शैतान

शैतान क्या है, और वह क्यों बनाया गया?

शैतान आग से बनाया गया एक जिन्न है। अपनी आज्ञाकारिता और ईमानदारी से पहले आदम के माध्यम से परीक्षण किया गया था, वह स्वर्गदूतों की मण्डली में अभिनय और पूजा के रूप में वे किया करता था फरिश्ते नियुक्त होंगे जो कभी अल्लाह के आदेश की अवहेलना नहीं करते (तहरीम 66:6) शैतान ने अपने आचरण का मार्ग स्वयं चुना, जब ईश्वर ने उसे स्वर्ग दूतों के साथ परीक्षण के लिए आदम के आगे झुकने की आज्ञा दी, उसकी प्रकृति में आत्मसंतोष और अवज्ञा का बीच फट के खुल गया और उसे निगल लियाः “उसने जवाब दिया मैं इससे अच्छा हूँ, आप ने मुझे आग से पैदा किया है और इसको मिट्टी से।”(38:76)

शैतान को महत्वपूर्ण उद्देश्यों के लिए बनाया गया था। सबसे पहले, यदि शैतान मानवता की छेड़खानी की लगातार प्रयास नहीं करता, हमारा निर्माण अर्थहीन और निरर्थक होता। ईश्वर के पास असंख्य नौकर (फरिश्ते) हैं जो उसके विद्रोही नहीं हैं और इसलिए वे आज्ञा के अनुसार सब कुछ करते हैं, जबकि एक पूर्ण दिव्य के अस्तित्व होने के नाते जिसे कई सुन्दर नाम और गुण की आवश्यकता है बाहरी आवश्यकता के मार्ग से नहीं, परन्तु उनके नाम की आवश्यक प्रकृति के कारण कि उसके नाम प्रकट हों।” केवल मानवता के माध्यम से वह अपने सभी नामों को प्रकट करता है।

ईश्वर ने हमें खुली इच्छा विकल्पों के बीच चयन के लिए योग्यता दी, इसके अलावा वह हमें महान क्षमता के साथ संपन्न किया। भीतर और बाहरी निरंतर संघर्ष का उद्देश्य है कि उन क्षमताओं को चुनने के विकसित करने के लिए हमारी योग्यता के सीधे परिणाम का सामना करना। केवल ईश्वर ने कटुपंथियों के ऊपर गौरयों के रूप में इसलिए भेजा कि बचने के लिए अपनी चपलता और क्षमता को विकसित कर सकें। ईश्वर ने शैतान बनाया और हमें लालच के लिए उसे अनुमति दी इसलिए कि हम लालच विरोध से हमारी इच्छा शक्ति की उच्च आध्यात्मिक श्रेणी और मजबूती में वृद्धि कर सकें। अधिक परिश्रम के लिए भूखे उत्तेजित लोग और जानवर के रूप में और नए मार्गों की खोज के लिए संतुष्टि होना और भय से रक्षा को प्रेरणा मिलती है। अपनी योग्यता विकसित और पाप के विरूद्ध सावधानी हमारे लिए शैतान के लालची कारण है।

स्वर्गदूत उच्च आध्यात्मिक प्रतिष्ठा के लिए वृद्धि नहीं करते क्योंकि शैतान उन्हें लालच या उन्हें गुमराह नहीं करता। जानवरों के निश्चित स्थान है, जिसका अर्थ है कि वह तो चढ़े और न ही उतर सकते हैं। केवल मानवता ने ही असंख्य स्थानों या प्रतिष्ठा का सामना किया है। केवल तदनुसार हम बढ़ते या घट सकते हैं। वहां नीचे फ़िरऔन और नमरूद के रूप में लोगों के लिए सबसे बड़े पैग़म्बरों और पवित्र लोगों की प्रतिष्ठा के बीच आध्यात्मिक विकास की एक असीम लम्बी पंक्ति है।

यह देखते हुए हम दावा नहीं कर सकते हैं कि शैतान का निर्माण बुराई था? हालांकि शैतान एक बुरा प्राणी है। ईश्वर के निर्माण में पूरा ब्रह्माण्ड शामिल है और परिणामों के संबंध को समझना चाहिए, केवल स्वयं कार्य करने के संबंध में नहीं। ईश्वर जो कार्य या निर्माण करता है वह अच्छा और सुन्दर होता है। आप ने आप में हो या उसके प्रभावों में हो, उदाहरण के लिए बारिश और आग के कई प्रभाव उत्पादित होते हैं, जिसमें से लगभग सभी उपयोगी होते हैं। यदि उनके अपने दुर व्यवहार के माध्यम से कुछ लोगों का पानी और आग से नुकसान होता है, तो हम दावा नहीं कर सकते कि उसका निमार्ण पूर्ण अच्छा नहीं है। इसी प्रकार लालच विरोध से शैतान को बनाने का मुख्य उद्देश्य यह है कि हमारी इच्छा शक्ति की उच्च आध्यात्मिक प्रतिष्ठता और मज़बूती को विकसित कर सकें, और उच्च आध्यात्मिक प्रतिष्ठा में वृद्धि कर सकें।

