पैग़म्बर और पैग़म्बरियत

पैग़म्बर और उनकी पैग़म्बरियत की क्या भूमिका है?

प्रवर्तन (पैग़म्बरियत) पद और सम्मान है कि एक आदमी खुदा से यह सब प्राप्त कर सकते हैं। यह उस आदमी के भीतर सब ऊपर जा रहा है। इससे दूसरों की श्रेष्टता सिद्ध होती है। एक पैग़म्बर एक परमात्मा मानव दायरे से बाहर स्तम्भों की तरह है। वह दिल जीभ का निर्माण है। यह चीजों और घटनाओं की वास्तविकता में प्रवेश के पास एक सर्वोच्च बुद्धि हैं।

इसके अतिरिक्त वह अपने संकायों के सभी आदेशों के लिए जा रहा है यह एक स्वर से उत्कृष्ट और सक्रीय हैं। वह प्रयास और स्वर्ग की ओर तेजी से प्रगति के चेहरे को समस्याओं के सामाधान के लिए दिव्य प्रेरणा पर प्रतिक्षा कर रहे हैं। इस संसार और दूर के बीच जोड़ना बिन्दू है। उसका दिल उसके शरीर के अधीन है विशिष्ट आध्यात्मिक बुद्धि की कुर्सी उसके दिल के रूप में निम्नानुसार है। अपने विचार और प्रतिबिम्ब सदैव खुदा के गुण और नाम के लिए निर्देशित कर रहे हैं, क्यों वह यह मानते हैं और वांछित गंतक पर आते हैं।

एक पैगम्बर की धारणा है इस प्रकार अन्य सभी लोगों की पूर्ण को देखने और सुनने के लिए बढ़ कर जाने। उसकी धारणा को अलग प्रकार के प्रकाश ध्वनि या कुछ अन्य तरंगदेर्थ संदर्भ में समझाया नहीं जा सकता। साधारण लोग एक पैग़म्बर के ज्ञान को प्राप्त नहीं कर सकते हैं।

दिव्य संदेश और मार्गदर्शन संदेश से हमें भविष्यदवक्ताओं की रचना में एक सीमित जानकारी है ताकि हम अपने अर्थ से कुछ पता दे सकते हैं। उसके बिना हम को देखने में या वास्तविक स्वरूप से चीजों और घटनाओं या हमारे आस पास के वातावरण के साथ विभाजित करे का अर्थ समझने में असमर्थ होगा। वे भी हमें परमेश्वर और उसके नाम और उसके गुण की कुछ बातें सिखाते हैं।

अपने पहले मिशन के लिए इस जीवन का अर्थ वास्तविकता और सही उद्देश्य सिखाना हैं चूंकि ख़ुदा हमारी धारणा से और समझ से परे हैं, पैगम्बरों को सबसे आज्ञाकारी, सावधान और सचेत होना है और जबकि लोगों का कार्य प्रदर्शन उनका अनुशासन है। यदि वे निर्माता के बारे में स्पष्ट शब्दों में बात नहीं करते तो हम सोचते हैं, हमें पता नहीं है। हो सकता है कि ख़ुदा के बारे में यह कुछ भी सही कह सकते हैं।

ब्रह्माण्ड में सब कुछ नाम और अश्वित शक्तिशाली के गुण प्रस्तुत करने की कोशिश करता है, सब रचयिता को सम्मिलित करता है। उसी तरह भविष्यदवक्ताऐं मरने पर ध्यान दें। यह वाणी सूक्ष्म है, खुदा और उसके नाम और गुण के बीच रहस्यामय संबंध के प्रति वफादार रहे हैं। उनकी उनके कार्य के रूप में जानते हैं और खुदा के बारे में बात कर रहे हैं। वे चीजों और घटनाओं से सही अर्थ और उत्तर तो इसे सीधे और ईमानदारी से मानवता के लिए दर्ज करें।

जब हम किसी नई जगह या अचरित जगह में होते हैं तो हमें मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है। समालाग भविष्यदवक्ताओं की भूमि का लागू होता है। एक जो इतना सब कुछ है कि हम उसके भविष्यदवक्ताओं के रूप में उपलब्ध नहीं हैं, उनके नाम और गुण के बारे में पता करने के लिए मार्गदर्शित हमें सूचित कर सकते हैं और हमें मार्ग के किनारे पर मार्गदर्शित बनाया है। इस प्रकार के निर्माण को बेकार और व्यर्थ प्रस्तुत करना होगा कि हमें अनदेखे पशु चिकित्सक की ज़रूरत का पता है कि खुदा ऐसी गतिविधियों से संलग्न नहीं है। इस प्रकार यह सबसे अधिक संभावना है कि सभी लोगों को एक पैगम्बर ने ऐसी बातों से सूचित किया, लगता है कि ख़ुदा ने उन्हें भेजा है।

कुरआन इस मुद्दे पर स्पष्ट हैः “हम ने हर उम्मत में एक रसूल भेज दिया और उसके द्वारा सबको सूचित कर दिया कि अल्लाह बन्दगी करो और बड़े हुए अवज्ञाकारी (तागूत) क बन्दगी से बचों।” (16:36) परन्तु कई लोग धीरे-धीरे इन उपदेशों को भूल गए और पैगम्बरों और अन्य संगठनों के नेताओं देवताओं को मूर्ति पूजा में उलझने से रूप में त्रृटियों में गिर गए। हम माउंट के देवताओं में यह देख सकते हैं। प्राचीन ग्रीस भारत में गंगा नदी की पवित्रता और कई धर्मों के मौजूदा फार्म के बीच भारी अंतर होना चाहिए। यह स्थिति काफ़ी है कि कन्फयूशियस, चीन और ब्रह्मा और बुद्ध में भारत के प्रदर्शित होने का कारण समझना असंभव हैं यह भी उनके मूल संदेश के लिए उतना ही कठिन लगता है, क्या उनकी उपाधी को भ्रष्ट कर दिया गया था।

यदि कुरआन ने “यीशु” (ईशा) हमारे लिए नहीं शुरू किया होता तो हमें अपने जीवन और उपदेशों का सटीक विचार नहीं होता। समय के साथ (याजिकों) और अन्य मिश्रित लेलेक्स, प्राचीन ग्रीक और रोमन दर्शन और मूर्ति पूजा के साथ यीशु (ईसा) के नौंवे मनुष्य को देवत्य ज़िम्मेदा ठहराया और ख़ुदा को एक साकार रूप देना निति का एक स्पष्ट उदाहरण है। परन्तु इसकी रोम अधिकारिक राज्य धर्म केवल ईसाई धर्म को स्वीकार करेंगे तभी विभिन्न मूर्ति पूजने, त्यौहारों, पवित्र दिन संसाद और अनुष्ठान के रूप में शामिल किया गया।

यह देखते हुए कि ईसाई धर्म को अपेक्षाकृत हाल है और यह परिवर्तन आया है हमें पता नहीं कैसे कई अन्य लोग ही त्रुटि में गिर गए। एक विश्वसनीय हदीस का कहना है किः- एक पैगम्बर की मृत्यु के बाद उनके शिष्य उनके मिशन (लक्ष्य) को बाहर ले जाऐंगे, परन्तु उनके अनुयायियों के बाद में उन्होंने सबकी स्थापना की यह बहुत महत्वपूर्ण मुद्दा है कि यह धर्म हमारे गलत विचार से कई समस्याओं और झूठ अंधविश्वास और अपने दुश्मनों के विचार द्वेष (या उनके अनुयायियों की ग़लतियों) के माध्यम से समय के साथ अपने शुद्ध देवी स्त्रोत में संभव मूल कथा के बावजूद परेशानियों और झूठ में बदल गया। कुरआन की शिक्षाप्रद रहस्योदघाटन के बिना “ओडोनिस” या “डाइओनिस” से यीशु मसीह को बताना यह बहुत कठिन होता।

किसी को कहने के लिए एक नबी हैं जबकि वह अविश्वास है एक सच्चे भक्त में विश्वास से इन्कार के मामले के रूप में नहीं है। दूसरी ओर यदि झूठे धर्म का मामला ईसाई धर्म पर है तो हमें उन्हें सावधानी और कुछ संरक्षित निर्णय के साथ देखना चाहिए कि कया समान है। हम पर विचार करना चाहिए या उनकी असली मूल रूप बौध धर्म के साथ ही सिद्धान्त हो सकता है या कन्फयूशियस प्रथाओं और शमानिस्म के विश्वास को ज़िम्मेदार ठहराय। शायद वे अभी भी मूल के कुछ अवशेष में है कि वे क्या थे।

आदमी एक बार शुद्ध धर्म विकृत किया गया और बदल गया। इसलिए यह अपने मूल आधार की पवित्रता करने के लिए स्वीकार करते हैं कुरआन कहता है किः “और कोई समुदाय (उम्मत) ऐसा नहीं हुआ जिसमें कोई चेतावनी देने वाला न आया है। और हम ने हर समुदाय (उम्मत) में एक रसूल भेज दिया।”(35:24), (16:36)

