अधिक पृथक नहीं है। अपने प्रसिद्ध ग्रन्थ गणतंत्र में वह करते हैं कि आत्मा जब शरीर छोड़ती है तो वह भौतिक जीवन को (शरीरधारी) भूल जाती है, एक आरो ही आध्यात्मिक घेरे में उचित चढ़ाई करने से जो बुद्धि और अमरता सतृप्त था वह हर प्रकार की कमी, त्रृटि, भय और उस प्रेम और जुनून से मुक्त हो जाती है जिसने उसे पृथ्वी में रहने के दौरान पीड़ित किया। अब जबकि यह मानव स्वभाव के सभी बुरे परिणामों से मुक्त है, यह शाश्वत आनन्द के साथ धन्य की गई है।

संक्षेप में पुर्नजन्म स्वस्थ विश्वास का एक विकृत संस्करण है। इस्लाम को छोड़ कर सभी धर्मों ने इस प्रकार की विकृतियों को सामना किया है, उदाहरण के लिए दैवीय रूप से प्रकट हुआ, ईसाई धर्म और पैग़म्बर यीशु की सटीक पहचान और भूमिका विकृत की गई है। कुरआन के स्पष्ट और चमकदार छंद (आयतों) के बिना और इस्लाम के प्रभाव के बिना इस मामले पर ईसाई धर्म की औपचारिकता स्थिति अलग नहीं हो सकती थी।

यदि ईसाई धर्म आत्मा और शरीर की एकता सिखाता है, तो यह अंदलूसिया (मुस्लिम स्पेन) के विद्वान मुसलमानों से हैं। संत थामस एकयूनास [d.1274] ईसाई धर्म के सबसे प्रसिद्ध दार्शनिक में से एक है। उनके नए विचारों और संश्लेषण का बड़ा भाग इस्लामी शिक्षा से अनुकूलित थे। वह अपनी विशिष्ट पुस्तक में कहते हैं कि मानवता की महत्वपूर्ण अवधारणा जात्मा और शरीर एक उपयुक्त ढंग से एकृत है।(106) वह कहते हैं कि पशु आत्माऐं आरंभिक विकास के आस-पास बनाई गई और इसलिए नियोप्लाटनिस्ट स्कूल के सार अटकलों को अस्वीकार करते हैं।

इसी प्रकार के ग़लत अनुवादों और विभिन्न विकृतियों के माध्यम से प्राचीन मिस्त्र, भारतीय और युनानी धर्म मान्य रहित बने। पुनर्जन्म के सिद्धान्त का विरूपण हो सकते हैं। जब पुनर्जन्म प्राचीन मिस्त्री विश्वासों में डाला गया तो यह पूरे नील क्षेत्र में गीतों और किवंदत्तियों का एक केन्द्रीय विषय बन गया। यूनानी दार्शनिकों के सुववक्ता भाव के साथ और सविस्तार करने से यह यूनान के प्रभाव कारण से एक विस्तार घटना बन गई।

हिन्दु तत्व को ब्रह्मा की सबसे निम्नतम अभिव्यक्ति के रूप में विचारतें हैं और आत्मा और शरीर के अभिसरण को आत्मा के लिए नीचे और बुराई में गिरावट के रूप में विचारते हैं। हालांकि मौत को मुक्ति मानव दोष से अलग होने के सत्य के साथउ एक उन्मादपूर्ण संघ प्राप्त करने का अवसर माना जाता है। व्यवहार में हिन्दु बहुदेववादी होते हैं। उनका सबसे बड़ा भगवान कृष्ण माना जाता है कि बुराई को समाप्त करने के लिए उन्होंने मानव रूप ग्रहण किया था।

उनका दूसरा सबसे बड़ा भगवान विष्णु है जो कि इस दुनिया में नौ अलग अलग आकार में आया है, (मानव, पशु या फूल) उनकी दसवीं बाद आने की आशा है। क्योंकि वे मानते हैं कि वह दोबारा एक पशु के रूप में एक पशु को मारने आऐंगे, पूरी तरह से विसिद्ध है, यह सिर्फ यह सिर्फ युद्ध के दौरान ही अनुमति है। इसके अतिरिक्त सबसे पवित्र और सतर्क हिन्दू शाकाहारी है।

