मृत्यु

“हर कोई अनन्त काल के लिए एक सहज आभास करता है, हालांकि इस दैणिक, भौतिक संसार के भीतर सीमित है, हम अनन्त काल के लिए तरस रहे हैं, जब हम अपने भीतर की प्रकृति को सुने, हम इसकी शब्दों के प्रकार अनन्त काल को अधिक से अधिक सहन करेंगे। यदि हमें पूरा ब्रह्माण्ड दिया गया यह हमारी भूख अनन्त जीवन के लिए हमें बनाया गया था। पूर्ति नहीं कर पाएगी। हमारा शाश्वत सुख की और प्रकृतिक झुकाव, उद्देश्य और अनन्त जीवन का और उसके लिए हमारी इच्छा वास्तविकता से आता है।”

मृत्यु क्या है?

शरीर के लिए आत्मा, जो उसकी संपूर्णता को नियंत्रित और बनाए रखने का एक साधन है। जब नियुक्त घण्टे आते हैं शारीरिक कार्यों की विफलता या बिमारी मृत्यु के दूत को निमंत्रण देने की तरह है। जिस इस्लाम में महादूत “इजराईल” कहते हैं। ईश्वर प्रकट है, एक है जो लोगों की मृत्यु के लिए कारण बनता हैं परन्तु उसके बारे में शिकायत करने से लोगों को बचाने के रूप में मौत कई लोगों के लिए एक अप्रिय घटना के रूप में प्रकट हो जाती है। ईश्वर स्वयं और आत्माओं को लाने के बीच के घूघंट के रूप में “हज़रत इज़राईल” का उपयोग करता है। हज़रत इज़राईल और मृत्यु के बीच एक घूंघट के रूप में एक बीमारी या अन्य आपदा डालते हैं ताकि लोग उसके बारे में शिकायत से बचे रहे।

मृत्यु के दूत के बारे में क्या है?

सभी स्वर्ग दूतों (फ़रिश्तों) को प्रकाश (नूर) से बनाया गया था, वे किसी भी स्थान में और वे किसी के भी साथ उपस्थिति रह सकते हैं। वे एक समय में अनगिनत कार्य कर सकते हैं, इसलिए हज़रत इज़राईल (मृत्यु दूत) लाखों लोगों की आत्माओं को एक साथ ले जा सकते हैं और बिना किसी भी भ्रम के प्रत्येक दूत उनके अधीन में है जो उसके जैसे लगते हैं और उनके द्वारा निरीक्षण में है, जब विश्वासी मर जाते हैं, स्वर्ग दूत मुस्कुराते हुए चमकते मुख के साथ उनके पास आते हैं वे हज़रत इज़राईल द्वारा पीछा करते हैं, हज़रत इज़राईल और उनके अधीर इन आत्माओं को लेने के साथ उन पर आरोप लगाते हैं या उनके एक अधीन द्वारा कुरआन की छंद (आयत): “क़सम है उन (फ़रिश्तों) की जो डूब कर खींचते हैं, और धीरे से निकाल ले जाते हैं।”(79:1-2) संकेत है कि अविश्वासियों की आत्मा लेने वाले स्वर्ग दूत विश्वासियों की आत्मा लेने वाले स्वर्ग दूतों से अलग है। बाद की आत्माऐं जो मृत्यु पर कड़वे और भयभित हिंसक कर तरह बाहर निकाल रहे हैं।

क्या हम मृत्यु के समय को आभास करते हैं?

मृत्यु के समय विश्वासियों को स्वर्ग में अपने स्थानों की खिड़कियों से अनुभव होता है। नबी ने कहा लोगों की आत्माओं को ऐसे शरीर से बाहर खींचा जाता है, जैसे पिन्चर से पानी धीरे धीरे बहता है। अच्छा है कि शहीद की मृत्यु की तुलना में संघर्ष नहीं लगता, और यह आभास होता है कि वह मरे ही नहीं हैं। इसके विपरीत उन्हें लगता है कि एक उत्तम दुनिया के लिए स्थानान्तरित किया गया है, और वे सही प्रसन्नता का आनन्द लें।

पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) ने हज़रत जाबिर से जो बेटे थे अब्दुल्लाह इब्ने अमर के और “उहद” की लड़ाई में शहीद हो गए थेः

“क्या आप जानते हैं खुदा ने आके पिता का स्वागत किया है, खुदा ने उनका इस अस्वर्णमिय ढंग से स्वागत किया है कि किसी ने अब तक न देखा, न सुना और न ही सोचा है। आपके पिता ने कहा या खुदा मुझे दुनिया में वापस भेज दे ताकि मैं लोगों को इस सुखद शहादत का अर्थ समझा सकूं: खुदा ने उनके कहाः “वहां अब वापसी नहीं हो सकती क्योंकि जीवन केवल एक बार मिलता है, हालांकि मैं उन्हें अपनी परिस्थितियों में सूचित कर रहा हूँ।” “जो लोग अल्लाह के मार्ग में मारे गए हैं, उन्हें मुर्दा (मृत) न समझो, वे तो वास्तव में जीवित हैं, अपने रब के पास जीवित (रोजी) पा रहे हैं।”(3:169) यदि आपने एक अच्छे धार्मिक जीवन का नेतृत्व किया तो आपको सुखमय मृत्यु मिलेगी और यदि आप ने दृष्ट जीवन का नेतृत्व तो आपको कठिन और भयंकर मृत्यु मिलेगी।”

पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) ने उन्नति के लिए अल्लाह की इबादत की और हज़रत उमर (रजि.) को निर्धारित प्रार्थना करते हुए जब एक व्यक्ति मर रहा था तो सलाह दीः “खालिद इब्ने वलीद ने एक संसार के इतिहास में कुछ अजेय सेनापतियों को उनके मौत के बिस्तर के बग़ल में उनसे कहा कि अपनी तलवार और घोड़े ले आओ। इस प्रकार के लोग हज़रत अली (रजि.) हज़रत हमज़ा (रजि.) हज़रत उस्मान (रजि.), मूसा इब्ने उमेर और कई अन्य लोग स्वयं को इस्लाम के कारण समर्पित करते हैं और इसलिए शहीदों के रूप में उनकी मृत्यु हो गई है।

क्या हम मृत्यु से डरते हैं?

जो धर्म और कर्म पर विश्वास करते हैं, उनके पास मृत्यु से डरने का कोई कारण नहीं होता, यद्यपि यह विघटन और ज़ीवन अपने सुख के विलुप्त होने के रूप में हमारे लिए प्रकट होता है, तो वास्तव में यह संसारिक जीवन का भारी शुल्क निवास का एक परिवर्तन है और शरीर के अन्तरण से अधिक है। यह एक निमंत्रण और अनन्त जीवन की शुरूआत है।

दुनिया के रूप में लगातार सृजन पूर्वनिर्धारण कृत्यों के माध्यम से प्रोत्साहित करता है, यह इसलिए है कि लगातार सृजन, दृढ़ संकल्प और बुद्धि के अन्य चक्र के माध्यम से जीवन छीन लिया। पौधों की मृत्यु उनके जीवन को वास्तव की भांति अधिकतम ओर उत्तम बनाया गया है। जब एक फल मर कर (टूट कर) भूमि पर गिर जाता है, तो यह विघटित करने के लिए दूर लगता है, परन्तु वास्तव में यह एक सम्पूर्ण रासायनिक प्रक्रिया को प्रोत्साहित करता है। पुनः घटन के पूर्व निर्धारित मार्गों से हो कर गुज़रता है और अंत में एक विस्तृत नए पेड़ के रूप में फिर से बढ़ता है। यह स्पष्ट रूप से पता चलता है कि मौत एक नए और विस्तृत जीवन की प्रारंभिकता है।

फल, सब्जी, मांस और जानवर, मानव जीवन की उपाधि और वृद्धि करने के लिए एक व्यक्ति के पेट में मौत का कारण बनते हैं, इस प्रकार उनकी मृत्यु और उनके जीवन को आदर्श के रूप में माना जा सकता है क्योंकि पौधों की मृत्यु तो एक दम सही है और इस प्र्रकार एक महान उद्देश्य से कार्य करते हैं, हमारे अपने लोगों की मृत्यु और भी अधिक सही हो सकती है और भी हमें एक बड़े उद्देश्य की सेवा करनी चाहिए। इन सब के बाद, हम जीवन के उच्चतम स्तर पर अधिकार करते हैं। यह देखते हुए हमें निश्चित रूप से उन्नत जीवन में लाया जाऐगा।

संसारिक जीवन की कठिनाईयों से मृत्यु हमें निर्वहन करती है, इस अशांत, धुट और संकीरण, तहखाने जो हमारे लिए अधिक कठिन हो जाता है उसे हम ने बढ़ती आयु और बीमारी की शुरूआत के साथ सहन किया है। यह हम अंत में स्वीकार करते हैं, यह एक प्यार असीम दया का व्यापक चक्र हैं वहां हमें अपने प्रयोजन की अनन्त कम्पनी और एक प्रसन्न अनन्त जीवन का सात्वना मज़ा आएगा।

आत्मा का क्या हुआ है?