इन रहस्योदघाटनों के घोषणा की है कि ईश्वर ने प्रत्येक समूहों के लोगों में संदेश वाहक को भेजा। कुरआन में कुल 1,24000 में से “28” पैगम्बरों के नाम का उल्लेख है हम बिल्कुल सही नहीं जानते कि उनमें से कई कहां कब रहते थे परन्तु हमें इस तरह की जानकारी पता नहीं हैः “ये नबी तुम से पहले हम बहुत से रसूल भेज चुके हैं जिनमें से कुछ के हाल हम ने तुम को बताए हैं और कुछ के नहीं बताए।”(40:78)

तुलनात्मक धर्म दर्शन और नृविज्ञान में हाल ही के अध्ययनों से पता चलता है कि कई व्यापक रूप से अलग समुदायों ने कुछ अवधारणाओं और अभ्यास को विभाजित किया। इनके बीच में बहुदेववाद से एकेश्वारवाद के लिए आगे बढ़ रहे हैं और कठिनाई के समय में एक भगवान से प्रार्थना करो अपने हाथों को ऊपर उठा कर और उनसे कुछ पूछना, कई ऐसी घटनाऐं एक विलक्षण स्रोत और एक शिक्षण संकेत मिलता है। यदि आदिम जन जातियाँ सभ्यता से कट जाऐं और ज्ञात पैग़म्बर के प्रभाव उनकी एकता की एक निश्चित समझ है, हालांकि विश्वास के अनुसार चीने के लिए वे कम समझ हैं, अतीत में कुछ समय पर उनके लिए दूतों केा भेजा गयाः “हर उम्मत (समुदाय) के लिए एक रसूल आ जाता है, तो उसका फैसला पूरे न्याय के साथ चुका दिया जाता है और उस पर रत्ती भी जुल्म नहीं किया जाता।”(10:47)

उनके बारे में क्या है जो कोई पैगम्बर नहीं भेजा गया का दावा करते हैं? क्या वे अपने विश्वास तथा कायों के लिए उत्तरदायी आयाजित किए है? ऊपर उद्धत छंद (आयत) के अनुसार हर व्यक्ति के लिए एक पैगम्बर भेजा गया। वहं समय था जब अंधेरे में प्रबल लग रहा था, परन्तु ऐसे समय केवल अस्थाई है, फिर भी वहां संभावना है कि गलत विचारों और संस्कारों से पैगम्बरके काम पूरी तरह से नष्ट हो गए। वह सही शिक्षाऐं नष्ट हो गयी, ऐसे मामलों में लोग अनजाने में या अपनी इच्छा के विरूद्ध अंधेरे में रह सकते थे, वे ग़लत करने के लिए ऐसे लोगों को दंडित या दोषी नहीं ठहराया गया, जब तक और तब तक चेतावनी दी गईः “हम अज़ाब देने वाले नहीं हैं जब तक कि (लोगों को सत्य और असत्य का अंतर समझाने के लिए) एक संदेशवाहक (पैगम्बर) न भेज दें।”(17:15) क्योंकि वे चेतावनी, ज़िम्मेदारी और ईनाम या सजा के लिए है।

मुस्लिम विद्धानों के इस मामले पर अलग-अलग राय है उदाहरण के लिए इमाम “मेतुरीदी” और उनके स्कूल का तर्क है कि लोगों के पास बहाना नहीं होना चाहिए। अशारी स्कूल ऊपरी छंद की चर्चा करते हुए तर्क देते हैं कि चेतावनी और मार्गदर्शन निर्णय पूर्ण में होना चाहिए और कि लोगों को ज़िम्मेदार ठहराया जा सकता है केवल यदि वे पैगम्बर भेजे गए हैं।

इन दो पदों का दूसरा गठबंधन जिनके पास पैगम्बर नहीं भेजे गए और वे अपनी इच्छा से अविश्वास और बुतपरस्ती में नहीं गए वे “अहल-अल-निजात” है (वे लोग जिन्हें माफ कर दिया जाएगा तो इसलिए सज़ा से बच जाऐंगे और कौन जिसे ईश्वर चाहे बचा लिया जाएगा) यह स्थिति कि कुछ लोग अपने आस पास का शिलेषण नहीं करते, उसके अर्थ को अच्छा पहचानना या विश्वास और कार्यवाही के पाठयक्रम का सही परिणाम इस तथ्य पर आधारित है के पहली बार के लिए सही तरीका, कैसे कार्य करने पर स्पष्टीकरण और दिशाओं को सिखाया जाना और घिर वे नऐ ज्ञान के साथ क्या किया के अनुसार वे पुरूस्कृत या दण्ड दिया जा सकता है। जो लोग जानबूझ कर कर अविश्वास, धर्म और विश्वास की लड़ाई या ईश्वर की अवहेलना और उसकी आज्ञाओं को पूछ ताछ और दण्डित कर रहे हैं।

वहां कितने पैगम्बर थे? ये सब अरब से थे?

पैग़म्बर उठाए गए और अलग भूमि और अलग समय पर उन लोगों के पास भेजे गए, एक हदीस 1,24000 पैग़म्बरों की संख्या बताती हैं(52) एक ओर में 2,24000 का उल्लेख है। दोनों संस्करण हालांकि विज्ञान की हदीस के अनुसार गंभीर रूप से मूल्यांकन किए गए, सही संख्या “कोई समुदाय (उम्मत) ऐसा नहीं हुआ है जिसमें कोई चेतावनी देने वाला न आया है।” (35:24) और “हम अज़ाब देने वाले नहीं हैं जब तक कि एक सन्देशवाहक (पैगम्बर) न भेंज दें।”

उन्हंे चेतावनी से पहले लोगों को दण्ड देना कि क्या वे ग़लत कर रहे है उसकी राय और अनुग्रह के विपरीत चेतावनी से पहले जिम्मेदारी है जो इनाम या सज़ा के द्वारा पीछा किया जा सकता हैः “फिर जिस किसी ने कण भर नेकी की होगी वह उसको देख लेगा और जिसने कण भर बुराई की होगी वह उसको देख लेगा।”(99:7-8) यदि पैग़म्बर नहीं भेजे जाते तो लोगों को क्या सही या गलत का पता नहीं लगता और इसलिए दंडित नहीं किया जा सकता था, हालांकि बाद में हर व्यक्ति को अपने या अपने अच्छे और बुरे कर्मों के खाते के लिए बुलाया जाएगा। हम अनुमान कर सकते हैं कि हर व्यक्ति के लिए पैग़म्बर को भेजा गया। “हम ने हर समुदाय (उम्मत) में एक रसूल भेज दिया और उसके द्वारा सब को सूचित कर दिया कि “अल्लाह” की बन्दगी करो और बड़े हुए अवज्ञाकारी (तागूत) की बन्दगी से बचो।”(16:36)

केवल अरब में ही पैगम्बरों को नहीं उठाया गया वास्तव में हम तो उन्हें भी नहीं जानते जो पैगम्बर वहां उठाए गए तो और जगह को तो छोड़ दो। नाम (हज़रत आदम से हज़रत मुहम्मद स.) से हम केवल उनमें से 28 को जानते हैं और उनमें तीन पैगम्बरियत अनिश्चित है।(53)

वे वहां से उभरे हम सही रूप से नहीं जानते। माना जाता है जद्दा आदम और हव्वा कब्र के साथ उनके पुर्नमिलन का स्थान भी है, परन्तु या सूचना अनिश्चित है। हम जानते हैं कि हज़रत इब्राहीम अलैहि. ने अनाटोलिया, सीरिया और बाबुल में कुछ समय बिताया। मृत सागर के आस पास सडोम और गोमोरा के साथ कई जुड़े थे। जेथ्रो (शुएब), मदयान को साथ, मूसा मिस्त्र के साथ और पैगम्बर जान और जान और ज़करिया भूमध्य देशों के साथ् वे अनाटोलिया का पार कर दिया। अधिकतर ईसाई लिंक मैरी (मरयम) और जीसस (ईसा) के साथ परन्तु इन संगठनों पर सबसे अच्छी मान्यता रहती है।

इज़राईलियों के लिए भेजे गए कुछ पैग़म्बरों को हम जानते हैं, परन्तु अन्य किसी के नाम या वे कहां दिखाई दिए नहीं जानते। इसके अतिरिक्त क्योंकि उनके उपदेशों को विकृत कर दिया गया और समय के साथ खो दिया, वे कौन थे और वे कहां भेजे गए के बारे में हम कुछ नहीं कह सकते।

