कुरआन

क्या पैगम्बर हज़रत मुहम्मद (स.अ.व) ने कुरआन लिखा है?

इस सवाल के रूप में साहित्य का एक महान सौदा उत्पन्न किया। मैं सबसे उचित अंधों के लिए मेरा उत्तर सीमित रहेगा, यह आरोप पूर्व देशियों द्वारा किया गया था। ईसाई और यहूदी लेखकों जो इस्लाम के गहरे प्रसार का विरोध करते हैं। जिन्होंने सबसे पहले यह किया वे नबी के विरोधी थे, जैसा कि हम कुरआन में पढ़ते हैं: “और जब उनके सामने हमारी खुली आयत (छंद) पढ़ी जाती है। तो काफिर (गैर मुस्लिम) लोग उसके पक्ष के बारे में जब वो उनके पास पहुंचता है कहते हैं कि ये सरीह जादू हैं या “ये लोग कहते हैं: वो ही बख्शने और रहम करने वाला है।”(46:7-8) वे इस्लाम की बढ़ती ज्वार के विरूद्ध उनके हितों की रक्षा और आशा व्यक्त करने के लिए व्याकुल थे क्योंकि उनके आधुनिक समकक्षों कुरआन के दिव्य ग्रन्थधारिता के बारे में संदेह फैल गया ताकि मुस्लिम अपने अधिकार के रूप में अच्छी तरह शक कर दे।

कुरआन अद्वितीय है जबकि धर्म पुस्तक (इंजील) दो मामलों में है, पहला कुरआन अरबी में मौजूद है, उसकी मूल भाषा एक और है जो आज भी व्यापक रूप से बोली जाती है, दूसरा उसके पाठ पूरी तरह विश्वासनीय है, इसके रहस्योदघाटन के बाद से इसमें कोई संपादन, परिवर्तन या मिजाज में छेड़ छाड़ नहीं की गई।

इसके विपरीत में ईसाई धर्म के पादरी अपनी मूल भाषा को नहीं बचा पाए, इन शास्त्र के जल्द से जल्द जीवित संस्करण की भाषा एक अतिरिक्त मृत भाषा है(42) और उनके पाठों में पीढ़ियों पर बहुत से लोगों का कार्य, सम्पादन और पुनः संपादन क्षेपक भरने का कार्य और अंतवेषित को दिखाता है।

सांप्रदायिक व्याख्याओं को बढ़ावा देने के लिए वे शास्त्रों के रूप में अपने अधिकार खो दिए हैं और समूहों के सुदूर जिनके पूर्वजों ने उनके विशेष संस्करण बनाए एक राष्ट्रीय या सांस्कृतिक पौराणिक कथाओं के रूप में मुख्य रूप से सेवा करते हैं। यह है, कम या अधिक एक बार दिव्य पुस्तकांे की स्थिति के बारे में पश्चिमी विद्ववानों द्वारा सहमती।

लगभग 200 वर्षों से पश्चिमी विद्ववानों का व्यक्ति परक कुरआन वही कठोर छानबीन के लिए है, हालांकि ये साबित करना है कि वे एक ऐसी प्रक्रिया के अधीन था वे विफल रहे हैं। उन्होंने यह पता लगाया कि ईसाईयों की तरह मुसलमान भी कभी कभी के गुट में बिखर गए। परन्तु ईसाई के विपरीत सभी मुसलमान अंश के लिए एक ही कुरआन का हवाला देते हुए अपनी स्थिति के औचित्य की मांग की ईसाई धर्म के अन्य संस्करण प्रकाशन या खुले हो सकते हैं:- “हालांकि सभी मुसलमानों का पता है कि केवल कुरआन पूरी तरह से पैगम्बर की मृत्यु के बाद उसके मूल शब्दों में संरक्षित है, जबकि रहस्योदघाटन समाप्त है।”

मुसलमानों के पास “सुन्ना” में पैगम्बर कि शिक्षण का दस्तावेज है, दैनिक जीवन में उनके इस्लाम के कार्यान्वयन कई है परन्तु निश्चित रूप से सभी नहीं, सब पैगम्बर कार्यवाही और सटीक शब्दों को हदीस में संरक्षित कर रहे हैं(45) यह दोनों स्त्रोत अभिव्यक्ति या सामग्री की गुणवत्ता अधिक भिन्न नहीं हो सकते। सभी अरबों में जिन्होंने नबी की बात का सुना, धार्मिक संबंद्धता की परवाह किये बिना उनके शब्द संक्षिप्त, सशक्त और प्ररक से स्थापित किए। परन्तु फिर भी अपने स्वयं के सामान्य उपयोग की तरह हो पाया। जब उन्होंने कुरआन सुना है तथापि वे उत्साह, परमानन्द और भय की भावना से अभिभूत थें हदीस में एक भावना है कि एक व्यक्ति की उपस्थिति अन्य लोगों को संबोधित करती है। एक आदमी भारी सवालों पर विचार करने ज बवह बोलता है, उपयुक्त गंभीरता और दिव्य इच्छा के गहरे भय में कुरआन दूसरे हाथ पर तुरन्त आवश्यक और उदात्त रूप में माना जाता है। एक उत्कृष्ठ शैली और सामग्री के सम्मोहक महिमा रही है, यह समझ और तर्क को नकारने के लिए लगता है कि कुरआन और हदीस समान मूल है।

कुरआन किसी भी मानव उत्पाद के अपने दृष्टिकोण और दृष्टिकोण के अतिक्रमण से बिल्कुल अलग है। कुछ बिखरे वाकांशों या अन्य शास्त्र मार्ग में कभी कभी समान है, पाठकों या श्रोताओं अनुभव कर सकते हैं कि वे दिव्य संदेश की उपस्थिति में मानवता को संबोधन कर रहे हैं। कुरआन में हर अक्षर इस विशिष्ट तीव्रता के चिन्ह की धारणा को वाहन करता है एक जो सब जानता है और सबसे दयालू है।

इसके अतिरिक्त कुरआन को दूरी या विचार विमर्श और सार में बहस पर विचार नहीं कर सकते। इसकी आवश्यकता हमारे लिए समझने, अधिनियम और हमारी जीवन शैली में संशोधन के लिए है यह हमें ऐसा करने लिए सक्षम बनाता है, क्योंकि हमारे अस्तित्व में बहुत गहराई से संपर्क कर सकता है। यह हमें हमारी पूरी वास्तविकता के आत्मिक और शारीरिक रूप से सक्षम संबोधित करता है, एक अखिल दयालु के जीव के रूप, काव्य या कलात्मक, संवेदनशीलता हमारी क्षमता के लिए बदलना और हमारे पर्यावरण या राजनीतिक और कानूनी मामलों का प्रबन्ध। आपसी दया और क्षमा के लिए हमारी आवश्यकता और ज्ञान और सात्वना के लिए हमारी आध्यात्मिक तृष्णा को संबोधित नहीं करता। कुरआन ने हर किसी को आयु, लिंग, स्थान, जाति या समय की प्रवाह किए बिना निर्देश दिया है।

इस अतिक्रमण और परिपुर्णता की हर बात को कुरआन के विशेष रूप से उल्लेख में अनुभव किया जा सकता है। उदाहरण के लिए एक बुजुर्ग माता-पिता की देख भाल ईश्वर एकता में विश्वास के बाजू में रखा गया है। भद्ता से एक तलाक शुदा पत्नी की सब कुछ जानने और सब कुछ देखने वाले से सचेत रहन की चेतना दी, हालांकि ऐसे पद के पीछे कारण केवल ईश्वर है, उसके विश्वासी सेवकों को पता है और उसके प्रभाव को सूचित कर सकते हैं। यह भीतरी आत्मा का सक्षम है। वह धार्मिक कार्यों के स्थिर, हंसमुख और विनम्र प्रदर्शन के लिए सुधार संभव को बनाता है। इस प्रकार करता है वह इनायत (परोपकार) करता है और उसके प्राप्त कर्ता उसके द्वारा आत्याचारी या अपमानित नहीं किए जाऐंगे।

कुरआन उसके आलोचकों को चुनौती देता है कि वह इसकी कोई एक पाठ लाकर दिखाए कोई भी सफलतापूर्वक इस चुनौती का सामना नहीं कर सकता, वास्तव में इस तर की उपलब्धि असंभव है क्योंकि केवल ईश्वर कुरआन की सभी उत्कृष्ट और सब दयालु परिप्रेक्ष्य की कल्पना कर सकता है, हमारे विचार और आकांक्षा प्रभावित है और परिस्थितियां आस-पास के वातानुकूलित के द्वारा प्रभावित है। यही कारण है अभी यह बाद में सभी मानव काम असफल या फीके, अप्रचल में चले जाएंगे और क्यों वे किसी विशिष्ट प्रभाव के लिए बहुत सामान्य है या वे पता जो विशिष्ट क्षेत्र से दूर है, विशिष्ट के लिए बहुत अच्छा है। हम जो भी उत्पादन करें सीमित मूल्य से इन कारणों के लिए करें जैसे कुरान कहता हैः “आप वह दीजिए यदि तुम इंसान और जिन इस बात के लिए एकत्रित हो जाऐं कि ऐसा कुरान बना लो तो भी ऐसा न ला सकेंगे और यदि वो सब एक दूसरे के मद्दगार भी बन जाऐं (17:88)