कुछ लोगों का तर्क है कि कई लोग अविश्वास में गिर जाते हैं और इसलिए नरक में जाऐंगे क्योंकि शैतान के लालच के कारण ऐसे लोगों के लिए मेरा उत्तर: हालांकि शैतान कई अच्छे और सार्वभौमिक प्रयोजनों के लिए बनाया गया था, उससे लोग धोखे में हो सकते हैं, हालांकि शैतान हमें ग़लत या पाप के लिए बाध्य नहीं कर सकता, कि सुझाव और प्रोत्साहन की उसकी शक्ति सीमित है, यदि हम बहुत कमजोर हैं तो शैतान को धोखे के लिए अनुमति दे देंगे, और इस प्रकार उसका पीछा करेंगे, यह हमारी अपनी ग़लती है कि हम नरक में समाप्त होंगे।

यह एक महत्वपूर्ण संकाय के बारे में हमारे दुरूपयोग के लिए उपयुक्त सज़ा है, जिस भगवान के अस्तित्व इतने प्रदत्त हैं कि हम अपनी क्षमता का विकास और उच्च आध्यात्मिक श्रेणी प्राप्त कर सकते हैं।

हमारा कार्य हमारी स्वतंत्रत इच्छा का उपयोग करना है। जो मोटे तोर पर हमें मानव बनाता है और बौद्धिक और आध्यात्मिक विकास के कारण निर्माण में उच्चतम स्थान की अनुमति देता है। यदि हम ऐसा नहीं करते तो इसका अर्थ यह है कि हम अपनी इच्छा शक्ति और मानवता से सम्मानित होने की शिकायत करते हैं।

दूसरा गुणवत्ता मात्रा से अधिक महत्वपूर्ण है, यह देखते हुए निर्णय करते हुए गुणात्मक मानकों (मात्रात्मक के बजाए) पर विचार करना चाहिए। उदाहरण के लिए खजूरों के 100 गडढे केवल 100 सैन्ट (रूपयों) की ही हैं जब तक वे बीज के रूप में रहते हैं। उनका मूल्य तभी बढ़ सकता है जब उन्हें लगाया जाए और वे खजूर के पेड़ों में विकसित होते हैं, तो क्या हम यह कह सकते हैं कि पेड़ों को लगाना और पानी डालना बुराई है? स्पष्ट रूप से 20 गडढों से 20 पेड़ पूरी तरह से अच्छे हैं क्योंकि 20 पेड 20,000 गडढे देगें।

दोबारा मानों कि मोरनी के 100 अण्डे 500 सेन्ट (रूपयों) के हैं यदि यदि सिर्फ 20 में से ही बच्चे निकलते हैं, तो 80 अण्डों के जोखिम में 20 बच्चों की उपज की बुराई कौन मानेगा। उसके विपरीत 400 सेन्ट (रूपयों) को 80 अण्डों के जोखिम पर 20 पक्षी होना पूर्ण रूप से अच्छा है क्योंकि वे 20 पक्षी, पैसों से अधिक गुणवान होंगे और कुछ तो अण्डे भी देंगे।

यही मानवता के साथ भी सच है। शैतान और अपने बुरे आज्ञिक अहंक का विरोध करने से मानवता ने हजारों भविष्यदवक्ता, अनगिनत संत और ईमानदार, बुद्धिमान ज्ञानी अच्छे नैतिक लोगों का लाभ उठाया है। ऐसे सभी लोग इंसानी दुनिया के सूर्य चंद्र और तारे हैं। ऐसे लोगों के बदले अधिक कम गुणवत्ता वाले लोग खोए गए थे।

हमें बुरे विचारों और इच्छाओं की कैसे प्रतिक्रिया करनी चाहिए?