ईसाई धर्म के ही मामले लें: निसिआ (325 बम) की परिक्षण के अंर्तगत, ईश्वर की एकता के मूल सिद्धान्त के पक्ष में ट्रिनिटि से मर, मानव निर्मित सिद्धान्त के पक्ष में हटा दिया गया। कैथोलिक चर्च के लिए, यीशू ईश्वर के बेटे बन गए जबकि उनकी मां मैरी को ईश्वर की मां बना दिया गया। कुछ विश्वास बल्कि स्पष्ट है कि ईश्वर स्थिर या बातों में उपस्थित थे इस प्रकार ईसाई धर्म में आदर्शात्मक मान्यताऐं और प्राचीन यूनान के तरीकें सदृश्य आए और अपने अनुयायियों सहयोगी को अन्य चीजों के लिए और ईश्वर के साथ लोगों को मिलाना शुरू कर दिया, इस्लाम में एक प्रमुख पाप है।

इतिहास के अंतर्गत इस तरीके में सत्य के विचलनों और भ्रष्टाचार शुरू हुआ और उनमें वृद्धि हुई है, यदि कुरआन हमें यीशू के तर्क संगत राजभाषा और शुद्धता और मैरी महानता सूचित नहीं करता, हम को धर्म और बृहस्पति (जीसस) और यीशु की रस्म, शुक्र ओर मैरी के संस्कार ने भेद करने में कठिनाई होती है।

यही प्रक्रिया अन्य धर्मों के लिए हो सकता है जैसे हम ने उनके संस्थापक या शिक्षक पैग़म्बर थे या वे विशिष्अ स्थान में पढ़ा रहे थे, निश्चित रूप से नहीं कहा। हम केवल कल्पना कर सकते हैं, कि कन्फयूशियस बुद्ध था यहां तक कि सुकरात पैगम्बर थे। हम एक निश्चित उत्तर नहीं दे सकते, क्योंकि हमें उनके ओर उनकी मूल शिक्षाओं के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है। हालांकि हम जानते हैं कि कन्फयूशियस और बुद्ध की शिक्षाऐं उनके समकालीनों की बड़ी संख्या को प्रभावित करती है और ऐसा करने के लिए जारी हैं

कुछ लोग कहते हैं कि सुकरात ने दार्शनिक ये यहूदी धर्म को प्रभावित किया है, परन्तु वे कोई साक्ष्य नहीं है प्लेटो ने उन्हें शब्दों से ज़िम्मेदार ठहराया कि सुकरात एक जल्दी आप से “लोगों में सही समझ” और विश्वास के लिए नसीहत से प्रेरित हुआ। परन्तु यह स्पष्ट नहीं है, परन्तु लोग इसके अर्थ के सही या बिल्कुल ठीक होने के लिए ज़िम्मेदार नहीं है। बस इतना ही विश्वसनीय है एक वातावरण और तरीकों के कारण के उपयोग में समर्थन को सुकरात ने सिखाया।

प्रध्यापक महमूद मुस्तफा के अफ्रीका की दो आदिम जातियों का निरिक्षण ऊपर कही गई बात की पुष्टि देता है कि मुख-मुखये ईश्वर में विश्वास करते हैं और उसे मुकेय कहते हैं, ये ईश्वर एक और केवल अकेले ही कार्य करता है, न ही पैदा हुआ या न उसने पैदा किया, न कोई सहयोगी या न ही साथी है, वह देखा नहीं जा सकता, परन्तु अपने कार्य के माध्यम से जाना जाता हैं वह आकाश में बसता है, जहां से सब कुछ आज्ञा देता है, यही कारण है कि मुख-मुखये जब प्रार्थना करते हैं तो अपने हाथ ऊपर उठाते हैं, एक ओर जनजाति न्याम-न्याम, समान विषयों को व्यक्त करती है। वहां एक ईश्वर है जो सारी आज्ञाऐं और फ़रमान देता है और जो वे कहते हैं पूर्ण किया जाता है। उसने जंगल की प्रत्येक चीज़ को बनाया जो उसकी इच्छा के अनुसार सब कुछ कहते हैं और जिससे वह गुस्सा है उन्हें सजा देता है।

जो कुरआन में कहा जाता है यह विचार उनके साथ मेल कर रहे हैं, कुरआन की “सूरत अल-इख़्लास” में हम क्या ढूंढते हैं के लिए मुख-मुखये का विश्वास बहुत समीप है, कैसे इन आदिम जन-जातियों को सभ्यता और ज्ञात पैग़म्बरों से इतनी दूर हटा दिया गया, जबकि ईश्वर के बहुत पूर्ण और ध्वनि अवधारणा है? यह हमें इस कुरानी छंद की याद दिलाता हैः “हर समुदाय (उम्मत) के लिए एक रसूल है। फिर जब किसी समुदाय के पास उसका रसूल आ जाता है तो उसका फैसला पूरे न्याय के साथ चुका दिया जाता है और उसका फैसला पूरे न्याय के साथ चुका दिया जाता है और उस पर थोड़ा सा भी जुल्म (अन्याय) नहीं किया जाता।”(10:47)

किरकुक, इराक, के प्रोफे़सर आदिल रियाद विश्वविद्यालय में एक गणित के विद्धान के रूप में काम कर रहे थे जब मैं उनसे 1968 में मिला, उन्होंने मुझे बताया कि वह कई अमेरिकी मूल निवासी से मुकालात कर चुके थे, जब वह संयुक्त राज्य अमेरिका में उनकी पी.एच.डी. कमाई कर रह थे। वह इससे मारे गए कि उनमें से कितने एक ईश्वर पर विश्वास करते हैं। समय से विवश जो खाते नहीं सोते नहीं या स्वयं को ढूंढते नहीं हैं, वह सभी सृजन के नियम और शासन थे, जो उसकी संप्रभुत्त और उसकी इच्छा पर निर्भर के अधीन हैं, वे ईश्वर की विशेषताओं में से कुछ का उदाहरण देते हैं, किसी तरह का कोई भागीदार नहीं क्योंकि ऐसे कोई निश्चित रूप से संघर्ष को जन्म दे सकता है।

एक ईश्वर की अपनी अवधारणा में ऐसी ऊँचाई के साथ इस तरह के लोगों की कथित अदिमता में कैसे सामंजस्य करता है? ऐसा लगता है कि सही दूतों ने सच उनके लिए पहुंचाया कुछ सुदृढ़ता जो अभी भी स्थिर रूप से अपनी वर्तमान मान्यताओं में पायी जाती है।

कुछ लोंगों को आश्चर्य है कि कोई महिला पैगम्बर क्यों नहीं थी। कानून और परंपरा के सुन्नी विद्वानों की भारी आम सहमति है कि कोई और पैगम्बर के रूप में नहीं भेजी गई। एक संदिग्ध और अविश्वसनीय परंपरा को स्वीकार करते हैं कि “मैरी” (हजरत मरियम) और फ़िरऔन की पत्नी गंभीर विश्वासी थीं, यहां तक कोई कुरानीक अधिकार या हदीस नहीं है कि एक औरत को एक पैगम्बर के रूप में उनके लोगों के पास भेजा गया।

ईश्वर सबसे बलशाली ने जोड़े के रूप में सभी अस्तित्व को बनाया, मानवता के निर्माण के लिए कोषाध्यक्ष बनाया गया था और इस प्रकार यह करने के लिए सही हैं नर और मादा की जोड़ी आपसी आकर्षण और प्रतिकर्षण के जटिल संबंध की विशेषता हैं महिलाऐं पुरूषों की तुलना में शारीरिक रूप से मजबूत नहीं हैं, वे आम तौर पर अधिक रोगी सहिष्णु और दया की ओर झुकी होती हैं। दूसरी ओर पुरूष शक्ति, बल और प्रतिस्पर्धी क्रूरता की ओर झूके होते हैं। ज बवह एक साथ होते हैं, इस तरह के लक्षण उन्हें एक सामंजस्यपूर्ण परिवार ईकाई की स्थापना के लिए अनुमति देती है।

आज, लिंग का मुद्दा इस चरण तक पहुंच चुका है जहां कुछ लोग महिलाओं और पुरूषों के बीच वास्तविक भेदों को पहचानने से इंकार कर देते हैं और दावा करते हैं कि वे सभी मामलों, एक जैसे और समान है, यह विचार आधुनिक जीवन शैली में लागू करने का यह परिणाम निकला कि महिलाएं घर से बाहर काम कर रही हैं, “पुरूष बनने की कोशिश” कर रही है और इस प्रकार उनकी पहचान खो जाती है। परिवार जीवन घिस गया है, बच्चों को देख भाल के लिए केन्द्रों या बोडिंग स्कूल भेज दिया जाता है क्योंकि माता-पिता व्यकितगत रूप से व्यस्त हैं। यह हिंसा, प्रकृति और सभ्यता जो एक जगह के रूप में अधिकार और प्रेम के बीच संतुलन सुरक्षा और शांति के रूप में फोकस के घर को नष्ट करती हैं के विरूद्ध है।