सब जानने और सब देखने के लिए कुरान एक शब्द है, जो अपने सृजन के बारे में सब कुछ जानता है। इसलिए अपने दर्शकों को अपने परीक्षण के रूप में समझाता और दिखाता है। विश्वासियों के लिए अस्तित्व की सचेतता दिव्य संदेश से पहले उनकी खाल कंपकपी बना सकती है, कुरआन के शब्दों में तो अचानक पूरी तरह से आस-पास के माहौल और उन्हें बदलने के भीतर है।

कुरआन के पदार्थ भी अपनी दिव्य ग्रन्थकारिता के लिए एक सम्मोहक तर्क है, जो लोग आरोप लगाते हैं किसी ने यह लिखा है उसकी प्रतीक्षा के समर्थन के लिए कोई साक्ष्य प्रदान नहीं करते अन्य शास्त्रों, मानव हस्तक्षेप के कारण, हम गलत जानने का दावा करते हैं। उदाहरण के लिए वे सृजन का एक खास खाता देते हैं या प्राकृतिक घटना (जैसे बाढ़) जो हमें आधुनिक वैज्ञानिक तथ्य से पता है इस तरह के रूप में जीवाश्म था। ज्योतिष संबंधी खोजें गलत होती हैं, उसकी अपनी समझ को माफिक करने के लिए लोग उन शास्त्रों को बदल देते हैं। परिणाम के साथ कि विज्ञान की प्रगति उनकी समझ और उनके अभी भ्रष्ट शास्त्रों बड़े पैमाने पर अप्रचलित और अप्रासंगिक है हालांकि कुरआन ऐसे दुराचार के अधीन नहीं है।

यदि किसी ने कुरआन लिखा था, अपने ब्यान के समय में पूरी तरह से अनभिज्ञ थे वे मामलों पर सचमुच सही कैसे हो सकता है? “क्या काफिरों (खुदा से इंकार करने वालों) ने नहीं देखा कि आसमान और धरती मिले हुए थे तो हम ने अलग-अलग कर दिया, और हर जानदार वस्तु हम ने पानी से बनाई फिर यह लोग ईमान क्यों नहीं लाते?” (21:30) पिछले वर्षों पहले हम ब्रह्माण्ड के पहले क्षण के सही अर्थ को विचार दिए हैं।

इसी प्रकार जब हम अब पढ़ेः “अल्लाह तो है जिसने बिना स्तम्भों के आसमानों को ऊँचा खड़ा कर दिया जो तुम देखते हो फिर अर्श पर विराजमान को ऊँचा खड़ा कर दिया जो तुम देखते फिर अर्श पर विराजमान हुआ और उसने सूरज और चांद को एक नियम पर लगा दिया। इस सारी व्यवस्था की हर चीज एक निश्चित समय तक के लिए चल रही है और अल्लाह ही इस सारे कार्य को नियंत्रण कर रहा है। आयत खोल खोल कर ब्यान करता है ताकि तुम अपने रब के सामने हाजिर होने का विश्वास कर लो।”(13:2) अब हम विशाल केन्द्र पसारक और केन्द्राभिमुख बलों स्वर्गियों के बीच संतुलन बनाए रखने के रूप में अदृश्य स्तम्भों को समझ सकते हैं। हमें इससे और संबंधित छंदों से समझते हैं। (उदाहरणतः 55:5, 21:33, 38, 39 और 36:40) कि सूर्य और चन्द्रमा एक निश्चित जीवन अवधि के साथ तारें हैं। कि उनके प्रकाश की चमक फीकी पड़ गई या पड़ जाएगी और कि वे सबसे अधिक मिनट शुद्धता के साथ निर्धारित ग्रह पथ का पालन करें।

इन आयतों की शाब्दिक समझ, उत्तरदायित्व को घटाना नहीं है, जो समझ के साथ आती हैः- “कि आप निश्चित रूप से अपने प्रभु के साथ बैठक में विश्वास कर सकते हैं” आयतों (छंदो) का उद्देश्य नहीं बदलाः केवल अद्धत दुनिया के हमारे ज्ञान बदल गए हैं। पूर्व शास्त्रों के मामलों में वैज्ञानिक प्रगति उनके गलत प्रकार से कभी अधिक दिखाई दी थी और उनके संबंद्ध विश्वास कभी अधिक अप्रासंगिक थे, केवल इसके विपरीत कुरआन के साथ सही है। ऐसी प्रगति ने कई छंद अधिक समझ के बनाए थे विश्वास या समझने के लिए।

अभी तक कुछ लोग अब भी आरोप लगाते हैं कि नबी ने कुरआन लिखा था, बल देकर कहा कि वे भावना और तर्क के पक्ष में हैं, जबकि वे आरोप लगाते हैं अदमियत असंभव क्या है? एक सांतवी सदी का आदमी जो हाल ही में वैज्ञानिक सत्य चीजों के रूप में स्वीकार की गई है। कैसे पता कर सकता है? यह अदमियत के लिए कैसे संभव है? कारण और भावनाओं के पक्ष में इस प्रकार की बात पर दावा कैसे है? पैगम्बर का अविष्कार कैसा हुआ, केवल हाल की पुष्टि में एक सरचनात्मक और जैविक परिशुद्धता के साथ क्या स्तनपायी ऊतकों में दूध उत्पादित होना है? कैसे बारिश बादलों और ओले प्राप्त या खाद गुणवत्ता एक हवा निर्धारित करती है या के धरती उपजाऊ पारी और महाद्वीप फार्म और सुधार की व्याख्या उसने कैसे खोजा? उसके साथ क्या विशाल दूरबीने है, जिससे उसने ब्रह्माण्ड के चल रहे शारीरिक विस्तार को सीखा? एक्स-रे दृष्टि के बराबर वे क्या है जो भ्रूण विकास गर्भाशय के भीतर वह ऐसे महान विवरण के विभिन्न चरणों का वर्णन कर रहा था?

कुरआन के एक दिव्य मूल का एक और साक्ष्य है क्या उसकी अंततः भविष्यवाणी सही होती है। उदाहरण के लिए साथियों ने “हुदाएबिया” की हार की एक संधि पर विचार कियाः “बिना शक अल्लाह ने अपने रसूल को सच्चा सपना दिखाया है जो बिल्कुल घटना के अनुसार है तुम लोग इन्शाअल्लाह “मस्जिद-ए-हराम” में अवश्य प्रवेश करोगे ताकि इस्लाम को सारी दुनिया पर पराजित हो गए है, और अपनी इस पराजय के बाद कुछ ही वर्षों में वे विजयी हो जाएंगे, अल्लाह ही का अधिकार है पहले भी और बाद में भी और वह दिन वह होगा जबकि अल्लाह मदद देता है जिसे चाहता और वह प्रभुत्वशाली और दयावान है।”(30:2-5) एक समय पर जब वहां शायद नयून 40 विश्वासी थे जिनमें सभी को प्रमुख्यतः मक्का वालों द्वारा सताया गया।

हालांकि नबी एक आदर्श वासी व्यक्ति थे तो भी वह रहस्योदघाटन और गै़र इस्लामी मामलों में त्रटियां कर सकते थे। उदाहरण के लिएः जब उन्होंने कुछ मक्कार आदमियों को जिहाद से निकाला तो उन्हें बहुत भला बुरा कहा गया। “अल्लाह ने आप को क्षमा कर दिया, आप ने उनको अनुमति क्यों दी, जब तक सच्चे लोग आपके सामने न प्रकट होते और झूठों को मालूम न कर लेते।” (9:43)

जंग-ए-बदर के बाद वह फटकारे गएः “किसी नबी के लिए यह उचित नहीं है कि उसके पास कैदी हो जब तक कि वह धरती में दुश्मनों को अच्छी तरह कुचल न दे। तुम लोग दुनिया के लाभ चाहते हो, हालांकि अल्लाह के सामने आखिरत है, और अल्लाह प्रभुत्वशाली और तत्वदर्शी है। यदि अल्लाह का लेख पहले न लिखा जा चुका होता तो जो कुछ तुम लोगों ने लिया है उसके बदले में तुम को बड़ी सज़ा दी जाती।”(8:67-68)

एक बार उन्होंने कहा कि वो कुछ करेंगे, अगले दिन परन्तु उन्होंने नहीं कहा किः “यदि ईश्वर ने चाहा तो” इन्शाअल्लाह “और देखो किसी चीज के बारे में ऐसी बात मुह से निकल जाए तो तुरन्त अपने रब को याद करो और कहो “उम्मीद है कि मेरा रब इस मामले में सच्चाई से निकटतम बात की ओर मेरा मार्गदर्शन करेगा।”(18:23-24) “और तुम लोगों से डर रहे थे हालांकि अल्लाह इसका ज्यादा हक रखता है कि तुम उससे डरो।”(33:37)

जब उन्होंने कहा कि वे अब शहद का प्रयोग नहीं करेंगे और न ही शहद का शर्बत पियेंगे, तो उन्हें चेतावनी दे दी गईः “ऐ नबी (मुहम्मद) तुम क्यों उस चीज़ को हराम करते हो जिसको “अल्लाह ने तुम्हारे लिए हलाल किया है? (क्या इसलिए कि) तुम अपनी बीवियों की प्रसन्नता चाहते हो? अल्लाह माफ करने वाला और दया करने वाला है।” (66:1)