मृत्यु के पश्चात, प्रत्येक व्यक्ति की भावना होती है कि वह ख़ु दा के सामने उपस्थिति के लिए, लिया जाएगा। यदि यह अच्छे कर्मों के अधीन है तो उसने धार्मिक जीवन का नेतृत्व किया और परिष्कृत हो गया, यह उसकी उपस्थिति में कोण को लेने के साथ आरोप लगाया और लटठे के एक टुकड़े में लपेट कर उसे ले लिया, आकाश और अस्तित्व के सभी आंतरिक आयामों के मध्यम से जब तक वह अपनी उपस्थिति तक पहुंचे।

साथ ही सभी गंतव्यों पर स्वर्ग दूत स्वागत करते हैं और पूछते हैं: “यह आत्मा किसकी है? और यह कैसे सुन्दर होती है?” वह दुनिया में स्वर्गदूतों के परिचय संदेश और अधिग्रहण के साथ सबसे सुन्दर उपाधि है, “यह एक की आत्मा है जो (उदाहरण के लिए) प्रार्थना का उपवास करता है।”अंत में खुदा सर्वशक्तिमान स्वागत करता है और स्वर्गदूतों को आदेश देता हैः “जहां इसका शरीर दफन है उस क़ब्र में इसे वापिस ले जाओ, यह इतना है कि “मुन्कर-नकीर” और स्वर्ग दूतों द्वारा पूछे गए प्रश्नों का उत्तर दे सकें।”

एक दुष्ट व्यक्ति की आत्मा का तिरस्कार भाव से व्यवहार किया जाता है यह हर स्थान से गुज़रता है और पीठ के बल क़ब्र में खुदा के समक्ष उपस्थित करने के बाद फेंक दिया जाता है।

जो बुराइ्र दुनिया में होती है, वह हमारे खुद के पापों के कारण से है। यदि ईमानदारी और विश्वासीय लोग सदैव पाप के प्रलोभन का विरोध नहीं कर सकते हैं तो उसकी दया ईश्वर से बाहर कुछ दुभार्गयवश उन्हें हड़ताल करने के लिए इस प्रकार शुद्ध होने की अनुमति देता है। खुदा भी उनकी गंभीर मृत्यु को अधीन कर सकता है ताकि उनके पापों को क्षमा कर सके या उनकी उच्च श्रेणी (आध्यात्मिकता) को बढ़ावा दे सके। किसी भी मामले में उनकी आत्माओं को बहुत धीरे से लिया जाता है। तो विश्वासीय क़ब्र में कुछ प्रकार की सजा से पीड़ित है और उन्हें सज़ा मिलती है और वे नरक से मुक्त हो जाऐंगे। इसके अतिरिक्त में क़ब्र के बाद अनन्त जीवन है, यह उसका पहला गंतव्य है यहां उसने जीवन में जो कुछ भी कमाया है वह उसे प्राप्त होगा यह भी प्रारंभिक पूछ ताछ के लिए एक स्थान है। अपनी क़ब्र में रहते हुए हर किसी से उसके संसारिक कार्यों के बारे में दो स्वर्ग दूतों द्वारा पूछ ताछ की जाएगी और भ्विष्यदवक्ताओं को छोड़ कर लगभग हर किसी को कुछ न कुछ पीड़ से गुज़रना होगा।

विश्वसनीय पुस्तक में दर्ज है कि “अब्बास (नबी के चाचा) हज़रत उमर (रजि.) को एक सपने में देखना चाहते थे, क्योंकि उन्होंने उन्हें छः (6) महीने बाद देखा। जब अब्बास से पूछा गया हज़रत उमर (रजि.) कहां चले गए, बाद में उन्होंने कहाः “मत पूछो! अब केवल मैं अपना लेखांकन समाप्त कर रहा हूं।” (अपने जीवन के लिए)

हज़रत साद इब्न मुआद सबसे बड़े साथी थे। जब वह मर गए तो हज़रत जिब्राईल ने भविष्यदवक्ता से कहाः “अनगिनत कोणों ने उनके जनाजे में भाग लिया।” हज़रत साद के मृत्यु के कारण से दिव्य सिंहासन हिल रहे थे, उनके दफन के बाद दूत ने विस्मय में कहा, खुदा की महिमा करने के लिए क्या (दूसरों को कुछ होगा) यदि कब्र हज़रत साद का निचोड़ भी करे?

क़ब्र में हर किसी से “मुन्कर” और “नकीर” के द्वारा इस प्रकार के प्रश्न पूछे जाऐंगे जैसेः आपका खुदा कौन है? आपका नबी कौन? आपका धर्म क्या है? विश्वासीय बड़ी सुगमता से इन प्रश्नों के उत्तर दे सकते हैं और अविश्वासी नहीं दे सकते। यह प्रश्न व्यक्ति के जीवन में अन्य कार्यों के साथ लोगों द्वारा पीछा कर रहे हैं।

आत्मा और शरीर के बीच अलग संबंध के अनुसार ही वह दुनिया में रहते हैं। इस संसार में आत्मा शरीर के साथ ही सीमित है। यदि बुराई पर स्वयं निर्देशिता, शारीरिक इच्छाओं की भावना पर भारी है तो आत्मा ख़राब है और व्यक्ति के लिए प्रलय होगी। परन्तु यदि भावना बुराई के अनुशासन पर विश्वास कर सकती है, पूजा और भावना बुराई के अनुशासन पर विश्वास कर सकती है, पूजा और अच्छे आचरण के माध्यम से स्वयं अनुशासित और भव्यभाव से ही शारीरिक इच्छाओं के लिए स्वतंत्र है, यह परिष्कृत गुण प्राप्त शुद्धता और प्रशनीय है। यह प्रसन्नता आत्मा को दोनों दुनिया में मिलेगी।