खुदा ने समझदार विश्वविद्यालय कविता में ध्वनि सिद्धान्तों का कानून ठहराया और एक उत्कृष्ट और उदान्त प्राकृति के साथ उसमें मनुष्य बनाया। महिलाओं की तुलना में पुरूष शारीरिक रूप से मज़बूत और अधिक सक्षम है, और स्पष्ट रूप से प्रयास करने के लिए गठित मरने के संघर्ष से वापिस लेने की आवश्यकता के बिना प्रतिस्पर्धा है। यह महिलाओं के साथ उनकी “महावारी” के कारण से, उनके पहले और प्रसव के बाद आवश्यक कारावास के कारण से और उनकी असर्थता के फ़लस्वरूप सभी प्रार्थनाओं के कारण से और व्रत का पालन करने के लिए अलग है, और न ही महिलाओं के लिए सार्वजनिक काय्र लगातार उपलब्ध हो सकते हैं। उनकी गोद में एक बच्चे के साथ माँ कैसे नेतृत्व और सेनाओं का प्रशासन कर सकती है, जीवन और मृत्यु का निर्णय लेने के लिए कप्तान और एक दुश्मन के विरूद्ध एक कठिन रणनीति अभियोग है।

एक पैग़म्बर को चाहिए कि अपने सामाजिक और धार्मिक जीवन के हर पहलू को तोड़ने के बजाए मानवता का नेतृत्व करे कि महिलाओं के लिए सर्क संगत असंभव क्यों हैं? यदि आदमी बच्चा हो सकता है तो वे भविष्यदवक्ताओं में नहीं हो सकता है। पैग़म्बर ने इस तथ्य पर विचार किया जब वह महिलाओं के लिए रूप के वर्णन करने के लिए हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) के अंक में जो लोग धर्म नहीं निभाते उनमें से कुछ दायित्वों को पूरी तरह से कर सकते हैं और कुछ अनुभव नहीं कर सकते।

एक पैग़म्बर मानव जाति के हर पहलू के संचालन के लिए माडल (नमूना) है, ताकि वे लोग ऐसी चीजों को करने का दावा नहीं कर सकते जिनके लिए उन्होंने कहा थाः- विशेष रूप से पैग़म्बर के घर में महिलाओं के मामले में दूसरी महिलाओं द्वारा महिलाओं की चाप नहीं भेजी जाती।

क्या पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) का लक्ष्य अस्थाई और सीमित था?

सारी उपलब्ध जानकारियों और साधनों से पता चलता है कि वह अपने मिशन के लिए सार्वभौमिक और सनातन थे।

इस प्रकार के महान लोगों ने जैसे सिकन्दर, रोमन कै़सर, नेपोलियन, हिटलर और यूरोप, रूस और अमेरिका की सब समाजवादी सांसारिक शक्ति और अधिकार के लिए व्यापक अधिराज्य की मांग की। परन्तु जब पैग़म्बर ने संसार भर में अपने इस्लाम का प्रसार अनुयाययों से कहा, तो अपने उद्देश्य के लिए इस संसार और अमली दुनिया में (आखिरत में ) मानव के सुख के लिए और उन्हें नरक में जाने से रोकने के लिए उनकी बाधाओं को दूर किया गया था। उन्हें उनके खोये हुए मान वापिस प्राप्त करने के लिए सक्षम और नीहित पवित्रता दी गई। अंतिम संदेश वाहक के रूप में उनके मार्गदर्शन और कमान के अंर्तगत सदैव अपने जीवन के एक महत्वपूर्ण और दिव्य संदेश दिया, जहां तक संभव हो इस्लाम को प्रकाश के रूप में फैलाया ताकि सब एक दूसरे को सुन सके। वह विश्चित रूप से सफल रहें।

चलो उनके मिशन सार्वभौमिकता के प्रदर्शन को जानने के लिए कुछ कहते हैं:-

- हालांकि अभी भी मक्का में निवास के लिए कुछ मुसलमानों को भेजा है उन विश्वासियों के प्रयास के माध्यम से कई निवासियों को जानने और इस्लाम के गले लगाने का अवसर था। हालांकि इसने प्रवास के लिए तीव्र उत्पीड़न से बचने के लिए किया गया था, यह भी राजा नेगुस और धनी निवासियों को इस्लाम के लिए हरे रंग का चुनाव है। यह एक सार्वभौमिक का पहला साक्ष्य था।

पहले दर्जे के मुसलमानों में थे, हज़रत बिलाल (अबीसीनिया से) हज़रत शुऐब (बिजनटीय) हज़रत सलमान (परशिया से) और अन्य उदाहरणतः अलग अलग देशों और नस्लों से थे, जिनकी श्रेणी प्रथम मुसलमानों की थी। बहुत से गै़र अरबों ने इस्लाम में उच्च श्रेणियां और उपाधियां पाई। इस्लाम अरब में दिखा परन्तु वे दुनिया के अलग अलग देशों से यहां आकर नजर आया। यह दर्शाता है कि शुरू से ही इस्लाम का सार्वभौमिक दृष्टिकोण था।

इराक और फारस की विनय से बहुत पहले पैग़म्बर ने सुराका को बताया कि एक दिन वह खुरूसे, औरमुज के बेटे फारस के राजा के कंगन पहनेंगे(56) यह इंगित करता है कि पैगम्बर जानते थे कि इस्लाम इराक और फ़ारस तक ले जाया जाएगा। यह बिल्कुल ऐसे ही हुआ जैसे पैगम्बर ने भविष्यवाणी की थी।

उम ए हरम बिन्ते मिलहान (उनकी पैतृक चाची उपादा इब्न समीत की पत्नी) के घर आराम करते हुए, पैग़म्बर थोड़ी देर के लिए सो गए। जब वह उठे तो उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा मेरा समुदाय मुझे दिखाया गया हैं। मैंने उन्हें राजाओं की तरह सिंहासन पर बैठे समुद्र में युद्ध छेड़ते हुए देखा।(57) चालीस साल बाद (साइप्रस की विजय पर) उम्मे हरम उबादा के साथ गए। वह मर गईं और वहां दफना दी गईं, जहां यह उनकी कब्र आज भी देखी जा सकती है। पहले की तरह यह पैग़म्बर की ओर से एक संकेत था कि उनके साथी दिव्य संदेश को विदेश में ले जाएँ।

एक बार नबी ने अपने साथियों को बतायाः “मेरे मरने के बाद मिस्र जीत जाएगा। उसके लोगों पर उदार और दयालू रहना। उनके साथ नम्रता से व्यवहार करना, क्योंकि तुम्हारे और उनके बीच रिश्तेदारी और कर्तव्य है।(58) तो उन्होंने उनको बताया कि उनके जीवन काल के अंर्तगत इस्लाम मिस्र तक पहुंच जाएगा और उन्हें मैरी के साथ अपने विवाह से स्थापित रिश्तेदारी की रक्षा करने को कहा।

खंदक के युद्ध से पहले ज बवह खाई की खुदाई कर रहे थे तो पैग़म्बर ने “हिरा” की विजय की खोसरोस के महल के स्तंभों को पतन और दमिश्क के कब्जे की भविष्यवाणी थी(60)

कई पैग़म्बरों की परंपरा और कुरआन के छंद (आयत) साफ रूप से स्पष्ट करते हैं कि उनकी पैग़म्बारियत सभी देशों और सभी समय के लिए थी। इनमें निम्नलिखित हैः-

एक हदीस में नबी ने कहाः- “हर पैग़म्बर अपने राष्ट्र में भेजा गया। मैं मानवता पर भेजा गया।(61) दूसरी परंपरा में यह कहा जाता है कि “गोरों और कालों” पर। इसकी पुष्टि करते हुए अल-तबरी दूसरी हदीस ब्यान करते हैं: “मैं सब पर दोनों दया और नबी की तरह भेजा गया। मेरा मिशन (लक्ष्य) पूरा करो। ईश्वर की दया तुम पर हो।(62)

जब “कोरोएस” का दूत आपके पास आया तो नबी ने कहाः “जल्द ही मेरा धर्म और बादशाहत कोरोएस की राज गद्दी तक पहुंच जाएगी।(63)

“अनाटोलिया” और “कोनस्टेनटीनोपल” (अब इस्तामबुल) के युद्ध से सदियों पहले उन्होंने भविष्य बताया कि मुसलमानी फौजें यूरोप तक पहुंचेगी और कोनस्टेनटीनापल जीत जाएगा। इस बात को समझने के लिए कई प्रयास किए गए और प्रसन्न रहो क्योंकि नबी के शब्दों में “कोस्टेनटीनोपल जीत जाएगा। ख़ुशनसीब है वह सेनापति जो इसे जीतेगा और खुशनसीब है उसकी सेना।” (64) क्योंकि वह शहर बड़े राज्य का चिन्ह था नबी अपने जनसमूह को निर्देश दे रहे थे कि इस्लाम को पूरी दुनिया तक ले जाओ।