अन्य छंदों में जब वह पैगम्बर के ऊँचे शुल्क और ज़िम्मेदारी को स्पष्ट ध्यान में लाया जाता है उसके अधिकार की सीमा को ज्ञात किया जात है, वहां दूत और उसे पता चले संदेश के बीच स्पष्ट स्थान है तो एक व्यक्ति और उसको निर्माता के बीच के रूप से स्पष्ट है।

पूर्वी इस्लाम के डर से दिव्य ग्रन्थकारिता इन्कार करते हैं कई चमत्कार कुरआन के साथ जुड़े रहे हैं, एक स्पष्टता है कि कैसे जल्दी से वह अपने संविधान और रूपरेखा के रूप में सेवा के द्वारा एक विशिष्ट और स्थायी सभ्यता की स्थापना की यह प्रशासनिक, क़ानूनी और वित्तिय सुधार विभिन्न सांस्कृतिक समुदायों और धर्मों के एक विशाल राज्य को बनाए रखने के लिए आवश्यक है। कुरआन एक सत्यता वैज्ञानिक जिज्ञासा से प्रकृति और यात्रा का अध्ययन करने के क्रम में विभिन्न लोगों और सांस्कृतियों के अध्ययन को प्रेरित किया। लोगों ने आग्रह के लिए व्यवसायिक उद्यमों को पैसा उधार देने के लिए और ब्याज का परित्याग करके यह सुनिश्चित बनाकर कि समुदा का बढ़ता धन प्रसारित होगा। इसने पहली सार्वजनिक साक्षरता और सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रमों को प्रेरित किया, पूजा के लिए दोनों के रूप आवश्यक थे। कुरआन भी गरीब और विधवाओं और अनाथों की, ज़रूरत मंद बंधकों और देनदार की सुमगता के लिए, दासों को मुक्त और नए मुसलमानों का समर्थन करने के लिए अतिरिक्त धन के पुर्नवितरण के आयोजन की कमान संभाली।

कोई एक इस सूचि को बड़ा फैला सकता है, क्योंकि केवल कुरआन ही कई लोगों की क्या इच्छा है को प्राप्त कर पाया है। क्या हम कम से कम एक भी ऐसे मानव विचार को नहीं जानते कि वे कैसे आदर्श समाज को चलाए या स्थापित करे, कम से कम एक यंत्र या सूत्र पक्षपात समाजिक, सांस्कृतिक या राजनीतिक समस्याओं को हल करने के लिए क्या उनमें से कोई भी काम किया या टिके रहे?

जो लोग कुरआन की दिव्य ग्रन्थकारिता का इंकार करें वे उसकी शक्ति और अधिकार से डरते हैं, और कि एक दिन मुसलमान उसके आदेश का पालन करेगा और उसकी सभ्यता को बचा के रखेंगे। वे शुद्ध मुस्लिम साथ ही साथ अन्य मुस्लिमों को चाहेंगे कि कुरआन निश्चित समय और स्थान से संबंधित मानव काम है पर विश्वास करेंगे, और इसलिए कोई लम्बा प्रासंगिक नहीं, ऐसा विश्वास भी है कि दुनियावी धर्मों के वर्तमान स्थिति से इस्लाम को निकाला जा रहा है कुछ की एक निविदा स्मृति लम्बे समय से चली गई।

वे धोखे बाज मुस्लिम के क्रम में स्वीकार करते हैं कि कुरआन इस समय के लिए बहुत उन्नत किया गया है हालांकि वे जो उन्नत कर रहे हैं, जो बौद्धिक और सांस्कृतिक स्वतंत्रता की जीवन शैली की पेशकश औ सभ्यता है, जबकि कुरआन और इस्लाम से पिछड़े हैं, परन्तु वैज्ञानिक प्रगति का अद्धभुत दुनिया से संबंधित प्रश्नों पर कुरआन की सटीकता साबित है और हमें बेहतर कुरआन समझने में मदद करता है। केवल के रूप में मानव रिश्तेदारी की हमारी समझ में वृद्धि और मानव मनोविज्ञान इन क्षेत्रों में उसके विश्वास को स्थापित करेगा।

यह कहना कि कुरआन एक व्यक्ति ने लिखा है सिर्फ इस बात को समझने की असफलता को प्रतिबिम्बित करता है कि सारे व्यक्ति ईश्वर के प्राणी हैं, जिसने हमें सब कुछ दिया। हम स्वयं का निर्माण नहीं कर सकते क्योंकि हमारे जीवन हमें दिए गए हैं, ऐसे ही हमारी ध्यान, समझने और दया अनुभव करने की योग्यता है। हमें यह चतुर, भिन्न और फिर से बनाने के योग्य संसार इसलिए दिया गया है ताकि हम इन योग्यताओं का अभ्यास कर सकें। इसके अतिरिक्त कुरआन दया का उपहार है क्योंकि यह असंभव है कि इसका लेखक कोई व्यक्ति हो सकता है।

कुरआन 23 वर्षों की अवधि में क्यों उतारा गया?

इससे पहले कि मैं इस प्रश्न का उत्तर दूं, चलें इस बात पर ध्यान देेते हैं कि यदि कुरआन एक ही बारी में उतारा जाता तो लोग कहते “कि यह सभी एक ही बारी में क्यों उतारा गया और सूत्र धारा में क्यों नहीं” ऐसे प्रश्नों का परम उत्तर केवल ईश्वर के पास ही है जो कि सबसे बुद्धिमान और सब कुछ जानने वाला है। हमारे निर्णय एक बहुत ही सीमित दृष्टिकोण पर आधारित है क्योंकि हम सीमित जीव हैं। दूसरी ओर दैवी फरमान हर चीज विचारता है- हमारे नैतिक और आध्यात्मिक हित, संसारिक सुख, भाविष्य और वर्तमान और पूरे को एक ढंग में बुनना चाहता है जो कि कृपा और बुद्धि के साथ सुसंगत हैं इस प्रकार जो लाभ हम दिव्य आज्ञाओं से प्राप्त करते हैं वह अथाह है और उनका पालन करने से जो आशिर्वाद मिलता है वह हमारी कल्पना से दूर है। इसलिए तरीके के साथ ही ईश्वर ने कुरआन को उतारना चुना।

रहस्योदघाटन तक शुरू हुआ जब मानवता को परिपक्वता तक पहुंचने का समय था। पैगम्बर और उनके समुदाय का मिशन मानवता के सबसे पूर्ण प्रगतिशील और गतिशील उदाहरण बनाना था और उन्नति के उस स्तर तक पहुंचना है कि वे सभी लोगों के गुरू और मार्गदर्शक बन जाऐं। परन्तु इन सुधारकों का पहले सुधार किया जाना था। उनके गुण और चरित्र आस-पास के गै़र इस्लामी वातावरण से वातानुकूलित थे जिसमें लोग सदियों से रह रहे थे। इस्लाम को अपने अच्छे गुणों को महत्वपूर्ण उत्कृष्टता के गुण में बदलना था और अपने बुरे गुणों को इस तरह से शुद्ध करना था कि वे फिर कभी प्रकट न हो।

यदि कुरआन एक ही बार में उतारा गया हो तो वे इसकी रोक और आज्ञाओं पर प्रतिक्रिया कैसे व्यक्त करते। निश्चित रूप से वे समझने के लिए असमर्थ हो गए, आदर्श तरीकों में उन्हें लागू और अकेले स्वीकार होते हैं। इस एक के बाद एक कमी स्वयं नाशक हो गई, इतिहास के रूप में सिद्ध है, इस्लाम जहां तक पहुंचा है, परन्तु स्थिरता से यह धीरे धीरे फैला है, और इतनी मज़बूती से स्थापित हो गया।

हम अपने आस-पास उन लोगों को देखते हैं जो स्वयं को बुरी आदतों और लतों से मुक्त नहीं करा सकते। यदि आप ऐसे लोगों को सीमित रखेंगे तो भले ही आप ने उन्हें स्वयं के लाभ के लिए उनकी आदतों का परित्याग कराना चाहा तो वे आप से प्रसन्न नहीं होंगे। इसके विपरीत वे गुस्सा, ऊब और चिड़चिड़ाहट महसूसू करेंगे। वे शिकायत करेंगे और आपके सुधार के कार्यक्रम से भागने की कोशिश करेंगे ताकि वे जल्द से जल्द अपनी आदतों पर लौट सकें। विशेषज्ञों के सभी तर्क और प्रलेखित सादय भी उन्हें बदलने को नहीं मना पाऐंगे। वे भी जो कभी कभी ठीक करे गए उन्होंने भी इस रोग के पलट को सहा। वास्तव में उनमें से कुछ लोग जो धूम्र पान और शराब की खपत (जैसी हानिकारक आदतों) के विरूद्ध अभियान करते हैं वे अब भी इनमें लिप्त रहते हैं।