दफ़न के बाद, आत्मा प्रतीक्षा करती है, मध्यवर्ती दुनिया में जाने की यह इस दुनिया के बाद की दुनिया है, हालांकि शरीर धरती में मिल जाता है।, इसकी आवश्यक कण एक सड़ांध है। एक हदीस के अनुसार यह एक कोकसीकस अर्थात (अजब अल धनाब) है। हम नहीं जानते कि इस पद के एक व्यक्ति के जीने को दर्शाता है, परन्तु यह भाग की परवाह है, यह शरीर के साथ संबंध बनाए रखने के लिए आत्मा कर प्रयोग करेगा। यह सब भोग दोबारा बना कर पेश किए जाऐंगे। खुदा को जब इन्साफ का दिन होगा तब। खुदा जब यह प्रकरण दोबारा बना कर हमें प्रलय के बाद फिर जीवन देता तभी सारे संसार को इंसाफ देगा।

“मध्यवर्ती दुनिया में आत्मा क्या करती है?” मध्यवर्ती दुनिया की सीमा है, जहां आत्मा स्वर्ग का आनन्द या नरक की सज़ा की सांस का आभास करती है। जो लोग नेतृत्व वाला धार्मिक जीवन जीते हैं और जीवन को अपने कर्मों (जैसे प्रार्थना, बंदगी, दान आदि) के मिलनसार साथी के रूप में दर्शित किए जाऐंगे। खिड़की खोली जाएगी, इसलिए कि वे स्वर्गीय दृश्य देख सकें और एक हदीस के रूप में कहा गया, क़ब्र एक स्वर्ग बागानों की भांति होगी, हालांकि यहां तक कि इन लोगों को कुछ दण्ड भुगतने होंगे, क्योंकि ऐसे दण्ड उन्हें सब पापों से शुद्ध और प्रलय के बाद उन्हें स्वर्ग के उपयुक्त बनाऐंगे।

अविश्वासियों को उनके अविश्वास और बुरे कार्यों से मिलवाया जाएगा, जो बुरे साथियों और बिच्छु और सांप के रूप में कीड़े माने जाऐंगे, व नरक की दृश्य दिखाए जाऐंगे और नरक गडढे के रूप में कब्र का अनुभव होगा।

“मौत के बाद क्या कुछ शारीरिक भाग या कोशिकाऐं जीवित रहती हैं?” जब तक हम इस दुनिया में रहते हैं, यह हमारी भावना है कि दर्द खुशी या मौज आभास करती है। तंत्रिका, तंत्र के माध्यम से भावना दर्द को आभास करने लगती है और इस तंत्र का उपयोग सभी शारीरिक भागों के साथ संवाद करता है, यह कैसे करता है, यह विज्ञान के लिए भी रहस्य बना हुआ है। साथ ही बात चीत भावना और शरीर विशेष रूप से मस्तिष्क के बीच पर जाने का प्रकार है। कोई भी शारीरिक असफलता कि तंत्रिका तंत्र के कार्य मौत को समाप्त करने का परिणाम है, हालांकि वैज्ञानिकों ने स्थापना की है कि कुछ मस्तिष्क कोशिकाएं मौत के बाद कुछ समय के लिए जीवित रह सकें। वैज्ञानिकों ने मृत्यु के बाद मस्तिष्क से प्राप्त संकेतों का अध्ययन किया है यदि वे ऐसे संकेत गूढ़वाचक कर सकते हैं। अपराधों के रूप में ऐसे क्षेत्र बहुत लाभदायक हो सकते हैं जब वे “समाधान के अयोग्य” अपराध को सुलझाने से आता है।

निम्नलिखित छंद (आयतें) जो हमें हज़रत मूसा अलैहि. के समय के दौरान की एक मृत व्यक्ति को पुर्नजीवित कैसे ईश्वर करेगा यह सुझाव देते हैं:

“जब मूसा ने अपनी क़ौम (लोगों) से कहा अल्लाह तुम्हें एक गाय ज़बह करने का हुक्म देता है.........., और तुम्हें याद है वह घटना जब तुम ने एक व्यक्ति की जान ली थी, और अल्लाह ने निर्णय कर लिया था कि जो कुछ तुम छिपाते हो उसे खोल कर रख देगा। उस समय हम ने हुक्म दिया कि मारे गए व्यक्ति की लाश को उसके एक भाग से चोट करो देखो, इस प्रकार अल्लाह मुर्दों को जीवन दान देता है, और तुम्हें अपनी निशानियां दिखाता है, ताकि तुम समझो।” (2:67,72,73)

“क़ब्र और नरक का क्रन्दन” ऊपर दिए गए आत्मा की समझ और तर्क है कि यह शरीर की आवश्यक कणों के साथ संपर्क में रहेंगे, जब तक मध्यवर्ती संसार में है, यह चर्चा कि यह भावना या शरीर या दोनों को क़ब्र में भुगतान होगा,’ व्यर्थ है। हालांकि जैसा कि ऊपर कहा, ईश्वर की ओर से प्रलय के दिन लोगों या उनके आवश्यक शारीरिक कणों के साथ दोबारा बनाएगा और वे अनन्त जीवन की “सुबह” पर पुर्नजीवित किए जाऐंगे।