उनकी सबसे महत्वपूर्ण पवित्र पुस्तक वेदान्त के अनुसार आत्मा ब्रह्माण्ड का एक टुक्ड़ा है जब तक कि दुख और संकट से छुटकारा नहीं मिलता तब तक वह अपने मूल को वापिस कर सकता है। सब अंहकार से संबंधित दुष्टाता से अलग ब्रह्मा की ओर चलते समुद्र तक पहुंचता है और ब्रह्मा के साथ जोड़ा जाता है। तो यह पूर्ण शांति और संस्करण से प्राप्त होता है जो बौद्ध धर्म में पाया जाता है। वहां सक्रीय मांग की समाप्ति और बाद में आत्मा का एक सहनशीलता है जबकि आत्मा हिन्दू धर्म में गतिशील है।

कुछ यहूदी संप्रदायों ने पुनर्जन्म को अपनाया। यहूदियों पर से प्रलय विश्वास उठने के बाद जो उनका जीवन पकने में पशु चिकित्सा का लालच रहता है तो वह आत्मा अमरात्व से मोहित हो सकती है, हम कुछ खास नहीं कर सकते हैं परन्तु पुनर्जन्म को स्वीकार कर सकते हैं। बाद में क़बाईलियों ने कुछ क्षेत्रीय मठवासी आदेश के माध्यम से सिकन्दरियाई को चर्च करने के लिए इसे स्थान्तरित कर दिया। इस्लाम के सिद्धान्त से मर रहे एक अभिव्यक्ति पर एक नगण्य असर पड़ा, फिर भी और सबसे दुर्भाग्य से यह गुलाटी शिया (एक उगरवादी शीया गुट) द्वारा मुसलमानों के लिए शुरू की गई थी।

वह सभी जो पुनर्जन्म में विश्वास करते हैं एक जैसी ग़लती करते हैं। वहां बुद्धि की एक साझी विफलता काबू करने के लिए खुदा की निरपेक्षता अतिक्रमण के लिए स्वीकार है। इसके परिणाम स्वरूप लोगों का मानना है कि देवी को मानव के साथ घोला जा सकता है और कहा जाता है कि देवी के साथ मानव का मिश्रण हो सकता है, यह ग़लत विचार है, परन्तु सभी सार्वभौमिक इस्लाम के उपवाद के साथ है। प्रत्येक विकृत धर्म में केन्द्रीय आंकड़ा एक अवतार या पुनर्जन्म है। हिन्दु धर्म में ब्रह्मा, एटेनिज़म में एटन, यहूदी धर्म में एज़रा (उज़ेर) यीशु ईसाई धर्म में और अली गुलत ए शिया धर्म में (इस्लाम के विचार द्वारा कई गुना) आरोप है कि कुछ सूफी लेखन और बचत समर्थन पुनर्जन्म या तो उनके आत्याधिक प्रतीकात्मक और गूढ़ प्रवचन का शाब्दिक स्पष्ट रूप से एक मूर्खता समझने का दुर्भावनापूर्ण है या मृत परिणाम है।

इतिहास भर में प्रत्येक क्षेत्र में धार्मिक मुस्लिम विद्वानों, सुन्नियों के 90 प्रतिशत लोगों के बीच निश्चित रूप से इस्लाम की भावना के लिए पुनर्जन्म को पूरी तरह से विपरीत के रूप में नाकार दिया गया। इस स्थिरता के लिए साफ धारण हैः इस्लामी मान्यताओं का निरपेक्ष प्रत्येक व्यक्ति जीवन और केन्द्रीयता के अनुसार अपने भाग्य से मर जाएगा या अपने भार को वहने करेगा, और व्यक्तिगत जीवन उसे पुनर्जीवित किया जाएगा और उत्तर देने के लिए उसके इरादों और कर्मों के परिणाम से कहा जाता है और कहा जाता है कि प्रत्येक व्यक्ति को एक ही मापदण्ड के अनुसार ईश्वर की ओर से फैसला किया जाएगा।

इस्लाम पुनर्जन्म को नाकारता क्यों है, इसके प्रमुख कारणा की सूचि हम ने नीचे दीः-

- इस्लाम में विश्वास की आवश्यकता है और आवश्यकता है जी उठने और प्रलय आने में, जहां न्याय बाहर प्रत्येक व्यक्ति के अनुसार आत्मा को समझाने में जीवित था। यदि व्यक्ति की आत्मा अलग रहती है, जिसमें प्रपत्र या व्यक्ति पुनर्जीवित किया जाएगा यह गुजरते खाते में देते है, और इन्हें पुरस्कृत किया जाएगा या सजा की आज्ञा दी जाएगी।