याद रखे कि कुरआन एक या दो आदतों में परिवर्तन लाने के लिए नहीं आया है, यह सब कुछ बदलने आया, रहने और मरने का तरीका, शादी, खरीदना और बेचना, बसने का तरीका और अन्य के बीच में निर्माता के साथ एक रिश्ता कैसे समझा जा सकता है। परिवर्तन की कल्पना के कार्यक्षेत्र दिए जाने से हम इस बात को समझ सकते हैं कि वह सूत्रधारा में क्यों उतारा गया।

कुरआन को क्रमिक रहस्योदघाटन ने लोगों को स्वीकार करना और फिर गुण, उत्कृष्ट, शिष्टाचार और अनिच्छुक आकांक्षाओं को जिसकी उसने मांग की जीना सिखाया कि यह सब सिर्फ 23 वर्षों में प्राप्त किया गया, एक चमत्कार है। जैसा “नरसी” ने कहाः “कि मैं सोचता हूँ कि यदि आज के विद्धान अरब प्रायदीप पर जाते तो क्या 100 सालों में भी पैगम्बर द्वारा एक साल में हासिल किए गए कार्यों का एक प्रतिशत भी कर पाते?” ऐसे परीधीये उपाध्यक्ष को हटाने के लिए जैसे वर्तमान अभियान धूम्रपान, प्रसिद्ध विद्धानों को व्यक्तियों, संस्थाओं और मास मीडिया के पूरे नेटवर्क को जीविका देता है। अब भी वह कुल विफलता का परिणाम देते हैं। यदि शराब के विरूद्ध अभियान के बाद सड़क पर एक साल में 20 लोग कम मरते हैं तो यह एक बड़ी सफलता मानी जाती है। इसको पैगम्बर जो क्या इस कार्य को पूरा किया, खुदा की बोली में 23 साल से अधिक दूर युद्ध से बढ़ कर क्या सब मानवता के लिए उस समय के बाद की प्राप्ति करने में सफल रही है।

दर्शक अपने कुरआन के चरण को समझते हैं, आंतरिक करते हैं और यह इसकी रोक, आदेश और सुधारों के लागू होने में पता चला था। जब रहस्योदघाटन आया, तब मार्गदर्शन के लिए हतोत्साहित नीचे मनोबल पीसने के बिना पैदा हुई जरूरत है। चेतावनी और निन्दा पहले निषेध थे, दो चरणों में कन्या शिशु हत्या, जनजातियों और युद्धरत तक भाईचारे के निर्माण पर आधारित एक बुने हुए समाज के समीप थे। यह आर्थिक सुधार कठिन नहीं थे पर संकेत तथा व्यक्त के बारे में वे प्राप्त किया गया।

आज हम ने अपने अतीत के अनुभव और भविष्य की संभावना के अनुसार हमारी प्रयोजनाओं के डिजाईन बनाए। सामाजिक संभव खाते में आर्थिक उतार चढ़ाव ले रहा है, हम अपनी योजनाओं को लचीला बनाने के क्रम में किसी भी आवश्यक संशोधन के लिए कमरे में छोड़ दें। मतदान एक पेड़ की तरह है, मुसलमान धीरे धीरे बढ़े, धीरे धीरे नई स्थितियां पैदा हुई और इस तरह के विकास ने प्रकृति के अनुसार आदत डाली। हर दिन नए लोग इस्लाम में आ रहे थे। नए मुसलमान कई तौर तरीके सीख रहे थे और इस्लाम में प्रशिक्षण स्वयं इस्लाम पर कार्यवाई करने के लिए चेतना में आ रहे थे और इस प्रकार अलग व्यक्तियों या परस्पर विरोधी गुटों में से एक समाज के सदस्यों का पैगम्बर बन गया उनके पात्र और व्यक्तित्व अपना पूरा जीवन एक नये शेष में तैयार कर रहे थे और कुरआन के मार्गदर्शन के अनुसार इस्लामी उपदेशों को दोबारा से तैयार कर रहे थे।

कुरआन के रहस्योदघाटन की पहली आयत नेतृत्व के साथ शुरू होती है ’पढ़ो’ (96:1 अलक़) क्या इसके पीछे दिव्य ज्ञान हो सकता है?

ईश्वरीय आदेश का प्रचार करने के लिए इस्लाम उदात अनिवार्य “इकरा” के साथ शुरू हुआ। आमतौर पर हम अनुवाद के रूप में पढ़ते हैं या जोर से सुनाना अर्थ अभ्यास करना है। मानवता के साथ संबोधित किया है जैसा कि पैगम्बर अपने संबंधों में मानवता का प्रतिनिधित्व करते हैं। इस प्रकार “इक़रा” एक सार्वभौमिक निषेधाज्ञा है, एक खुले प्रत्येक के लिए दोष से पुण्य की ओर कदम दूर करने के लिए एक व्यक्ति है। इस दुनिया और अगली दुनिया में इससे प्रसन्नता प्राप्त होगी।

“इक़रा” पढ़ने और करने के लिए एक संकेत है निर्माता रचनात्मक व्यवहारिक में रखा तो हम उनकी दया, बुद्धि और शक्ति को समझ सकते हैं। यहां एक अनुभव और समझ को उनकी रचना के माध्यम से जानने के लिए आदेश है। इसके अतिरिक्त यह एक अचूक आश्वासन दिया गया है कि रचना को पढ़ा जा सकता है, यह स्पष्ट है। इसे बेहतर पढ़ने और सीखने के लिए अच्छा है कि हम एक विश्व समझ बनाऐं एक एकल ब्रह्माण्ड सौन्दर्य और एकता बनाऐं जिसका उच्च गहरा हो (85:21) देवी द्वारा आज्ञप्ति जारी कर सब कुछ खुदा को प्रतिबिम्बित है।

हर चीज़ एक क़लम से बनाई गई है जो कि अपने कार्यों के रिकार्ड को दिखाता है। परन्तु केवल मानवता को पढ़ सकता है कि क्या लिखा है। यही कारण है कि कुरआन “पढ़ना” नहीं निहारन बताता है। हमें रचनात्मक व्यवहारिक पता है कि वह अनुभव ही नहीं है, जैसे कि अन्य सभी रचनात्मक के साथ मामला है।

विज्ञान प्रकृति ब्रह्माण्ड कार्य कैसे करता है। और सदभाव और सभी संपर्क शासित सिद्धान्तों का अध्ययन है। यह अवलोकन और वर्गीकरण, व्याख्या और प्रयोग के माध्यम से ज्ञान को जमा करता है। संतुलित व्याख्या, नाजुक आपसी संबंधता और विपुल गतिशीलता इसलिए अवसर को ठहराया नहीं जा सकता। तर्क आदेश देता है कि एक उच्च बनाया गया और इस सबको पालता है।

हर आदेश और प्रणाली की स्थापना से पहले उसकी कल्पना और डिज़ाइन किया जाता है। उच्च पहरा गोली जो एक विस्तृत डिज़ाइन के रूप में सोचें और कुरआन को इसकी मौखिक प्रदर्शनी के रूप में। यह देखते हुए, ब्रह्माण्ड को अंतिम डिज़ाइन के रूप में हमारी दुनिया में प्रतिबिम्बित माना जा सकता है। हम रचना को एक ब्रह्माण्ड के रूप में शायद ही सोच सकते हैं और अकेले एक योजना की सोचने और फिर उसे बनाऐं। हमारा कर्तव्य है कि हम इसे पढ़े और फिर हर चीज का पूर्ण अर्थ खोजें। हम यह परीक्षण और त्रृटि के माध्यम से कर सकते हैं, क्योंकि यही एक मात्र मार्ग है जिससे हम सीख सकते हैं।

हम जिस प्रकार के ज्ञान के अधिग्रहण की कोशिश कर रहे हैं? कई प्रकार के ज्ञान और समझ हैः जो कि किसी चीज़ को निहारना या सक्रीय रूप से देखना, भीतरी (व्यापक ज्ञान) या बाहरी (विवरण और माप) कम समझ का क्रियानवयन (प्रौद्योगिका) या आध्यात्मिक समझ की (चिंतन और पूजा जो बुद्धि का उपज करते है) सीखना और पढ़ना, स्वयं के आधार पर या अन्य पर आधारित, क्रिया की स्वतंत्रता में शिक्षक और शिक्षार्थी का विश्वास और निर्माता के लिए विश्वासी का समर्पण और विश्वास है। इस तरह विविधता साथ साथ और लगातार चलती रहती है। ब्रह्माण्ड कुछ कानून और श्रेणियां सम्मिलित करता है जो अपने भीतर सब कुछ और कार्य शामिल करता है। ये क़ानून और श्रेणियां निर्माण द्वारा रखी गई है, जो उनके एक सुर वाले आपरेशन का प्रशासन करता है और इन्हें बनाए रखता है। इसमें निम्नलिखित सम्मिलित है।

- एक से अधिक तक का आंदोलन, सादगी से जटिलता तक।

- बनने की एक प्रक्रिया एक रूप, विविध या विरोधी तत्वो ंको अस्तित्व में आना।

- बहुत से लोगों के बीच एक गतिशील, स्थायी संतुलन।

- उत्तराधिकारी या प्रत्यावर्तन सम्पति का हस्तान्तरण, शक्ति बल या एक से दूसरे का ज्ञान।