क्योंकि आत्मा शरीर और उसके सभी सुख और दुख के भागीदारी के संसारिक जीवन के के साथ रहती है, ईश्वर ने शरीरिक ओर आध्यात्मिक दोनों लोगों का निर्माण किया। “अलह अल-सुन्ना वल ज़मात” (मुसलमानों की बहुसंख्यक) का मानना है कि आत्मा और शरीर एक साथ स्वर्ग या नरक में जाऐंगे। दूसरी दुनिया में ईश्वर अजीब रूपों में शरीर का निर्माण करेगा, जहां हर वस्तु जीवित होगीः “और यह दुनिया की ज़िन्दगी कुछ नहीं है मगर एक खेल और दिल का बहलावा। वास्तविक जीवन का घर तो आख़िरत का घर है, काश! ये लोग जानते।” (29:64)

“क्या उपहार हम मृत्यु के बाद आत्मा को भेज सकते है?” मध्यवर्ती दुनिया में आत्मा को हम देख या सुन सकते हैं, बशर्ते ईश्वर यह अनुमति दे। वह कुछ विद्वान लोगों का उनके देखने सुनने और उनके साथ संवाद करने की अनुमति देते हैं।

हमारे मरने के बाद, हमारे कर्मों का खाता बन्द नहीं होता, यदि हम अच्छाई, पुण्य बच्चों, पुस्तकों या संस्थाओं जिससे लोगों का लाभ जारी रहता है को पीछे छोड़ दें या यदि हम मानवता के लिए लाभ प्रद लोगों को लाए हैं या उनकी परवरिश के लिए योगदान दिया है, तो हमारे पुरस्कार का बढ़ना जारी रहेगा। यदि हम केवल बुरी चीजों को पीछे छोड़ आए तो, हमारे पापों में वृद्धि जारी रहेगी दूसरों को हानि पहुंचाने तक।

तो यदि हम अपने एक प्रेम करने वालों को लाभ पहुंचाने चाहते हैं जो दूसरी दुनिया में चले गए हैं तो हमें अच्छा उत्तराधिकारी होना चाहिए, हमें निर्धनों की मदद करनी चाहिए, इस्लामी सेवाओं में भाग लेना और एक अच्छा और धार्मिक जीवन व्यतीत करना चाहिए, और इस्लाम को बढ़ावा देने के लिए क्या खर्च किया और जिनको कुछ मदद की आवश्यकता है उनकी मदद करना, चाहे मुस्लिम या गै़र मुस्लिम हो। यह सभी गतिविधियां उनके पुरस्कार को बढ़ाने का कारण होगी।

एक प्राणी का जीवन दूसरे की मृत्यु पर क्यों निर्भर करता है?

जैसे दिन-रात का स्थान लेता है, वसंत, सर्दी के बाद और शरद ऋतु, गर्मी का स्थान लेती है, उसी प्रकार मृत्यु जीवन के बाद आती है। निर्माता जो सब कुछ नियंत्रित करता है, कुछ भी व्यर्थ में नहीं करता। वह निराशात्मक सबसे कम सामग्रियों में से सबसे सुन्दर और जटिल प्राणी बनाता है, क्योंकि अपनी रचना पर लगातार ताज़गी और नवीनतः प्रदान करना उसका स्वभाव है और क्योंकि वह हर चीज़ को स्थिर और विकसित होने के लिए प्रेरित और परिपक्व करता है। उगना और डूबना दोनों ही इस दुनिया में एक दूसरे के बाद आते हैं।

इस विषय में आगे जाने से पहले चलो मौत को परिभाषित करते हैं। मौत प्रकृति की एक अंतिम थकावट नहीं है, एक विनाश जो स्वयं से चल रही है, या किसी शून्य में विलुप्त होने वाली नहीं है। बल्कि यह एक परिवर्तन है, स्थान स्थिति और आयामक एक परिवर्तन है, शांति और आराम प्राप्त करने की सेवाओं की पूर्ति उनके बोझ से छुटकारा है। हर जीवित चीज़ के लिए उसके स्वयं सार और सच की वापसी या संक्रमण का प्रकार है। इस कारण से मौत जीवन के रूप की भांति वांछनीय है यह दोस्तों से मिलने की तरह आकर्षक है और अमरत्व प्राप्त करने के रूप में समझते, वे सदैव ही इसे भयानक रूप में देखते हैं और इसलिए उदास रचना करते हैं। ऐसे सभी लोगों ने मृत्यु के बारे में यही बातें देखी और आभास की है और इसके बारे में एक जैसी शिकायत की है।