- यह संसार परीक्षण के लिए बना है, ताकि आत्मा जिस लाभ के लिए बनाई गई है उसे प्राप्त किया जा सके। एक ध्यान से परीक्षण अनदेखी में विश्वास है, पुनर्जन्म के अनुसार जो मृत्यु के बाद एक कम जीवन के रूप में एक बूरे जीवन के पास रहते हैं, यदि यह सच है तो उन्हें अपने पूर्व जीवन का परिणाम ज्ञात है और जीवन को रूप से जानते हैं कि एक परिक्षण अपने अर्थ को खो देता है। इससे छुटकारा पाने के लिए अपने अनुयायियों का कहना है कि आत्मा अपने अतीत का अस्तित्व भूल जाती है? यदि यह सच है तो एक कैदी के लिए पुनर्जन्म की बात क्या है?

- यदि प्रत्येक व्यक्ति मृत्यु के चक्र की माध्यम से गुजरता है और अब तक पुनर्जन्म से परम सुख (ज्ञान) प्राप्त किया है, तो खुदा पुरस्कार और दण्ड के बाद व्यर्थ कर रहा है। वह ऐसे अर्थहीन गतिविधियों में क्यों सम्मिलित होगा?

- कुरआन और अन्य दैवीय पुस्तकों का मत है कि ईमानदारी के पश्चाताप से पापों को एक परिणाम के रूप में क्षमा कर दिया जाएगा। पुनर्जन्म की बात करने के लिए और पाप के कार्यों को बंद करने के लिए एक अच्छा पुनर्जन्म प्राप्त होगा। क्या यह अधिक तार्किक नहीं हैं कि खुदा की क्षमता करने के लिए लोगों को क्षमा कर दिया और उन्हें जब चाहे व्याज के रूप में प्रतीत होता है। अंतहीन और बोझिल को प्राप्त करने की प्रक्रिया के माध्यम से संक्षेप में जाने के लिए क्या एक ही परिणाम में विश्वास करते रहेंगे?

- पुनर्जन्म का लम्बा और थका देने वाला चक्र ईश्वर की दया, एहसान और क्षमा के विपरीत है। यदि वह चाहता तो साधारण और बेकार बातों के शुद्ध, सबसे अच्छा और मूल्य से दूर में बदल देता। अनन्त वास्तव में उसका आशीर्वाद और उदारता है।

- पैग़म्बरों के कई अनुयायियों ने इस्लाम अपनाने से पहले एक बार दुष्ट जीवन का नेतृत्व किया है, परन्तु वे परिवर्तित हुए, हालांकि वे स्वयं को एक अविश्वसनीय रूप से कम समय के भीतर सुधार पाए और बाद की पीढ़ियों के लिए पुण्य का श्रेष्ठ उदाहरण बन गए। उनमें से कुछ पिछले अनुयायियों को भी पार कर और भी श्रेद्धय हो गए। यह इंगित करता है कि ईश्वर के अनुग्रह से लोग शिखर के लिए सुगमता और शीघ्रता से वृद्धि कर सकते हैं, भले ही वे स्पष्ट तौर पर नर्क के लिए बाध्य किया गया हो, यह भी पता चलता है, कैसे अस्तित्व की उच्च स्तरों के लिए आत्माओं “स्नातक” का सिद्धान्त अनावश्यक है। वास्तव में ऐसा एक सिद्धान्त नैतिक प्रयास करने के लिए कोई प्रोत्साहन बलवीहीन कर सकता है।

- विश्वास के लिए ईश्वर अखिल शक्तिशाली प्रत्येक व्यक्ति के लिए एक व्यक्तिगत आत्मा उनके सक्षम में विश्वास के भाग के रूप में बनाई गई। मानते हैं कि केवल आत्माओं की एक सीमित संख्या में शरीर से शरीर को विस्थापित करने के लिए न्यायविरूद्ध प्रस्तावना तर्क है कि सक्षम (क़ादिर) नहीं है, जीवन का सरासर बहुतायत इसकी आनन्त विविधता, इसके रूप को दोहराने के लिए हर स्थान में केवल इंकार स्पष्ट है, अरब लोगों में से हमें अब पता है कि कैसे साबित करे कि हर एक पूरी तरह एक मात्र है- कोई वो उंगलियों के निशान या अनुवांशिक चिह्न बिल्कुल एक जैसे हैं। व्यक्तिगत विशिष्टता का यह तथ्य कई कुरानी छंद (आयतों) में पाए जाते हैं। यह देखते हुए हम क्यों मानते हैं कि सबसे शक्तिशाली (ईश्वर) व्यक्तिगत आत्माओं की एक अनन्त संख्या नहीं बना सकता या शरीर की एक अनन्त संख्या के साथ उनकी आपूर्ति नहीं कर सकता है?