- अधिग्रहण, हानि और फिर अधिग्रहण या शिक्षक भूलना और दोबारा याद करना।

- प्रयास और दृढ़ता या ऊर्जा और प्रतिबद्धता।

- तोड़ना और फिर जोड़ना या विश्लेषण और संश्रलेषण।

- प्रेरणा जो कि न ढाँके और प्रकट करें या अंतज्र्ञान जो प्रवेश करे और स्पष्ट करे।

मानवता इन और शर्तों के अधीन है, लोग सभी पहलुओं में विविध है। हालांकि जैसे किये प्राकृतिक भेद-भाव और विरोध आभास, एक गतिशील, विपुल संतुलन में है, लोगों की विज्ञान और आस्था जैसे मामलों में विभिन्न (और बदलती) धारणाऐं और दृष्टिकोण है।

इस विभिन्नता को परिणाम के रूप में, कुछ उपदेश पैगम्बरों के भी कुछ समय के लिए खोई दृष्टि हो सकती हैं परन्तु एक दिन वे दोबारा इकट्ठे किए जाऐंगे और दोबारा पढ़ाए जाऐंगे। लोगों की संख्या और प्रकार में वृद्धि होने के बाद परंपराओं ओर इतिहास और तो और विखण्डन के रूप नुक्सान प्राकृतिक है। हालांकि ये सब ठीक कर दिए जाऐंगे क्योंकि यह प्रतिक्रिया हैं हालांकि ये सब ठीक कर दिए जाऐंगे। क्योंकि यह प्रतिक्रिया अतीत में कई बार हो चुकी है, और भविष्य में फिर से होगी।

दैवीये प्ररित ग्रंथ भविष्यदवक्ता और कानून इस प्रक्रिया के आश्वासन के रूप में एक क्रमिक रूप से भेजे गए पैगम्बर एक चरित्र के साथ धन्य हुए जो पिछले सभी भविष्यदवक्ताओं की भेद उत्कृष्टता के कुछ सामंजस्य था। उनमें सबसे गहरा आध्यात्मिक ज्ञान और बुद्धि चलने की इच्छा सामूहिक मामलों के निर्णायक आदेश देना, मानव मन को प्रेरित करने के लिए और उनकी आध्यात्मिक तृष्णा को प्रत्यक्ष करने के लिए लोगों के बीच मतभेदों को दूर करना और स्थायी समाधान प्राप्त करने से मिश्रित थे। न्याय और दया के दावों के बीच उन्होंने व्यक्तिगत रूप और सामूहिक मामलों में आदर्श संतुलन का प्रदर्शन किया। उनका जीवन पीड़ा, हार में धैर्य और राहत, सफलता और विजय से भरा हुआ है। उनकी अभिव्यक्ति की शैली, सदैव ही संक्षिप्त यादगार और उच्चतम रही। कुरआन के साथ वह आध्यात्मिक जागृति और एक महान और स्थायी सभ्यता के मुखिया थे।

“इकरा” का अर्थ बहुत जिम्मेदारी वाला इसलिए है क्योंकि एक महान स्थिति से अन्दर और बाहर के, मुसलमानों के लिए प्रयत्न और कोशिश करते रहना है। यह अधिक से अधिक परीक्षण अनुग्रह और सम्मान का एक साधन है क्योंकि यह हर मुसलमान और समुदाय में अधिक विविध गुणों के एक गंभीर सद्धाव को सक्षम बनाता हैं

हाल ही में वैज्ञानिक खोजों ने कुछ कुरआन की छंद (आयतें) स्पष्ट किए हैं, ज्ञान में ऐसे अग्रिम लगातार याद रहते हैं, जैसे इसकी आज्ञा कोर्स पर ब्रह्माण्ड आय के रूप में और हमारे लिए नियुक्त में समझ के उपाय। शोधकर्ताओं और वैज्ञानिकों की उपलब्धियों और प्रयास की प्रशंसा हमें स्वीकार करनी चाहिए। परन्तु वे हमें न कृतज्ञ और बदतमीजी (अविश्वास की जड़) का नेतृत्व नहीं करना चाहिए, बल्कि मार्गदर्शन के निर्माता पर हमारी कोशिश और ज्ञान के प्रयोग दोनों में हमें हमारी निभर्रता की पृष्टि करनी चाहिए, हमें स्वंय को आदर्श नहीं माना चाहिए।

ऐसा हुआ कि वैज्ञानिक अनुसंधान उनके साथय है जो अपने स्वयं के अस्थायी लाभ के लिए प्रयोग की तालाश के साथ ही रहेंगे। विज्ञान धर्म के विरूद्ध एक हथियार बन जाएगा, स्वार्थी और आमतौर पर नास्तिक और भौतिकवादी विचारधारा के श्रमिक की कम मदद करेंगे, अन्तिम परिणाम व्यक्तिगत और सामुदायिक जीवन के मरने की गुणवत्ता में एक असाधारण गिरावट हो सकती है, हम हमारे चारों ओर देखते हैं कि नई प्रौद्योगिकियों को लागू करके अधिक से अधिक लोगों को तेजी से अधीर, अभिमानी, लापरवाही और कड़ी दिल बन सकते हैं, कुछ दावा भी करते हैं कि वे स्वयं के लिए उत्तरदायी ही है, मानो वे स्वयं बनाए गए थे। तब उनके जीवन दुखः तनाव, चिंता और असंतुष्ट आवश्यकताओं से भरे होंगे विश्वास है कि वे स्वतंत्र है।

वैज्ञानिक अग्रिम इतने तेजी से बढ़ रहा है कि उसने मानव समाज और व्यक्तियों को प्रयोगशाला प्रयोग में बदल दिया। बिना परिणाम के ज्ञान था बिना परिणाम के ज्ञान था अंतिम परिणाम के इस प्रतिक्रिया में हम देख सकते हैं कि “इक़रा” की दिव्य आज्ञा इरादे के साथ नहीं हो रही है, कि हम कैसे जान बूझ कर पढ़ें को दुबारा सीखें तो हम सही समझ और ज्ञान को प्राप्त कर पाऐंगे।

यदि हम ऐसा कर सकते हैं हम निरर्थकता और सूखी रीतिवाद से विज्ञान हवाले करे, जिसमें यह स्वभावविक है और इसके दार्शनिक नींव और सामाजिक और नैतिक प्रासंगिकता को साफ करने की मदद शुरू हो जाएगी।

हम मानव धारणा, बुद्धि और अंतज्र्ञान की सच्ची सीमा की ओर भी कर सकेंगे और लोगों को इनके उचित संतुलन और उपयोग के बारे में जानकार बना सकेंगे। तब वे जो जानबूझ कर रचना का अध्ययन करते हैं इसके संकेतों को धार्मिक गंभीरता और विनम्रता के साथ पढ़ेंगे और ऐसा ज्ञान प्राप्त करेंगे जो कि मानवता के लिए सभ्य और लाभदायक होगी।

हम इस तरह से पढ़ने या इस प्रयोजन के लिए है, संदेह से दूर हैं, सबसे पहले बनाई गई वस्तु कलम था और रहस्योदघाटन का सबसे पहला शब्द “इकरा” था (46) परन्तु इस प्रकार से पढ़ने के लिए हमारी आंतरिक और बाह्य संकायों का सतर्क होना और घटना की ओर एक साथ निर्देशित होना आवश्यक है। हमारी आंतरिक संकायों में कोई भी दोष दूसरों के समूचित कार्यों पर प्रभाव डालता है।

जब भावना की अस्वस्था की बात करते हैं तो कुरआन गूंगेपन बहरेपन और अंधेपन को कहता है। निर्माता के संकेत है कि पहले आंखों से “पढ़ो”। रहस्योदघाटन की पहली आवाज है “कानों से सुना था जो उन्हें समझ की ओर ले जाती है जो कुछ भी देखी और सुनी जाती है वह समझी और जीभ द्वारा बोली जाती है और उसकी व्याख्या की गई है ताकि समझ गहरी हो सके।

यदि लोगों का आंतरिक जीवन निर्धन है, तो सिर्फ उसे सुन, देख या केवल उसे आवाज दे सकेंगें जो कि उनके तत्काल अस्तित्व या खुशी को प्रभावित करता है। संकेतों को पढ़ना असंभव हो जाएगा क्योंकि वे केवल यंत्रवत संबंधित निकायों और सतहों को देख सकेंगे और उनके दिमाग उन कानून और नियमों पर ध्यान देंगे जो उन्हें नियंत्रण में रख सकेंगे क्योंकि उनका भीतरी जीवन, चिंतन, करूणा, कुरूपता, बर्बरता से प्रतिस्थापित कर दी जाऐगी। स्वयं पर छोड़े गए ऐसे लोग न तो अपनी तत्काल आवश्यकताओं और सुख को और नही अपनी लगातार असुरक्षा, चिंता और असंतोष के गुरू होंगे। सच में वे अंधे, बहरे और गूंगे हैं और उनके लिए ब्रह्माण्ड एक संकीर्ण जेल से अधिक नहीं है।

हमें कुरआन की चिन्ता और आज के वैज्ञानिक मुद्दों पर चर्चा क्यों नहीं होती?