क्योंकि मृत्यु-जीवन और जीवन से अलग है यह हमारे मन और हमें मानव बनाने की भावनाओं को प्रभावित करता है। मृत्यु के चेहरे पर मन को शांत करने के प्रभाव का इंकार करना असंभव है। मृत्यु हमारे मन में और मस्तिष्क में बहुत कोलाहल पैदा करती है, भले ही यह अल्पकालिक है। जी उठने में विश्वास, ऐसे सभी दुखों को भूलने का कारण है, क्योंकि यह उस व्यक्ति के राज्य प्रदान करना है जिसने सब कुछ खो दिया हो या उस व्यक्ति को अनन्त प्रसन्नता और जीवन का आश्वासन देना जो कि फांसी पर लटकने वाला हो।

जो लोग मृत्यु का असली अर्थ समझते हैं, उनके अनुसार मृत्यु अब किसी सेवा से छुटकारा, निवास का परिवर्तन या एक यात्रा नहीं है जहां किसी के अधिक मित्र चले गए हैं। जो लोग इस बात को नहीं समझते वो इसके भयानक अर्थ की सतह को देखते हैं: मौत को एक जल्लाद, एक फ़ांसी एक अथाह गडढे और अंधेरे मार्ग को शून्य में देखते हैं।

जब विश्वासी मौत का अनुभव शुरू करते हैं, तो स्वर्ग की सुन्दरियां और पुरस्कार उनके आगे आने लगते हैं। जब अविश्वासी जो आस्था के आनन्द से वंचित है मौत के बारे में सोचते हैं, वह नरक की आग और पीड़ा को आभास करना शुरू कर देते हैं, जो उनके विवेक के भीतर पोषण करती है। उनकी पीड़ा केवल उन तक सीमित नहीं है, क्योंकि अपने दिलों में वे उन सब की पीड़ा और दुख आभास करते हैं, जिनके साथ वे सुख, चिताऐं और हित समझते हैं। उनके दुख और सुख की हानि उनके लिए दुख का बोझ बढ़ा देता है, जो मौत को अंतिम अंत समझते हैं।

विश्वासी, मृत्यु को सेवा और जीवन की कठिनाईयों और बोझ से छुटकारा मानते हैं और जानते हैं कि हर चीज़ दूसरे स्थान पर उपस्थित रहती है। (फ़ार्म और विचार के रूप में अपनी पहचान में) इस प्रकार वे मृत्यु को उन्नति पूर्णता उच्च सार और प्रकृति के एक अधिग्रहण के रूप में देखते हैं, क्योंकि मृत्यु अनन्त अस्तित्व और आनन्द के फल वहन करती है, यह एक महान आशीर्वाद और दिव्य उपहार भी है।

हालांकि हर उन्नति और सुधार, हर आशीर्वाद और उसका अधिग्रहण, प्रारंभिक चरणों से गुजरना चाहिएः समीपी परिक्षण, सजावट और सफाई। उच्च स्तर में उन्नति और आध्यात्मिक प्रगति ऐसे परिक्षण और सफाई के माध्यम से ही आती है। उदाहरण के लिए बच्चे अयस्क, शुद्ध धातु के ऊपज से पहले, शुद्ध भट्ठी में नाश हो जाते हैं। जब तक अयस्क इस तरह संसाधित किए जाते हैं, वे मिट्टी और चट्टान में उपस्थित रहते हैं। धातु के बिना परिक्षण करें तब भी अपने असली रूप में प्रस्तुत किया जा रहा है।

यदि हम इस साहश्य को स्वीकार करते हैं तो मृत्यु के लिए एक समाप्ति को समझते हैं, वास्तविकता में शून्य में एक विलुप्त गुज़र होना एक अधिक ऊँची गुज़र है जो एक प्रतीत में होता दिखाई देता है। जब प्रत्येक गै़र संवेदन उत्तेजना के साथ कदम दिखाई देता है, यह वास्तविकता में इसके निर्धारित पूर्णता की ओर विचार कर रहा है। जब आक्सीजन और हाईड्रोजन और हाईड्रोजन परमाणुओं का गठबंधन होता है, तो वे अपनी अलग पहचान बनाते हैं। पुनः एक पानी के रूप में पुर्नजन्म होने के लिए जो कि सभी जीवित रूपों की जीवन शक्ति के लिए आवश्यक है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि मृत्यु स्थान का बदलाव है और इसका अंत या विलुप्त नहीं। ब्रह्माण्ड परिवर्तनों से सुन्दर, ताजा और उत्कृष्ट है और बड़ी भौतिकों द्वारा सूक्ष्म कणों से भीतर वियोजन परिणाम है। यही कारण है कि हम प्राणियों के उच्च मोड़ के लिए आंदोलन के रूप में उनके ब्याज विलुप्त होने के रूप में मृत्यु को परिभाषित करते हैं।