नबी के लक्ष्य से संबंधित कुरआन के सभी छंद स्वयं (परिभाषित) व्याख्यित है। वे बिना गलती किए कहते हैं कि नबी के माध्यम से दिव्य रहस्योदघाटन पूरी मानवता के लिए है। मुहम्मद (स.अ.व.) को इन्सान और जिन दोनों को सावधान करने या आदेश दिया गया था जैसेः-

“यह तो एक नसीहत है सारे संसार वालों के लिए।”(38:87)

“ताकि वह हर उस व्यक्ति को सावधान कर दें जो जिन्दा हो और इंकार करने वालों पर तर्क प्रस्तुति कायम हो जाऐं।”(36:70)

“और ये नबी हम ने आपको सारे ही इन्सानेां के लिए शुभ सूचना देने वाला और सावधान करने वाला बनाकर भेजा है परन्तु अधिकतर लोग नहीं जानते हैं।”(34:28)

“ऐ नबी (हज़रत मुहम्मद सल्लम.) कहो ऐ इंसानों मैं तुम सक की ओर उस अल्लाह का पैग़म्बर हूं जो जमीन और आसमानों की बादशाही का मालिक है।”(7:158)

कुरआन कहता है कि पहले के नबी अपने नियुक्त राष्ट्र या सम्प्रदाय पर भेजे गए और पैग़म्बर हजत्ररत मुहम्मद (स.अ.व.) और उनके बीच भेदों पर हमारा ध्यान केन्द्रित करता हैः-

“हम ने नूह को उसकी कौम की ओर भेजा। उसने कहा ऐ कौम के भाईयो, अल्लाह की बन्दगी करो, उसके सिवा तुम्हारा कोई नहीं है।”(7:59)

“और आद की और हम ने उनके भाई हूद को भेजा उसने कहा ऐ कौम के भाईयों, अल्लाह की बन्दगी करो उसके सिवा तुम्हारा कोई खुदा नहीं है फिर क्या तुम गलत नीति अपनाने से नहीं बचोगे।”(7:65)

“और समूद की ओर म ने उनके भाई सालेह को भेजा। उसने कहा ऐ कौम के भाईयो, अल्लाह की बन्दगी करो, इसके सिवा तुम्हारा कोई खुदा नहीं।”(7:73)

“और लूत को हम ने पैग़म्बर बना कर भेजा फिर याद करो जब उसने अपनी कौम से कहा।”(7:80)

“और मदयन वालों की ओर हम ने उनके भाई शुऐब को भेजा उसने कहा ऐ कौम के भाईयो अल्लाह की बन्दगी करो उसके सिवा तुम्हारा कोई खुदा नहीं है।”(7:85)

इसके अतिरिक्त इन पैगम्बरों के लगभग हर चर्चा में कुरआन यह कहता है कि वे अपने ही भाईयों से उठाए गए और अपने ही राष्ट्र में भेजे गए। इसलिए इस बात के कोई दो अर्थ नहीं है कि कौन सा नबी अपने राष्ट्र के लिए भेजा गया और कौन सा मानवता के लिए भेजा गया।

पहले रहस्योदघाटन से नबी सुने हुए हैं और उन्हें लगभग हर जगह इज़्ज़त मिली है। उनकी शिक्षा जिसने लोगों के जीने का ढंग स्थापित किया है। चीन और मोरोक्को जितनी दूर भी दुनिया के हर कोने में असंख्य लोगों के दिलों को हुआ है। यह एक संतुलित और सभ्य जीवन का सबसे सहने वाला नमूना था और रहेगा और हर क्षेत्र में मानव विकास तक ले गया।

मुसलमानों के सबसे पापी और पालने वाले जुल्म उसकी संस्कृति की गुंडई उनके मूल और इतिहास का ग़लत ढंग से प्रतिनिधित्व के बावजूद इस्लाम के सिद्धान्त और आदर्श भारी मात्रा में मुसलमानों के दिलों में ताजे और स्पष्ट रहे। सचमुच सच्चे मुसलमान का आदर किया जाता है और कई गैर मुस्लिम भी यह मानते हैं कि हमारी परेशानियां उन सिद्धान्तों को लागू करने से ही हल होगी। इस्लाम की शुद्ध सहनता उसके विश्वासियों और कई अन्य लोगों की विजय और हार भाषाऐं, संस्कृतियां और जलवायु के लिए यह साबित करती हैं कि पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) का लक्ष्य सभी लोगों के लिए है और स्थाई है

पैग़म्बर क्यों बहुविवाही थे?

इस्लाम के कुछ आलोचक की स्वकृपालू अनैतिक के रूप में बुरा कहते हैं, वे उनके चरित्र अवशेष पर आरोप भी लगाते हैं कि वे औसत पुण्य के अस्तित्व के साथ कठोर सहमत है, एक पैग़म्बर और ईश्वर के अंतिमदूत साथ ही साथ मानवता का पालन करने के लिए सबसे अच्छे व्यक्ति नमूने को छोड़ दें। हालांकि उनकी बचत और कार्यों के आसानी से उपलब्ध आत्मकथाओं और सही विश्वास के योग्य खाते पर आधारित है, वे बहुत स्पष्ट थे कि वह सबसे सख्ती से अनुशासित जीवन में रहते थे और उनके विवाह कई बोझ के भाग में से एक थे वह ईश्वर के अंतिम दूत के रूप में लाए गए।

उनके कई विवाह करने के विभिन्न कारण हैं, हालांकि उनमें से सभी मुस्लिम समुदाय के नेता के रूप में उनकी भूमिका और उसकी ज़िम्मेदारी नए मुस्लिम को मापदण्डों और इस्लाम के मूल्य की ओर मार्ग दर्शित करने से संबंधित थे।

जब हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) 25 साल के थे, इससे पहले ही वह अपने भविष्य के लक्ष्य के लिए बुलाए गए थे, उनकी पहली पत्नी हज़रत ख़दीजा (रजि.) थीं। घेरे हुए सांस्कृतिक वातावरण जलवायु और उनके युवा के रूप में अन्य बातों का उल्लेख नहीं हैं यह उल्लेखनीय है कि वह सही शुद्धता, अखण्डता और विश्वसनीय के लिए एक प्रतिष्ठा का आनन्द लेना जैसे ही वह पैगम्बरियत के लिए बुलाए गए थे, वह दुश्मन जो उनके विरूद्ध थे, झूठे इल्ज़ाम उठाने में संकोचित नहीं हुए परन्तु उनमें से किसी एक का भी उनके बारे में कुछ अविश्वसनिये अविष्कार करने की हिम्मत कैसी होती।

हज़रत ख़दीजा (रजि.) 15 साल वरिष्ठ थीं। यह शादी बहुत अधिक और ईश्वर और पैग़म्बर की दृष्टि में आसाधारण थी, उनके जीवन में लगातार संतोष की, एक आदर्श निष्ठा की अवधि थी। पैग़म्बरियत के आठवें वर्ष में, हालांकि वह निधन कर गई। अपने बच्चों के एक मात्र माता-पिता के रूप में 4 या 5 वर्षों में पैग़म्बर को छोड़ गई। यहां तक कि अपने दुश्मनों को स्वीकार करते हैं कि इन वर्षों के अंतर्गत वे उनके नैतिक चरित्र में कोई दोष पा सकते थे। पैग़म्बर अपने जीवन काल के दौरान हज़रत ख़दीजा (रजि.) के अलावा किसी अन्य पत्नी को नहीं ले गए थे, हालांकि लोगों की राय में उन्हें ऐसा करने की अनुमति होगी। जब उन्होंने अन्य महिलाओं से विवाह किया तो उनके पास पहले से ही अतीत थे। वास्तविक में शादी की इच्छा बहुत कम रहती है।

लोग अक्सर पूछते हैं कि एक पैग़म्बर की कैसे एक से अधिक पत्नियाँ हो सकती हैं। यह प्रश्न आम तौर पर वह लोग पूछते हैं जिनको इस्लाम के बारे में बहुत ही कम जानकारी होती है। उनके प्रश्न भी वास्तविक अज्ञान्ता या विश्वास करने के लिए नेताओं के बीच फैले हुए संदेह की इच्छा पर आधारित होते हैं।

जिन लोगों ने तो विश्वास में और न ही एक धर्म का अभ्यास करने के लिए तिरस्कार का अधिकार है, ऐसे लोगों को अपने आकस्मिक संबंधों और कई यौन सहयोगियों के साथ संपर्क के और उनके लिए किसी भी नैतिक नियम या नैतिकता का पालन इंकार के लिए जाना जाता है। रचना को ध्यान में रखते हुएख् वे संलग्न में अधिकार समाज के लिए क्या अनैतिक व्यवहार होना मानते हैं। क्यों अन्य धर्म के विश्वासिय लोग एक पैग़म्बर के विवाह के लिए उन पर हमला करते हैं। वे भूल गए कि महान हिब्रु पैटरिआर्क में और कुरआन में भविष्यदवक्ताओं को और नैतिक उत्कृष्टता को माना जाता है, सब अभ्यास बहुविवाह की मिसाल के रूप में यहूदियों, ईसाईयों और मुसलमानों द्वारा प्रतिष्ठित अनेक पत्नियों तथा अनेक पतियों से विवाह करने की प्रथा है। इसके अलावा पैग़म्बर हज़रत सुलेमान अलैहि. को मामले में उनकी पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) की तुलना में कहीं अधिक पत्नियां थीं पर शांति हो यदि वे चले गए हैं और उनके विरोधी वास्तविक चिंता या इच्छा से इस्लाम को पूर्वीग्रह द्वारा बहुविवाह मुसलमानों के साथ ही शुरू नहीं किया था।