कुरआन से विशिष्ट प्रयोजनों का पता चला था। हमें निर्माता के बारें में पता करने के लिए वाणी है कि वह अपने सृजन के माध्यम से जाना जाता है, तो हमसे विश्वास और पूजा करने के लिए प्रत्यक्ष, व्यक्तिगत और सामूहिक जीवन इतना आदेश है कि हमें वास्तविक खुशी प्राप्त करनी है यहां इसके बाद सत्ता में प्रत्येक परमेश्वर की ओर से इसी से जुड़े महत्व के अनुसार विषय के साथ कुरआन संबंधित है।

उपरोक्त कारणों को देखते हुए कुरआन व्यापक है। अनगिनत पुस्तकों और टीकाओं से इनके विभिन्न पहलुओं के बारे में लिखित द्वारा देखा जा सकता है। इसको स्टाईल और वाग्मिता की पूर्णता द्वारा सत्यापित किया है। एक सदी सबसे बड़ी मुस्लिम साहित्यक स्वामी है और उसे ने केवल अरबी में बल्कि अन्य इस्लामी भाषाओं में उत्कृष्टता के लिए प्रेरित किया। हम स्वयं के द्वारा इस्लाम पर आधारित है, मानवता या भौतिक दुनिया के मुस्लिम विद्वानों को चीजों और घटनाओं से असली स्वभाव को समझने में सक्षम है। कुरआन के माध्यम से मनोवैज्ञानिक और समाज शास्त्रीय व्यक्तिगत या सामूहिक मामलों से संबंधित समस्याओं को हल किया है। नैतिक आदमी और बाल शिक्षक अनंत ने भावी पीढ़ी को शिक्षित करने के लिए अपार संसाधन के रूप में कुरआन को अनंता में बदल दिया।

आज कई लोगों को कुरआन के बारे में पता कराने के लिए वैज्ञानिक और तकनीकी मामलों का क्या कहना है और सकारात्मक आधुनिक विज्ञान से संबंधित है कि यह कार्य कैसे करना चाहते हैं। मानवीय पुस्तकें इसी विषय पर लिखी गई है। उन्होंने वैज्ञानिक क्षेत्र में कुरआन से संबंधित प्रगति करने के लिए सत्य की कोशिश की है। संस्कृति और अपने समय को विज्ञान इन कई पुस्तकों से प्रभावित हैं परन्तु देख भाल और टिप्पनियों पर खर्च दर्द के बावजूद लोगों की उनकी सटीकता पर शक है और उन पर मिल विस्तार और तार की कौड़ी है। विशेष रूप से प्रयास करने के लिए कुरआन सत्य विशेष, वैज्ञानिक परिकल्पना को बिगाड़ना, मिथ्या अर्थ लेना और यहां तक कि कुरआन मामूली प्रदर्शित करने के लिए अनूरूप है।

कुरआन को समझना हमारा उद्देश्य है और इसकी सटीक सुदृढ़ता और स्पष्टता के लिए वफ़ादार रहना चाहिए। इसके बजाए यह कुछ गैर घटनाऐं और कुरआन की विशेषज्ञ भाषा के आलोक में व्याख्या की जानी चाहिए। कुरआन संदर्भ में मूल्यांकन किया गया है। बेशक कुरआन सबसे अच्छा है और उसके शब्द और व्याख्या के नियमों का भण्डार है और कविता है जो रहस्योदघाटन के अवसरों के एक सूक्षम ज्ञान से समझा गया है। इस प्रकार सर्वश्रेष्ठ समझ और व्याख्या यह है कि साथियों (निम्न पीढ़ियों) में से एक उत्तरदायिकों के और इब्न जरीर के जैसे पहले टिप्पणीकार हैं इनमें से और न बाद में लोग रहे, वैज्ञानिकों सत्य के साथ समझौते में सबसे बाद में स्थापना की।

हम कुरआन से कई उदाहरण के तर्क को वर्णन प्रदान करते हैं यह जल्द ही हम से क्षीतिज पर हमारा लक्षण दिखाया करेगा। सर्वशक्तिमान निर्माता का कहना है किः “जल्द ही हम इनको अपनी निशानियां बाहरी दुनिया में भी दिखाएंगे और इनके अपने अन्तःकरण में भी यहां तक कि इन पर यह बात खुल जाएगी कि यह कुरआन वास्तव में सत्य है। क्या यह बात काफी नहीं है कि तेरा रब हर चीज का साक्षी है। (4:53)

इस्लाम में जल्द से जल्द दिनों में सूफ़ी स्वीकार किए जाते हैं और अध्यात्मिक ज्ञान और मांग के आश्वासन के रूप में इस कविता को भेजना एक संकेत है हालांकि वैज्ञानिक प्रगति की दृष्टि से इस कविता को पढ़ कर देखा जाएगा और यह अपने अस्तित्व के लिए मात्र एक चमत्कार ही होगा।

हमारी सोच और अनुसाधन के कम्पास के भीतर सब कुछ है निर्माता बेहतर समझ के लिए एकता की दृष्टि, वास्तविक प्रकृति और मनुष्य के सूक्षम दर्शन के आपसी संबंध और त्रिभुवन के रूप में आगे और विवरण कर रहे हैं। जब हम इस विषय पर सैकड़ों पुस्तकों को देखते हैं तो हम समझते हैं कि यह देवीय के आस पास साबित किया जा रहा है। अब भी हमें लगता है कि हम जल्द ही मामलों को समझते हैं और सुनते हैं और प्रकृति से संबंधित जीभ के हज़ारों के माध्यम से ख़ुदा के भजन का सक्षम हो जाएगा। “उसकी पाकी तो सातों आसमान और जमीन और वे सारी चीजें ब्यान कर रही हैं जो आसमान और जमीन में हैं। कोई चीज ऐसी नहीं जो उसकी प्रशंसा के साथ उसकी तस्बीह (पाकी ब्यान) न कर रही हो, मगर तुम उनकी तस्बीह समझते नहीं हैं। वास्तविकता यह है कि वह बड़ा ही सहनशील और माफ करने वाला है।” (7:44)

यह कविता हमें बताती है कि सृष्टि के सभी भागों में हम से उनकी भाषा में बात की जा रही है और हमें ख़ुदा का आदर प्रस्तुत करना है। हालांकि बहुत कम लोगों को सुना है और इस सार्वभौमिक प्रशंसा को समझ सकते हैं। कुछ छिताराए कमजोर और ईमानदार मुसलमान लोग जो सभी के लिए यह प्रशंसा सुन रहे हैं।

कुरआन से किसी भ्रूण और गर्भाश्य में गहन के विकास चरणों के बारे में पता चलता है कि क्या हड़ताली हैः “ऐ लोगों अगर तुम्हें मौत के बाद की जिंदगी के बारे में कुछ शक है तो तुम्हें मालूम हो कि हम ने तुम्हें मिट्टी से पैदा किया है, फिर वीर्य से, फिर खून के लोथड़े से, फिर मांस की बोटी से जो शक्ल वाली भी होती है और बेशक्ल भी। (यह हम इसलिए बता रहे हैं) ताकि तुम पर सच्चाई स्पष्ट करें। हम जिस (वीर्य) को चाहते हैं एक नियत समय तक गर्भाश्यों में ठहराए रखते हैं, फिर तुम को एक बच्चे के रूप में निकाल लाते हैं। (फिर तुम्हारा पालन पोषण करते हैं) ताकि तुम अपनी जवानी (युवा अवस्था) को पहुंचो, और तुम से कोई पहले ही वापिस बुला लिया जाता है ताकि सब कुछ जानने के बाद फिर कुछ न जाने। और तुम देखते हो ज़मीन सूखी पड़ी है, फिर जहां हम ने उस पर पानी बरसाया कि एकाएक वह फबक उठी और फूल गई और उसने हर तरह की सदृश्य वनस्पतियां उगलनी शुरू कर दी।” (22:5)

एक और कवित में विकास और अधिक विस्तार से समझाया गया है और विशिष्ट चरण को अधिक स्पष्ट रूप से बदल दिया हैः “हम ने इन्सान को मिट्टी के सत से बनाया, फिर उसे एक सुरक्षित जगह टपकी हुई बूंद से परिवर्तित किया फिर उस बूंद को लोथड़े का रूप दिया, फिर लोथड़े को बोटी बना दिया, फिर बोटी की हड्डियों पर मांस चढ़ाया, फिर उसे एक दूसरी ही सृष्टि बना खड़ा किया। अतः बड़ा ही बरकत वाला है अल्लाह, सब कारीगरों से अच्छा कारीगर।”(23:12-14)

“और उसी ने तुम को एक जान से पैदा किया, वह तुम्हारी माओं के पेटों में तीन-तीन अन्धकारमय परदों के भीतर तुम्हें एक के बाद एक रूप देता चला जाता है यही अल्लाह है तुम्हारा रब है....।”(39:6)

अंधेरे के यह तीन पर्दे विस्तार से भूले जा सकते हैं। कुछ और उसके उत्पादन के बारे में कुरआन क्या कहता हैः “और तुम्हारे लिए चैपायों में भी एक शिक्षा मौजूद है। उनके पेट से गोबर ओर खून के बीच से म एक चीज तुम्हें पिलाते हैं अर्थात शुद्ध दूध जो पीने वालों के लिए अत्यन्त स्वादिष्ट है।”(16:66)