एक और मामले में मृत्यु के समय जब एक जा रहा है और त्याग दे रहा है अपने हाथों से अपने उत्तराधिकारियों को कार्य दे रहा है तो उनकी दृष्टि से सभी बातों पर संप्रभुत्ता और अधिराज्य में अधिनियमित किया गया है। प्रत्येक प्राणी एक अनोखी नुमाईश में से एक है जिसकी यह उपस्थिति दी गई है, उपस्थिति से पहले प्रस्तुत करने का आरोप है, इससे पहले अपनी नुमाईश समाप्त हो और इससे चित्र या दर्ज बनाया जाए और संग्रहित उसके उत्तराधिकारियों की नुमाईश शुरू हो जाती है जो समानता की नुमाईश शांत मैदान में नए और शुद्ध सक्रिय परिणामों के साथ दर्शित है। अपनी भूमिका ही अलग दिखाता है ताकि अन्य लोग इसे देख सकें, चाल से बाहर प्रत्येक कार्य करता है। बाहर अपनी भूमिका और अधिनियम का कौशल दिखाता है। शुद्धता, आजीविका, सुन्दरता और उत्कृष्ट रचना में आ रही इन विविधताओं और चाल का परिणाम है।

मौत को भी चुप सलाह के रूप में समझा जा सकता है इसका अर्थ है कि आत्मा विद्ययमान कुछ नहीं है। दूसरे शब्दों में स्वयं से जीवित या स्थातित्व कुछ भी नहीं हो सकता। यह एक लुप्त होती अनन्त प्रकाश का एक स्त्रोत है कि स्थिर और शाश्वत को इंगित करता है। जो शौक और भंगुरता और सभी चीजों के बारे में अनित्य शिकायत के लिए है, जैसे यह परिपक्व करने के लिए और सच्चा सुख प्राप्त करने के लिए एक अच्छा पाठ है। जो कुछ भी या जो कोई भी एक दिन हमारे दिल को लुभाता है, जो हमें पे्रम के द्वारा एक किये जा रहा है, उसके लिए हम प्यार और अनन्त के लिए सूचित करने का कारण बनना छोड़ देंगे। हमारे क्षणिक दुनिया में ऐसी चेतावनी चलती है जैसे प्राप्त अनन्त काल का पहला चरण है। मृत्यु रहस्मय की उस गरिमा के लिए लोगों को ऊपर उठाती है।

यह देखते हुए हम मौत से एक स्वस्थ हाथ मिलाने के लिए एक पूर्ण स्वास्थय प्राप्त कर सकते हैं। हमें चोट लगी होगी तो दया के रूप में चिकित्सक को दी दर्द होता हैः एक आवश्यक टीका या इंजेक्शन, एक गंभीर तलवार या दरांती मीठे गीत को बर्बाद करने के लिए बहुत है। नई पीढ़ी के लिए स्थान बनाने का एक मात्र उपयोगी द्वार मौत है जबकि वह इसे गलत दृष्टिकोण से देखते हैं। मृत्यु पूर्ण विनाश या विलुप्त के लिए नहीं है बल्कि यह ग़ायब हो जाती है। हमारी सीमित समझ से और क्षीतिज के भीतर अधिक विशेष (फार्म और विचार के रूप में) करने के लिए हमारी यादों में उपस्थित रहते हैं। ख़ुदा सबको ज्ञान की पहचान के लिए सम्मिलित नहीं करता है, वे भी विभिन्न कार्याकलापों में उपस्थित है और स्थानों में उन कार्याकलापों के मूर्त की समझ से दूर है उदाहरण के लिए बीज और फूल खिलते हैं और मर जाते हैं परन्तु फ़ार्म और विचार के रूप में अपनी पहचान कई चीज और फूल बाद में खिलाए जाने के लिए जारी है।

एक अन्य कोण पर विचार करें। यदि कोई नहीं मरता तो हम नरक में एक लगातार आतंक के रूप में नहीं रहते, हमें एक को तोड़ने या आराम के बिना एक अंतहीन अस्तित्व का सामना करना पड़ता? हम किसी के, या कुछ भी मूल्य के उपयुक्त है यह संरक्षण कैसे नाप सकते हैं, या हमारी ऊर्जा ध्यान केन्द्रीय है, बाहर एक प्रण बनाए रखने के लिए एक सांचे में यदि समय असीमित था? यदि ऐसी स्थिति अस्तित्व में है, तो अब क्षण्स्थयता है तो मृत्यु का शोक उनकी चातुर्थ अनुपस्थिति का शोक होगा। इसके अतिरिक्त हमें निर्माण और अपार विविधता का अनुभव नहीं है, और छवियों को यह सौंदर्य के साथ संकेत भी देता है कि मानव के मन को ताज़गी और पुनः नया करने के लिए उपयुक्त हानि भी होगी। स्थिरता के भीतर इस प्रकार नवीनता के एक “चनारमा” के आभाव में मनुष्य का मन सोचने से दूर है कि झूठ और बनावटी दिखावटी दुनिया से लोगों को प्रेरित किया जा सकता है। हम कैसे खोज कर सकते हैं, और पूजा कर सकते हैं उसकी जो सब कुछ बनाता और हमें प्रदान करता है।

चलो एक अलग कोण के विषय के साथ सौदा करें। यदि सब कुछ मृत्यु के बदले जीवन पर निर्भर है, यदि प्राणियों को आपदाओं के माध्यम से जीवित करना जारी रखा, और यदि हर जीवित ने और हर किसी ने एक ही दिशा का पीछा किया अर्थात एक ही दिशा में चले तो क्या होगा?