बहुविवाह मुसलमानों के साथ ही शुरू नहीं हुआ था, इसके अलावा पैग़म्बर ने इस अभ्यास के मामले में कहीं अधिक महत्व और अधिक लोगों को आमतौर पर अनुभव किया गया है। एक अर्थ में पैग़म्बर के लिए बहुविवाही को सुनना (इस्लामी कानून के मानदंडों और विधियों) हस्तांतरित किया था। जैसे कि इस्लाम हर एक के जीवन के हिस्से में शामिल किया गया, नीति विवाहित संबंध अछूत नहीं रह सकता। इसलिए महिलाओं के इस मामले में अन्य महिलाओं के मार्गदर्शन कर सकते हैं। वहां सकेंत और संदर्भ की सांकेतिक भाषा के लिए कोई स्थान नहीं है। नबी के घर के पवित्र और धार्मिक महिलाऐं अन्य मुसलमानों के मानदण्ड और ऐसे नीजि क्षेत्रों के नियम समझने के लिए उत्तरदायी थी।

पैग़म्बर के विवाहों के कुछ विशिष्ट कारणों को अनुबंधित किया गयाः

- वास्तव में उनकी पत्नियां युवा, मध्यम आयु और बूढ़ी थी, इस्लामी कानूनू की आवश्यकता और बयान उनके विभिन्न जीवन चरणों और अनुभवों के संबंध में उदाहरण हो सकता है। इन्हें पहले पैग़म्बर के घर की भीतर लागू और सीखा गया, और फिर अन्य मुसलमानों पर उनकी पत्नियों द्वारा पारित किया गए।

- प्रत्येक पत्नी एक अलग कबीले और जनजाति की थीं। जिसने पैग़म्बर को बाह तेजी से मुस्लिम समुदाय के बीच रिश्तेदारी और चाहत को स्थापित करने के अनुमति दी। यह भी उनसे एक गहरे लगाव को सक्षमक रने के लिए सभी मुसलमानों के बीच फैल गया। जिसने एक सबसे अधिक व्यवहारिक मार्ग में और धर्म के आधार पर समानता और भाईचारे को बनाने और सुरक्षित रखने में किया।

- प्रत्येक पत्नी पैगम्बर की जीवन के बाद और अंतर्गत दोनों ही, इस्लाम के कारण के लाभ और सेवा के लिए साबित हुई, उन्होंने उनकी जातियों को संदेश दिया और व्याख्या की, बाहरी और आंतरित अनुभवों और गुणों, शिष्टाचार और उस आदमी पर विश्वास जिसका जीवन व्यवहार कुरआन का प्रतीक अनुभव में इस्लाम था। इसी प्रकार सभी मुसलमानों ने कुरआन, हदीस, कुरआन की व्याख्या वार्तालाप और इस्लामी न्यायशास्त्र को सीखा और इसलिए इस्लामी सार और भावना को पूरी तरह जानने वाले बन गऐ।

- उनके विवाहों के माध्यम से पैग़म्बर ने अरब भर में परिजनों जहाज के संबधों की स्थापना की। यह उसे हरकत और प्रत्येक परिवार में सदस्य के रूप में स्वीकार करने की स्वतंत्रता दे दी। वे उन्हें एक अपने के रूप में विचारने लगे कि वह उनसे व्यक्गित रूप से मिल सकते हैं। और उनके जीवन और उसको बाद के बारे में सीधे पूछ सकते हैं। जनजातियों ने उनकी निकटता से सामूहिक लाभ उठाया। वे स्वयं को भाग्यशाली मानते हैं और उस संबंध में गर्व लेते हैं। उम्ययदों (उम्मए हबीबा के रूप में) हाशीमितीस (जैनब बिनते जेहेश के रूप में ) और बनी मरज्जुम उम्मे सलमा के रूप में ऐसों के रूपों में हैं।

जो हम ने अब तक कहा वो सर्व साधारण है और कुछ विषय में सभी पैग़म्बरों के लिए सत्य है। हालांकि अब हम उम्म उल मोमिनीन (विश्वासियों की माताऐं) के जीवन के नक्शे की बहस करते हैं, विवाह के क्रम में नहीं पर एक अलग दृष्टिकोण से।

हज़रत ख़दीजा (रजि.) नबी की पहली पत्नी थी, जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, उन्होंने उनकी पैग़म्बरियत शुरू होने से पहले विवाह किया। भले ही वह उनसे 15 साल बड़ी थीं वह उनके सब बच्चों को लाई, बिना हज़रज इब्राहीम अलैहि. के जो बचपन को जी ही नही पाए। हज़रत खदीजा (रजि.) उनकी मित्र थी, उनकी हट की भागीदार और एक उल्लेखनीय उपाधि की आदर्श भी थी। उनकी शादी को शानदार आर्शीवाद दिया गया था, क्योंकि वे 23 साल तक गहन सदभाव में रहे। मक्का के अविश्वासियों द्वारा शुरू किये गऐ परिक्षण और उत्पीड़न के माध्यम से, वह उनकी सबसे प्रिय साथी और सहायक थीं। वह उनसे बहुत गहरा प्रेम करते थे और जब तक वह जीवित थीं तक तक उन्होंने किसी अन्य महिला से शादी नहीं की।

यह शादी अंतरंगता, दोस्ती, आपसी सम्मान, समर्थन और सांत्वना का आदर्श हैं हालांकि वह अपनी सभी पत्नियों के प्रति विश्वासी और वफ़ादार थे। वह हज़रत ख़दीजा (रजि.) को कभी भूल न सके और कई अवसरों पर बड़े पैमाने पर उनके गुणों और सदाचार का उल्लेख किया करते थे। उन्होंने हज़रत ख़दीजा (रजि.) के देहान्त के 4-5 वर्ष बाद ही किसी दूसरी महिला से शादी की थी। उस समय तक उन्हांेने अपने बच्चों की माता-पिता दोनों के रूप में सेवा की उनको दैनिक भोजन और प्रावधानों के रूप में और तो और उनकी कठिनाईयां भी सहन की। यह आरोप लगाना कि इस प्रकार का व्यक्ति एक भोगवादी या यौन वासना से संचालित बिल्कुल व्यर्थ है।

हज़रत आयशा (रजि.) हज़रत अबूबक्र (रजि.) की बेटी थीं, जो कि उनके सबसे समीप मित्र और अनुगामी भक्त थे। सबसे पहले धर्मान्तरित हज़रत अबूबक्र (रजि.) लम्बे समय में शादी के माध्यम से अपने और पैगम्बर के बीच गहरे लगाव को मज़बूत करने की आशा करते थे। हज़रत आयशा (रजि.) से शादी करके पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) ने एक व्यक्ति के जिसने उनके साथ सभी अच्छे और बुरे साझे (सर्वोच्च सम्मान, शिष्टचार दिया) इस प्रकार हज़रत अबूबक्र (रजि.) और हज़रत आयशा (रजि.) ने पैग़म्बर से आत्मिक और शारीरिक रूप से समीप होने का गौरव प्राप्त किया।

हज़रत आयशा (रजि.) ने एक उल्लेखनीय बुद्धिमान और होशियार महिला होने का सबूत दिया, क्योंकि उनका स्वभाव, पैग़म्बर के मिशन के कार्य को आगे बढ़ाने वाला था, उनकी शादी ने उन्हें सभी महिलाओं के लिए एक आध्यात्मिक मार्ग दर्शक और शिक्षक के रूप में तैयार कर दिया। वह पैग़म्बर की एक प्रमुख छात्रा और शिष्या बन गई। उनके माध्यम से उस धन्य समय के कई मुसलमानों की तरह, उनका कौशल और प्रतिभा परिपक्व और सिद्ध थे ताकि वह उनके साथ एक पत्नी और छात्रा दोनों के रूप् में आनन्द के घर में सम्मिलित हो सकें।