कुरआन उल्लेखनीय विस्तार से उस प्रकार को बताता हैः भोजन और उसके अवशोषण की आंशिक पाचन ने एक दूसरे और ग्रंथियों में प्रक्रिया शोधन द्वारा पीछा किया। दूध कुछ लोगों के लिए सहमति है, फिर भी यह एक स्राव द्वारा बेकार रूप में गाय का शरीर और ख़ून बाहर कर देते हैं। कुरआन से पता चलता है कि प्रकृति में सब कुछ जोड़ों में बनाया गया हैः “पवित्र है वह सत्ता जिसने सब प्रकार के जोड़े पैदा किए चाहे वे ज़मीन की वनस्पतियों में से हो या स्वयं उनकी अपनी जाति (अर्थात मानव ज़ाति) में से या उन चीजों में से जिनको ये जानते तक नहीं है।” (36:36)

इस प्रकार सब कुछ एक समकक्ष है, चाहे वह पूरक के विपरीत हो। यह लोग कुछ पौधों में और पशुओं के मामले में स्पष्ट है। परन्तु क्या जोड़ो के बारे में सब बातों में...... और क्या वे नहीं जानते? इन निर्जीव की एक पूरी श्रृंखला के रूप में भी चेतन संस्थाओं, सूक्ष्म बलों और प्रकृति के सिद्धांतों का उल्लेख कर सकते हैं। आधुनिक विज्ञान का चुनाव कर्म है। सब कुछ डॅाक्स जोड़े अवरणों में होते हैं।

कुरआन अपनी अनूठी शैली बताता है, दुनिया और उसके निवासियों के पहले रचनात्मक व्यवहारिकः “क्या वे लोग जिन्होंने (नबी की बात मानने से) इन्कार कर दिया है विचार नहीं करते ये सब आसमान और ज़मीन परस्पर मिले हुए थे, पर हम ने इन्हें अलग किया और पानी से हर ज़िन्दा चीज़ पैदा कि? क्या वे हमारे इस रचनाकार्य की कुशलता को नहीं मानते हैं।”(21:30)

कुरआन का खाता साफ़ है और विभिन्न निर्माण को आगे रख कर अन्य संगठनों ने नेताओं द्वारा अनुमान के साथ मिश्रित नहीं होना चाहिए। यह भी कहा गया था कि जीवित चीज़ पानी के लिए बनाई गई थी कुरआन को स्वयं कैसे इस अनूठी स्रोत राजभाषा जीवन के अस्तित्व में आने से कोई मतलब नहीं। परन्तु सत्य यह है कि ब्रह्माण्ड रचना के साथ एक चमत्कार है।

सूरज की रचना में एक विशेष महत्वपूर्ण स्थान है कुरआन अपने सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं को सिर्फ चार शब्दों में कहता है। “और सूरज, वह अपने ठिकाने की ओर चला जा रहा है। वह प्रभुत्वशाली सर्वज्ञ सत्ता का बांधा हुआ हिसाब है।” (36:38)

वास्तव में यहां “मुस्ताकर” का अर्थ अंतरिक्ष में एक निर्धारित मार्ग घर था आराम करने के एक स्थिर स्थान या समय में निर्धारित मार्ग हो सकता है। हमे यह बताया जाता है कि सूरज का अपना एक विशिष्ट ग्रह पथ है और वह ब्रह्माण्ड में एक खास बिन्दु की ओर जाता हैं हमारा सौर मण्डल जैसा कि हम जानते हैं लाइरा नक्षत्र की ओर लगभग एक उचित नियमित से बढ़ रहा है। (हर सेकेण्ड हम उस नक्षत्र के दस मील समीप पहुंच रहे हैं एक दिन में लगभग लागों मील)। हमें यह भी बताया जाता है कि जब सूर्ण अपना नियुक्त कार्य समाप्त कर लेगा तो वह एक आदेश का पालन करेगा और समाप्त हो जाएगा।

ऐसे शब्द उस समय बोले गए जब लोगों का आम तौर पर यह मानना था कि सूर्य पृथ्वी के चारों ओर दैनिक परिक्रमा लगाता है। कुरआन की आयतें कहती हैं कि ब्रह्माण्डः “आसमान को हम ने अपने जोर (बल) से बनाया है और हमें इसकी सामथ्र्य प्राप्त है। धरती को हम ने बिछाया है और हम बड़े अच्छे समतल करने वाले हैं।”(51-47-48)

इस छंद (आयत) से यह पता चलता है कि खगोलिये पिण्डों के बीच दूरी बढ़ रही है क्योंकि ब्रह्माण्ड का विस्तार हो रहा है। 922 में खगोल विज्ञानी “हबल” ने दावा किया कि सारी मण्डलियां उन पांच के अतिरिक्त जो पृथ्वी से उनकी दूरी के अनुपातिक हैं इस प्रकार एक मण्डली जो एक लाख प्रकाश वर्ष दूर हैं। 168 किमी. प्रति वर्ष की गति से बढ़ रही है। एक दो लाख प्रकाश वर्ष दूर इससे दोगुनी गति से बढ़ी “ली मैतरे” एक बेल्जियम गणितज्ञ और पूजारी, बाद में प्रताव दिया और सिद्धान्त को विकसित किया कि ब्रह्माण्ड का विस्तार हो रहा है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम सच्चाई को स्पष्ट कैसे करें। कुरआन इस सच्चाई की वास्तविक्ता को स्पष्ट रूप से व्यक्त करता है।

कुरआन दुर्शाता है शारीरिक कानूनों को जो वास्तव में कशिश और गहन कराहट को ब्रह्माण्ड की गर्दिश को वंचित कर दियाः “वह अल्लाह ही है जिसने आसमानों को सहारों के बिना खड़ा कर दिया जो तुम को नजर आते हो....।” (13:2)

सभी खगोलिये शरीर आदेश, संतुलन और सद्धाव में चलते हैं वे इस क्रम में हमारी आंखों के अदृश्यों खंभों से आयोजित और समर्थन किए जाते हैं। इसमें से कुछ “खंभे” प्रतिकर्षण और केन्द्रप्रसारक बल कर रहेः “वही आसमान को इस प्रकार थामे हुए है कि उसकी अनुमति के बिना वह धरती पर नहीं गिर सकता...।(22:65)

इस कविता से हम समझते हैं कि स्वर्गीय निकाय पृथ्वी पर किसी क्षण के लिए पतन हो सकती है, परन्तु कि सब बलशाली को अनुमति नहीं है, उनके शब्द से सार्वभौमिक आज्ञाकारिता के लिए यह एक क्षण है, जो आधुनिक विज्ञान की भाषा में केन्द्राभिमुख और केन्द्रत्यागी बलों को एक संतुलन के रूप में समझाया जाता है।

कुरआन के टिप्पणिकारों ने एक आयत (छंद) चाँद पर यात्रा के संदर्भ के रूप में विचार जो अब एक वास्तविक हैः “और चाँद की जबकि वह पूर्ण मास का चाँद हो जाता है। तुम को अवश्य क्रमशः (दर्जा व दर्जा) एक हालत से दूसरी स्थिति की ओर गुजरते चले जाता है।” (84:18-19)

कुछ पहले टिप्पणिकारों ने इस आयत (छंद) को आलंकारिक रूप से समझा या एक स्थिति से दूसरी में सामान्य प्रक्रिया का परिवर्तन, इसके बाद कुरआन दुभाषियों के लिए यह गैर शाब्दिक शब्दों में समझने की कोशिश की परन्तु वास्तव में अधिक उपयुक्त भाव के शब्द शपथ चाँद द्वारा का पीछा करते हैं दिया हुआ छंद तत्काल संदर्भ है कि वास्तव में चाँद पर यात्रा चाहे शाब्दिक या आलंकारिक।

पृथ्वी के भौगोलिक आधार का कुरआन खाता और इसके आधार में परिवर्तन विशेष रूप से दिलचस्प हैः “असल बात यह है कि इन लोगों को और इनके बाप-दादा को हम जिन्दगी का सामान दिए चले गए यहां तक कि इनको दिन लग गए। मगर क्या इन्हें दिखाई नहीं देता कि हम जमीन को विभिन्न दिशाओं से घटाते चले आ रहे हैं, फिर कया ये प्रभावी हो जाएंगे?” (21:44)

अपनी सीमाओं से सिकुड़ना के संदर्भ में सबसे ज्ञात तथ्य से संबंधित हे कि खंभे पर पृथ्वी संकुचित है, इसके बदले के कुछ पहले विचार विश्वास हवा और बारिश से पहाड़ों के कटाव के रूप में समुद्र से समुद्री तटों को या रेगिस्तान का अतिक्रमण से खेती की भूमि से।

एक समय था जब लोगों को आमतौर पर विश्वास था कि पृथ्वी सपाट और स्थिर है, कुरआन ने कई दंड से स्पष्ट तथा निश्चित रूप से बताया कि यह गोल है। अधि प्रत्याशित रूप से ये हमें बताता है कि इसका सटीक आकार एक क्षेत्र की तुलना में एक शुतुमुर्ग के अण्डे की तरह हैः “इसके बाद ज़मीन को उसने बिछाया उसके अन्दर से उसका पानी और चारा निकाला और पहाड़ उसमें गाड़ दिए।” (79:30-32)