- क्यों कोई आगे नहीं आता यह साबित करने के लिए कि निशान, लक्षण या सबूत के अर्थ से कि उनके पिछले जीवन के अलग-अलग रूपों और शरीरों में यादें, रोमांच और अनुभवी पुष्टि वे कर सकता है? कहां है संचित ज्ञान, अनुभव और संस्कृति उन लोगों की जो एक बार से अधिक पैदा होते हैं या उनका चक्र पूरा हो गया? परन्तु यह केवल एक करोड़ मामलों में से हुआ है, और हमें आशा नहीं करनी चाहिए कि अब एक बड़ी संख्या में रहने वाले लोग असाधारण गुण और क्षमता के लिए है? हम अब तक उनमें से कुछ से भी मुलाकात नहीं कर पाए कि वे कहां है?

जब कोई भौतिक परिपक्वता या आयु के निश्चित उपाय तक पहुंचता है, हमें आशा नहीं करनी चाहिए कि आत्मा सब के साथ उभरने के लिए है कि यह अधिग्रहण और प्राप्त की गई है अपने अतीत के दौरान? हमें विलक्षण की आशा नहीं करनी चाहिए यहां इतिहास में बहुत कुछ विलक्षण ठीक दर्ज किए गए हैं, उनके सभी विशेष उपहार एक विशेष समय और स्थान में होने वाली विशेषताओं का एक विशेष संयोजन के आनुवांशिक के रूप में समझाए जा सकते हैं, जो दिव्य अनुग्रह और एहसान के लिए गुणविशेषता है, परंपरा और संदर्भ में यह उपहार समझने के लिए विलक्षणता प्रयासों का साथ दिया जाता है जिसमें यह उपस्थित है।

एक गै़र मानव ईकाई के विशेष रूप से मानव संकाय कभी नहीं पाया गया, परन्तु यदि पुनर्जन्म सत्य है तो हमें इस प्रकार की खोजों की आशा करनी चाहिए। यदि जीवन का एक निचली आकृति पिछले जीवन में विशेष बुरे कर्मों के लिए सज़ा है तो फिर शायद इस जीवन में अच्छा आगे बढ़ाया जाना चाहिए, दूसरे शब्दों में व्यक्ति के पिछले जन्म का कुछ भाग अगले जन्म में रखा जाना चाहिए, इस मामले में हमें विशेष रूप की सीमाओं के अक्सर फट खोलने की आशा करेंगे। उदाहरण के लिए पौधे अचानक जानवरों के साथ जुड़े गुण दिखाता है, हम इस प्रकार की घटनाओं को क्यों नहीं देख सकते?

यदि अस्तित्व एक इन्सान या एक पशु पूर्व के जीवन में एक कर्मों का परिणाम है, तो कौन पहले से अस्तित्व में है, मानव या जानवर, उच्च या निम्न? पुनर्जन्म में विश्वासी पहले प्राणी के लिए किसी भी रूप पर सहमत नहीं होते, हर पीढ़ी पूर्व का पीढ़ी की पुष्टि मानी जा सकती है, कैसे सफल पीढ़ी पूर्व का परिणाम माना जा सकता है? यदि जैसा की कुछ बल दे, भौतिक जीवन एक बुराई है, तो सब चीजें, क्यों आरंभ की गई? जीवन सब पर क्यों आरंभ किया? उचित उत्तर आगामी नहीं किए गए हैं

Pin It
  • Created on .
प्रकाशनाधिकार © 2020 फ़तेहउल्लाह गुलेन. सर्वाधिकार सुरक्षित
fgulen.com प्रसिद्ध तुर्की विद्वान और बौद्धिक फतहुल्लाह गुलेन पर आधिकारिक स्रोत है