इस्लाम के लिए उनके जीवन और सेवा से साबित कर दिया इस तरह की वे एक आसाधारण व्यक्ति पैग़म्बर की पत्नी होने के योग्य थी। वह हदीस की एक उत्कृष्ट अधिकारी, कुरआन की टीकाकार और इस्लामी कानून की सबसे प्रतिष्ठ और जानकार विशेषज्ञ थीं। उन्होंने पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) के आंतरिक और बाह्य गुणों और अनुभवों का सही रूप से प्रतिनिधित्व किया। निश्चित रूप से यही कारण था कि पैगम्बर के सपने में यह कहा गया कि उनकी शादी हज़रत आयशा से होगी। इसलिए जब वह अभी तक निर्दोष थीं और पुरूष और संसारिक मामलों के बारे में कुछ नहीं जानती थीं, उन्हें तैयार किया गया और उन्होंने पैगम्बर के घर में प्रवेश किया।

मख़जूम क़बीले की उम्मे सलमा की शादी पहले अपने चचेरे भाई से हुई। दोनों ने बहुत शुरू में ही इस्लाम को गले लगा लिया था और उत्पीड़न से बचने के लिए “अबीससीनिया” चले गए थे। उनकी वापसी के बाद वे और उनके चार बच्चे मदीना चले गये। उनके पति ने कई लड़ाईयों में भाग लिया और शहीद हो गए। हज़रत अबूबक्र (रजि.) और हज़रत उमर (रजि.) ने उनके सामने शादी का प्रस्ताव रखा क्योंकि वे उनकी आवश्यकताओं और एक विधवा के रूप में बच्चों के समर्थन के साथ से जानकार थे। उन्होंने मना कर दिया इस विश्वास के साथ कि कोई भी उनके पति से अच्छा नहीं हो सकता।

उससे कुछ समय बाद, नबी ने शादी का प्रस्ताव रखा। यह बहुत सही और स्वाभाविक था, क्योंकि इस महान औरत ने कभी बलिदान या इस्लाम के लिए दुख सहने से कभी गुरेज नहीं किया। अब इतने वर्ष सबसे ऊँचे पद के अरब क़बीले में रहने के बाद वह अकेली थीं तो उनकी उपेक्षा नहीं की जा सकती थी और न ही जीवन में अपने मार्ग के लिए भीख मांगने के लिए छोड़ दिया जाता। अपनी शील, ईमानदारी और ध्यान रखते हुए कि उन्हें क्या क्या सामना करना पड़ा, वह निश्चित रूप से मदद के लिए उपयुक्त थी। उनसे शादी करके पैग़म्बर वही कर रहे थे जो उन्होंने हमेशा ही किया थाः उनसे दोस्ती जिनके पास दोस्तों की कमी थी। असमर्थित का समर्थन और असुरक्षित की रक्षा। उनकी वर्तमान परिस्थितयों में उनकी मदद करने का दूसरे दयालू और अधिक उदार तरीका कोई नहीं था। जैसा कि नबी लगभग 60 वर्षों के थे तब कई बच्चों के साथ शादी और संबंधित खर्च और ज़िम्मेदारी संभालने केवल दया का एक अधिनियम है कि मानवता के बारे में उनके उन्नत भण्डार के लिए हमारी प्रशंसा को योग्य के रूप में समझा जा सकता है।

उम्मे हबीबा, अबू सुफियान, नबी के एक प्रारभि के सबसे निरक्षरित दुश्मन और मक्का के बहुदेववादी धर्म और मूर्तिपूजा संबंधी के समर्थक की बेटी थीं। उनकी बेटी सबसे पहले मुसलमानों कें से एक थी। जहां उनके पति में अनन्त एक ईसाई बनने के साथ निवासियों में परवास किया। हालांकि वह अपने पति से अलग वह एक मुस्लिम बनी रही। उसके बाद शीघ्र ही उनके पति मर गए और बिल्कुल अकेली और हताश निरवासन में रह गयी थीं।

संख्या में कठिनाई से ख़ुद के समर्थन को कम करने में सक्षम समय में साथी बहुत मदद की पेशकश नहीं कर सकते थे। उनके पास क्या विकल्प थे? कि वह ईसाई धर्म में बदले और उन्हें इस तरह (असंभव) की मदद मिल सके। वह अपने पिता के घर अब इस्लाम के विरूद्ध युद्ध के लिए, मुख्यात्मक न्यौत सकते हैं। वह घर से भटकने के लिए एक भिखारी के रूप में रह सकते हैं। वह घर से भटकने के लिए एक भिखारी के रूप में रह सकते हैं। परन्तु फिर से यह एक सबसे धनी बनने का एक सदस्य के लिए अकल्पनीय विकल्प नहीं था। और महान अरब परिवार उनके परिवार के नाम द्वारा ऐसा करने पर लाने के लिए लज्जा की बात है।

ख़ुदा के एक सुरक्षित वातावरण में उन्हें अकेले निवास करने के लिए “उम्मे हबीबा एक अलग ज़ाति और धर्म के लोगों के बीच इनाम के लिए उपयुक्त है और उनके पति को स्वधर्म त्याग और मृत्यु पर पैग़म्बर को उनकी शादी की व्यवस्था के लिए निराशा हुई। उनकी दुर्दशा के अध्ययन से पैग़म्बर ने राजा नैगस के माध्यम से शादी का एक प्रस्ताव भेजा। इस महान और उदार कार्यवाई का एक व्यवहारिक साक्ष्य थाः “ये नबी हम ने तो तुम को दुनिया वालों के लिए दयालुता बना कर भेजा है।” (21:107)

इस प्रकार उम्मे हबीबा एक पत्नी और छात्रा के रूप में पैग़म्बर के घर में शामिल हो गईं और जिन लोगों ने उनसे कुछ न कुछ सीखा है, उन्होंने नैतिक और आध्यात्मिक जीवन के लिए बहुत योगदान दिया। इस शादी में पैग़म्बर के घर के और व्यक्ति हैं जो अपने सदस्यों के फिर से उनके व्यवहार का मूल्यांकन करने का कारण बने और अबू सूफियान के शक्तिशाली परिवार से जुड़े। यह भी इस शादी के प्रभाव का पता लगाने का सही समय था, अबू सुफियान के परिवार से दूर और आशाओं में सामान्य जो लगभग एक सदी के लिए मुसलमानों का शासन करने के लिए है।

इस क़बीले में जिसके सदस्य सबसे अधिक थे, इस्लाम उनकी घृणा में कट्टर हो गया, इस्लाम के प्रसिद्ध योद्धा प्रशासक और राज्यपालों से कुछ का जल्दी उत्पादन किया गया। उन्हें अभिभूत इस शादी की उदारता और आत्मा को विश्वास और पैग़म्बर की उदारता भी गहराई के लिए यह परिवर्तन शुरू किया गया था।

जैनब बिन्त-ए जैश महान जन्म की महिला और पैग़म्बर की एक करीबी रिश्तेदार थीं। इसके अलावा महान ईश्वर भक्ति भी एक महिला वह हैं जिन्होंने बहुत लम्बी रात्रीजागरण की चखा रखी है और गरीब के लिए उदारता दी है। जब पैग़म्बर ज़ायद के लिए मुख्य एक अफ्रीकी पूर्व गुलाम की व्यवस्था की जो उनके बेटे हैं। हज़रत जै़नब (रजि.) परिवार को और स्वयं हज़रत जै़नब को अनिच्छुक के रूप में अपनाया था। पैग़म्बर के परिवार के लिए अपनी बेटी से शादी करने की आशा थी। परन्तु जब उन्हें पता चला कि पैग़म्बर ने अन्यथा निर्णय किया था, तो उन्होंने पैग़म्बर के सम्मान से बाहर अपने अधिकार के लिए अपने प्रेम की सहमति दी।

ज़ाएद को एक आदिवासी युद्ध के अंतर्गत बच्चे के रूप में गुलाम बनाया गया था। हज़रत ख़दीजा (रजि.) जिन्होंने उसे ख़रीदा था, हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.) को जब एक उपहार के रूप में दिया था। जब उनसे शादी कर ली। पैग़म्बर ने तुरन्त उन्हें मुक्त कर दिया और शीघ्र ही बाद में उसे अपनी बेटी के रूप में अपनाया। उन्होंने इस शादी पर ज़ोर दिया और मुसलमानों के बीच मरने की स्थापना की समानता मज़बूत हैं नीचे एक गुलाम या मुफ्त में जन्मी महिला से शादी के विरूद्ध अरब पूर्वीग्रह टूट गया।

शादी एक दुख की चीज थी। महान जन्में हज़रत जै़नब सबसे पवित्र और आसाधारण गुणवत्ता के एक अच्छी मुस्लिम थीं। “ज़ायेद” इस्लाम को गले लगाने के पहले बीच में थे और वह भी एक अच्छे मुसलमान थे परन्तु एक संगत में कुछ नहीं थे। ज़ायेद ने पैग़म्बर से तलाक़ की अनुमति के लिए कई बार कहा। परन्तु उन्हें धैर्य के साथ रहना बताया गया था वह हज़रत जै़नब से अलग नहीं हैं।