अरबी क्रिया “दाहिआ” का अर्थ है एक अण्डे के आकार की तरह है” व्युत्पन्न संज्ञा दाहिआ का अर्थ अब भी एक अण्डे के रूप में प्रयोग किया जाता है। आधुनिक वैज्ञानिकों ने स्थापना की है कि पृथ्वी संपूर्ण क्षेत्र से एक अण्डे के आकार की तरह है कि यहां के खंभों के चारों ओर एक छोटी सी सपाट है और भूमध्य रेखा के आस पास एक मामूली घुमाव हैं

एक अंतिम उदाहरण के रूप में, सूर्य और चन्द्रमा के बारे में कुरआन क्या कहता हैः “देखो हम ने रात और दिन को दो निशानिया बनाया है। रात की निशानी को हम ने प्रकाशहीन बनाया और दिन की निशानी को प्रकाशयुक्त कर दिया ताकि तुम अपने रब का अनुग्रह (रोटी) खोज सको.....।”(17:12)

हज़रत इब्ने अब्बास के अनुसार चाँद रात के संकेत को संदर्भित करता है और सूर्य दिन के संकेत को संदर्भित करता है, इसलिए रात का चिन्ह जिसे हम ने अंधेरा बनाया है हम समझते हैं कि चाँद ने कभी प्रकाश उत्सर्जित किया और ईश्वर ने उसकी रौशनी उसस ले ली। जिसके कारण काया या धूंधला हो गया, जब कि आयत सही प्रकार से चाँद का अतीत बताती है, यह अन्य स्वर्गीय निकायों के भविष्य के भाग्य के लिए यह अंक है।

कई कुरआनीक आयत वैज्ञानिक तथ्यों से संबंधित है उनके अस्तित्व का संकेत है कि ज्ञान के लिए हमारी दिव्य दया का एक भाग जो कि हमारे निर्माता द्वारा हमें उपहार में दिया गया है, वास्तव में दिव्य, दया स्वंय कुरआन के नामों में से एक है और सब कुछ इसमें सम्मिलित ज्ञान और सच हमारी क्षमता से दूर से संबंधित है या हमारे मन में पकड़े रहना है।

जब आधुनिक विज्ञान, कुरआन के साथ सहमति देता है!

आज हम विज्ञान और वैज्ञानिक तथ्यों की शाखाओं को देखते हैं और उन्हें विभिन्न चीजों और घटनाओं एवं धार्मिक मामलों के विश्लेषण में उपयोग करते हैं, हम उन्हें या तो समय में एक या समूहों देखते हैं, ताकि ईश्वर के अस्तित्व और एकता का साक्षय प्रदान कर सकें जिन्हें इस साक्ष्य की आश्वयकता हैं

इसी प्रकार जब कुरआन की रौशनी में विज्ञान को देखते हैं तो हम यह बताते हैं कि इसमें चीजों के व्यवहार की सूचना है जो आधुनिक वैज्ञानिक निष्कर्ष से सहमत है। दवा पर विचार करें एक बार मैंने एक किताब पढ़ी जिसका नाम था चिकित्सा आस्था की उत्तम है। वास्तव में ऐसा ही है और हमें ईश्वर को स्वीकार करना चाहिए जब हम अपने शारीरिक अस्तित्व और विकास का अध्ययन करें। उदाहरण के लिए कुरआन में भू्रण का वर्णन जो हम आज जानते हैं, उससे मेल खाता है, जिसकी आधुनिक विज्ञान आलोचना कर सकता है। 1400 से अधिक से वर्ष पहले एक निरक्षर रेगिस्तान अरब इन तथ्यों को कैसे जान सका जो कि एक्स-रे और अन्य अत्याधुनिक उपकरणों के द्वारा हाल ही में पता चला? हम इस प्रकार के कुरआन के ब्यानों का उपयोग कुरआन के दिव्य मूल की बहस के लिए करते हैं। यह इसके बदले, हजरत मुहम्मद (स.अ.व.) के तर्क संगत की सच्चाई की पुष्टि करता है।

इस्लाम को समझने के लिए हम विज्ञान और वैज्ञानिक तथ्यों का उल्लेख इसलिए करते हैं क्योंकि कुछ लोग हर वे चीज़ अस्वीकार करने के लिए निश्चित है जो कि “वैज्ञानिक” न हो। पदार्थवादी और धर्म का विरोध करने वालों ने (या उदासीन) धर्म को ललकारने के लिए विज्ञान का शोषण करना शुरू कर दिया है और उनकी सोच फैलाने के लिए अपनी प्रतिष्ठा का प्रयोग किया। कई लोगों ने उनका नेतृत्व मानना शुरू कर दिया जिसका अर्थ है कि हमें विज्ञान और प्रौद्योगिका के वही उपकरण प्रयोग करने पड़ेंगे जो यह दिखाने के लिए है कि यह इस्लाम के विरूद्ध नहीं है और लोगों को सही मार्ग पर लाने के लिए है।

मैं ऐसे तर्क के साथ सहमत हूं। मुसलमानों को वैज्ञानिक तथ्यों से अच्छी तरह से निपुण होना चाहिए ताकि वे पदार्थवादी और नास्तिकों के दावों का खण्डन कर सकें। कुरआन के कई छंद (आयत) हमें निरिक्षण करने का आग्रह देती है। वह हम पर निर्माता की भव्यता प्रभावित करते हैं और हमें यात्रा और आश्चर्यजनक अंगों को निर्माण का नीरिक्षण की सलाह देते हैं। हालांकि याद रखें कि ऐसी सभी गतिविधियों के लिए सबसे पहली शर्त यह है कि वे कुरआन की भावना के साथ जुड़े रहें, अनुरूप हम उनका प्रस्थान करने लगे।

विज्ञान और उसके तथ्यों का हमारा ज्ञान इस्लामिक तथ्यों की व्याख्या करने के लिए ही प्रयोग किया जाना चाहिए न कि दूसरों के तर्क को प्रभावित या उन्हें चुप करने के लिए। हमारा प्राथमिक उद्देश्य ईश्वर के आनन्द को जीतना होना चाहिए और यह ध्यान रखना चाहिए कि जो तर्क हम दे रहे हैं, दर्शक उन्हें समझ लें।

विज्ञान को धर्म से अच्छा मानना और मानना और आधुनिक तथ्यों के माध्यम से पर्याप्त इस्लामी मुद्दों और पूरे इस्लाम के औचित्य की खोज करना गलत है। इस तरह के प्रयास यह दर्शाते हैं कि हमें इस्लाम के बारे में संदेह है और इसलिए विज्ञान की आवश्यकता है ताकि अपने स्वयं के विश्वास को सुदृढ़ कर सके। विज्ञान और वैज्ञानिक तथ्यों को पूर्ण रूप में स्वीकार करना गलत है क्योंकि ऐसी चीजें बदलने के अधीन है। सबसे अच्छे में जो कुरान की पुष्टि कभी भी उन चीजों द्वारा नहीं की जा सकती जो अस्थिर और अस्थायी है। यह देखते हुए मुसलमानों को विज्ञान का उपयोग केवल एक औज़ार के रूप में सोए और उलझे मन को जगाने के लिए करना चाहिए।

विज्ञान और वैज्ञानिक तथ्य केवल तभी सही है जब तक वे कुरआन और हदीस की सहमत हों। यहां तक कि निश्चित रूप से स्थापित वैज्ञानिक तथ्य आस्था के सत्य की रक्षा नहीं कर सकते। ये केवल उपकरण है जो हमें विचार देने या प्रतिबिम्बत करने के लिए उकसाते हैं। ईश्वर न कि विज्ञान हमारी अंतरात्मा में विश्वास का सत्य स्थापित करता है। जो लोग विज्ञान से विश्वास प्राप्त करने की खोज करते हैं वे कभी भी अपनी चेतना की भीतर के अस्तित्व को अनुभव नहीं कर सकते। वास्तव में वे प्रकृति को उपासक होंगे न कि ईश्वर के उपासक।

हम विश्वासीय हमारे दिलों में विश्वास के कारण से है न कि हमारे दिमाग में विज्ञान के कारण से। उद्देश्य और व्यक्तिगतपरक साक्षय हमें केवल इतनी दूर ले जा सकते हैं। उसके बाद अपनी साक्षय हमें केवल इतनी ही दूर ले जा सकते हैं। उसके बाद अपनी आध्यात्मिक प्रगति करने के लिए हमें ऐसी बातों को छोड़ना होगा। जब हम कुरआन के प्रकाश और मार्गदर्शन के भीतर अपने मन और विवेक का अनुसरण करते हैं तो ईश्वर हमें उस ज्ञान की ओर मार्गदर्शित कर सकता है, जिसे हम चाहते हैं। जैसा जर्मन दार्शनिक कांत ने कहाः “जो पुस्तक मैं ईश्वर में विश्वास करने के लिए पढ़ता हूं मुझे उन्हें छोड़ने की आवश्यकता अनुभव हुई है।”

Pin It
  • Created on .
प्रकाशनाधिकार © 2020 फ़तेहउल्लाह गुलेन. सर्वाधिकार सुरक्षित
fgulen.com प्रसिद्ध तुर्की विद्वान और बौद्धिक फतहुल्लाह गुलेन पर आधिकारिक स्रोत है