जो हम ने कहा उसके आधार पर मृत्यु में आशीर्वाद और ज्ञान, मृत्यु के बिना जीवन इतना बेतुका और भयंकर होता कि यदि ऐसी स्थिति का पूरा वर्णन किया जाए तो लोग मृत्यु की बजाए जीवित रहने पर रोएंगे और शोक जताऐंगे।

यदि कुछ नहीं मरता, तो इस संसार के प्रारम्भिक समय के कोई मक्खी या मनुष्य जीवित नहीं रह सकता क्योंकि पूरा ग्रह पौधों और लताओं और चीटियों से भरा होता और कुछ भी बच या उचित नहीं हो सकता था और बाढ़ में यदि कोई चींटी या आई हुई लता नहीं मरती तो उनकी मोटी परतें, पृथ्वी को ढकी हुई होती क्योंकि इन ब्यानों को विवाहित नहीं किया जा सकता, हम देख सकते हैं कि मृत्यु एक ऐसा महान आशीर्वाद है और महान ज्ञान मृत चीजों के विघटन की अनुमति दे रहा है।

पृथ्वी की चित्ताकर्षक सुन्दरता और भव्यता इतनी बड़ी संख्या की आई हुई लता और चीटियों को कैसे देखा जा सकता है? यदि ऐसी स्थिति प्रबल बनाई गई होती तो यह दुनिया जो उनकी कला की वैभव भव्यता को दर्शाती है कैसी होगी? इस दुनिया के निर्माता और स्वामी की शक्ति ज्ञान और कृपा के गवाह कैसे बन सकेगें?

मौत का अभाव एक और समस्या को वृद्धि देगा, इस ब्रह्माण्ड के शासन में शानदार ज्ञान और व्यवस्था यह दिखाती है कि इसमें कुछ भी व्यर्थ नहीं बनाया गया। शारीरिक और आध्यात्मिक राज्य का निरपेक्ष मालिक हों सबसे बेकार दिखाई देने वाली चीजों से सबसे सार्थक चीजें बनाता है। बेकार को अमूल्य बनाता है नए और उत्कृष्ट कृतियां उसके कर्मचारियों के शारीरिक रूप से सेवारत कोशिकाओं से उत्पन्न हुई है, खास कर वे जो मानव आत्माऐं बनाती है जो ईश्वर ने याद रखा है और अपने स्थानों में उसे धारण किया। यदि शरीर जो उसने इतनी अत्यधिक मूल्यवान बनाई है कि उसने उनमें मानव आत्माऐं डाली हैं, उन्हें कुछ नहीं में विघटन होने की अनुमति दी गई, निर्माता की सर्वज्ञ बुद्धि का खण्डन नहीं किया जाएगा कोई भी ऐसा राष्ट्र उसके दिव्य सम्मान के बिल्कुल विपरीत है और इसलिए उसका आदर नहीं करना चाहिए।

अंत में सभी निर्माण उनकी तुलना और व्यवस्था नियंत्रण और प्रशासन, जिसके द्वारा उसकी जटिल एकता निरंतरित है, इतने भव्य है कि यह उन सभी लोगों को प्रेरित करता है, जिनके मन और दिमाग़ आस-पास की प्रसन्नता और उनकी हरकत, पेड़ पौधों का बढ़ना, नदियों का समुन्द्र में बहना, समुन्द्र का बड़ा क्षेत्र, शान और अगणित शक्ति, समुन्द्र के पानी का वाष्पीकरण और जीवन दानी वर्षा के रूप में उसकी वासी-प्रत्येक चीज़ बहुत उत्सुकता से दौड़ती हुई एक मंच से दूसरे उच्च और बेहतर पर चली जाती है।

यह क्या ब्रह्माण्ड है। यह कैसे हमारे मस्तिष्कों को व्याकुल बना देता है सर्व शक्तिमान के चमत्कार मेरी आँखों पर टहलते हैं जो सत्य स्वर्ग से फैलते हैं वह स्वर्ग की मुस्कान हैः

“उसके प्रकाश के पर्दे, शानदार विभिन्न प्रकारों के रंग में, घास में समुन्द्र में पहाड़ों में उच्छलती सुब्हा ऐसी दुनिया में पैदा हुए, एक कवि की इच्छा रखना केवल प्राकृतिक है।”

Pin It
  • Created on .
प्रकाशनाधिकार © 2020 फ़तेहउल्लाह गुलेन. सर्वाधिकार सुरक्षित
fgulen.com प्रसिद्ध तुर्की विद्वान और बौद्धिक फतहुल्लाह गुलेन पर आधिकारिक स्रोत है