परन्तु फिर एक दिन गैब्रियल (हज़रत जिब्राईल) ने एक दिव्य रहस्योदघाटन पैग़म्बर को दिया कि हज़रत जै़नब की शादी एक बंधन था जो पहले से अनुबंध के साथ आया थाः “तो हम ने उस का तुम से निकाह कर दिया।”(33:37) यह पैग़म्बर के परीक्षणों का एक गंभीर आदेश था, उसे डाॅक्टरों का सामना करना पड़ा, क्यों बताया गया था कि वह सामाजिक वर्जना को तोड़ने जा रहा है। अभी तक यह ख़ुदा के लिए किया जाना चाहिए था, और बस के रूप में ख़ुदा की कमान संभाली। हज़रत आयशा ने बाद में कहाः “यदि पैगम्बर रहस्योदघाटन के किसी भी भाग को दबाने में झुके हुए होते तो अवश्य उन्होंने इस छंद को दबा दिया होता।”(69)

दिव्य ज्ञान ने आज्ञा दी कि हज़रत जै़नब पैग़म्बर के घर में शामिल हों ताकि वह मुसलमानों को मार्ग दर्शित और समझाने के लिए तैयार हो सकें। उनकी पत्नी के रूप में सदैव अपनी उत्तरदायित्व और अपनी भूमिका के उचित शिष्टाचार जिन सबको उन्होंने सार्वभौमिक प्रशंसा से पूरा किया। इस नए स्थान पर उन्होंने स्वंय को सबसे उचित साबित किया।

इस्लाम के पहले एक दत्तक पुत्र, एक प्राकृतिक पुत्र माना जाता था। इसलिए एक दत्तक पुत्र की पत्नी एक प्राकृतिक पुत्र की पत्नी की तरह ही मानी जाती थी। कुरआन के छंद के अनुसार पूर्व “तुम्हारे कक्षों से आए तुम्हारे बेटों की पत्नियां” शादी की निषेद्ध दत्तक पुत्र पर लागू नहीं होता क्योंकि कोई वास्तविक रक्त संबंध नहीं है। जो जब स्पष्ट लगता है वो पहले ऐसा नहीं था। इस शादी से आदिवासी वर्जित गहरी जड़ें टूट गई बिल्कुल वैसे जैसे ईश्वर ने इरादा किया था।

मुसलमानों की भविष्य की पीढ़ियों के अभेदय अधिकार के लिए पैग़म्बर को यह वर्जित स्वंय तोड़ना पड़ा उनके गहरे विश्वास का यह एक और उदाहरण है कि उन्होंने वही किया जो उन्हें बताय गया और अपने आप लोगों का कानूनी कल्पना से मुक्त कराया जो कि एक जैविक प्राकृतिक वास्तविकता में छिपे थे।

जुवैरिया बिन हरीथ, (हरीथ के बेटी पराजित बानी मुस्तालिक क़बीले के मुखिया एक सैन्य अभियान के अंतर्गत पकड़ी गई। वह अपने क़बीले के “आम लोगों के साथ और अपने परिवार के अन्य सदस्यों के साथ पकड़ी गई। वह एक महान संकट में थीं, जब वह पैग़म्बर के ख़ैबर पहुंचने से तीन दिन पहले, उन्होंने अपने सपने में एक प्रतिभाशाली चांद को मदीना से बाहर और ख़ैबर की ओर आते देखा और उसे अपनी गोद में गिरा देखा। उन्होंने बाद में कहाः “जब मुझ पर क़ब्जा कर लिया गया तो मैंने आशा करनी शुरू कर दी कि मेरा सपना सच हो जाएगा। जब उन्हें पैगम्बर के सामने एक बंदी के रूप में लाया गया तो उन्होंने उन्हें मुक्त कर दिया और उन्हें यहूदी रहने की और अपने लोगों की ओर लौट जाने की या इस्लाम में प्रवेश करके उनकी पत्नी बनने के लिए विकल्प की पेशकश दी। उन्होंने कहाः “मैं ईश्वर और उसके दूत को चुनती हूँ।” इसके बाद शीघ्र ही उनकी शादी हो गई।

पैग़म्बर के घर तक उठाई गई, उन्होंने मुसलमान के शोधन और सच्चे शिष्टाचार को पहले हाथ पर देखा। अपने अतीत के अनुभवों पर उनका व्यवहार बदल गया था, और पैग़म्बर की पत्नी होने का महान सम्मान की सराहना की। इस शादी के परिणाम के रूप में, कई यहूदियों का व्यवहार बदल गया। क्योंकि वे पैग़म्बर को समीप से देख और समझ पाए। यह किसी के मूल्य नहीं कि मुसलमानों और गै़र मुसलमानों के बीच घनिष्ट संबंध लोगों के बीच एक दूसरे को अच्छे से समझने में मदद कर सकता है और सामाजिक मानदण्डों के रूप में आपसी सम्मान और सहिष्णुता स्थापित करता है।

“साऊदा बिन्त ज़माह” इब्न क़ैस सकरान की विधवा थी इस्लाम को सबसे पहले मानने वाले होने के रूप में, मक्का की उत्पीड़न से बचने के लिए अबी सीनिया में प्रवासी थे। सकरान निर्वासन में मर गए और अपनी पत्नी को सरासर बेसहारा छोड़ गए। उनकी सहायता करने के अकेले माध्यम होने से पैग़म्बर ने स्वयं के चल रहे कठिन समय में भी उनकी शादी की। यह शादी हज़रत ख़दीजा की मौत के कुछ साल बाद हुई।

हज़रत हफ़सा, उमर इब्न ख़त्ताब की बेटी थीं। उन्होंने अपने पति को खो दिया था जो अबिसीनिया और मदीने दोनों जगह गए जहां वह ईश्वर की राह में बुरी तरह घायल हो गए। वह कुछ समय तक विधवा रहीं। हज़रत उमर (रजि.) इस संसार और बाद की दुनिया में पैग़म्बर के समीप हो कर सम्मान और आशीर्वाद की वांछना करते थे। पैग़म्बर ने हज़रत हफ़सा से शादी करके इन्हें सम्मानित किया ताकि वह अपने वफ़ादार शिष्य की बेटी की रक्षा और मदद कर सकें।

उपरोक्त तथ्यों को देखते हुए यह स्पष्ट है कि पैग़म्बर ने इन महिलाओं से शादी कई प्रकार के कारणों से की थी। असहाय और विधवा महिलाओं के सम्मान जनक निर्वाह उपलब्ध करने के लिए गुस्से में आए या पराए जन जातियों को सम्मान और सात्वना करना, पूर्व शत्रुओं को थोड़े संबंध में लाना, इस्लाम के लाभ के लिए कुछ उपहारित पुरूष और महिलाओं को लाना ईश्वर में विश्वास के एकीकृत भाईचारे के संबंधो और मानदंडों को लोगों के बीच स्थापित करना और उन दो आदमियों के परिवार के रिश्ते को सम्मान दिया जो उनकी मृत्यु के बाद मुस्लिम समुदाय के पहले नेता बनेंगे। इन शादियों का स्वयं अतिभोग, व्यक्तिगत इच्छा या वासना से कोई लेना देना नहीं है। हज़रत आयशा (रजि.) को बाद की शादियां तब अनुबंधित की गई जब वह एक बूढ़े आदमी थे। स्वयं को भोग की जा रही कृत्यों के बजाए यह शादियां, आत्म अनुशासन की कृत थी।

इस अनुशासन का भाग प्रत्येक पत्नी का अधिक कुशलता से मनाए, न्याय को प्रदान करना था। उनके निर्वाह, आवास और भत्ता के लिए जो संसाधनों की अनुमति उन्होंने दी उसे बराबर विभाजित किया। उनके साथ उन्होंने अपना समय भी विभाजित किया और उन्हें समान दोस्ती और समान बर्ताव किया। या तथ्य की उनकी पत्नियां एक दूसरे के साथ अच्छी प्रकार के लिए कोई छोटी सी श्रद्धांजलि नहीं है। उनमें से प्रत्येक के साथ वह केवल प्रदाता ही नहीं पर एक मित्र और साथी भी थे।

पैग़म्बर की पत्नियों की संख्या उनके लिए एक अद्वितीय व्यवस्था थी। इस विधान के कुछ ज्ञान और गुण की जैसे कि हम उन्हें समझते हैं, व्याख्या की जा चुकी है। सभी अन्य मुसलमानों को एक बार में अधिकतम चार पत्नियों की अनुमति है। जब सीमित बहु-विवाह का रहस्योदघाटन आया, तब तक पैग़म्बर के विवाह पहले ही अनुबंधित किये जा चुके थे। इसके बाद उन्होंने किसी अन्य महिला से शादी नहीं की।

Pin It
  • Created on .
प्रकाशनाधिकार © 2020 फ़तेहउल्लाह गुलेन. सर्वाधिकार सुरक्षित
fgulen.com प्रसिद्ध तुर्की विद्वान और बौद्धिक फतहुल्लाह गुलेन पर आधिकारिक स्रोत है