अनैच्छिक बुरे विचारों के सहयोग आम तौर पर शैतानी हस्तक्षेप का परिणाम है, एक बैट्री के रूप में बस के दो धुर्व हैं। हमारे मन के लिए वहां दो केन्द्रीय बिन्दू होते हैं, यह दो धुर्व एक बैट्री की दो धुर्वों की तरह कार्य करता है जबकि अन्य सुझाव के लिए शैतान अतिसंवेदनशील है।

शैतान उन विश्वासियों पर हमला करता है जो अपने विश्वास और भविष्य बढाने को बढ़ाने का प्रयास करते हैं। यदि इस तरह के विश्वासी अपनी भावनाओं में इमानदार है तो शैतान सभी दिशाओं से हमला करता है। जब विश्वासी अपनी सनक और इच्छाओं के अनुग्रह में स्वच्छ व्यवहार के साथ शैतान का पालन करते हैं, वह उनके अजीब और असमान्य विचारों और उनके अविश्वास को प्रोत्साहित करता है और सच्चे धर्म के विरूद्ध संघर्ष के नए तरीके जिस प्रकार सिखाता है उस तरह से सब विश्वासी करना चाहते हैं।

शैतान हम पर सभी दिशाओं से आक्रमण करता हैः

जब शैतान था, उसकी अवज्ञा के लिए खुदा ने श्राप दिया, शैतान को प्रलय के दिन तक सुगमता के लिए कहा, इच्छा की अनुमति करने के लिए बीच में मनुष्य ने भटक, नेतृत्व का प्रयास करे, खुदा ने इस अनुरोध को माना तब शैतान ने कहाः “आगे और पीछे दाएँ और बाएँ हर ओर से इनको घेरूंगा और तू इनमें से अधिकतर को शुक्रगुजार न पाएगा। (अल-अराफ 7:17)

शैतान अपने सीमित अधिकर में सब कुछ करता है और हमें गुमराह भी कर सकता हैं इस परिक्षण की दुनिया में खुदा हम पर उसके नाम के सभी रूप में प्रकट होता है, हम बहुत जटिल हैं। हम यहां भेज गए हैं। इस शाश्वत सुख कमाने की तरह से और देवता के एक दर्पण के रूप में विकसित और प्रशिक्षित किया गया। हमें यह आदेश करने के लिए निपुण होना होगा और ख़ुदा के उन स्वीकार्य तरीकों में संतोषजनक द्वारा हमारे नियंत्रण में प्राकृतिक पशुओं की सभी इच्छाओं को विकसित करना होगा।

हम अपने बाएँ ओर से आ रहे शैतान को रोज़गार पुश प्रवृत्ति और संकायों के लिए पाप में लूभाना कर रहे हैं। जब वह हमारे सामने से हमारे दृष्टिकोण और भविष्य को लेकर निराश करने के लिए प्रेरित करता है, तब वह फुसफसाते हैं। न्याय के दिन आते हैं, जो कुछ धर्मों के बारे में कहना होगा, इसके बाद कोई ओर तो केवल कल्पना भी नहीं है और कहा कि अतीत के अंतर्गत धर्म आता है, इसलिए हमारे वर्तमान और भविष्य के लिए अप्रसंगीक है। जब वह पीछे से हमारे प्रवर्तन को बनाने के लिए हम पर आता है तो खुदा ओर उनकी एकता, दिव्य ग्रंथों, स्वर्ग दूतों के अस्तित्व है और विश्वास की अन्य बुनियादी बातों के मामले में इंकार की कोशिश करता है। इस तरह फुसफुसाने और सुझाव के माध्यम से शैतान धर्म के साथ हमारे धर्म के तोड़ने और पाप की ओर पाप के मार्ग पर लाने का प्रयास करता है।

शैतान का अर्थ है कि इन विश्वासियों का उपयोग न करे और विश्वास से भक्त के साथ छेड़खानी कर सकता है। बल्कि उन्हें दाईं ओर से इस तरह के विश्वासियों के दृष्टिकोण और उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए दिखावटी और गर्व हो सकता है। उनके गुणों में और उनके साथ अच्छे कार्य में गर्व है। शैतान उन विश्वासियों के कार्य में विघन डालता है जो सबसे अच्छा कार्य कर रहे हैं। दम्भ और इच्छा की प्रशंसा के लिए भावनाऐं जब तक व्यक्ति को ऊपर ले आती हैं। जब व्यक्ति इस तरह के एक बिन्दू तक पहुंच जाता है तो विश्वासी भविष्यवाणी के लिए सड़क पर अपनी यात्रा शुरू करते हैं। उदाहरण के लिए यदि एक आस्तिक अतिरिक्त कर्तव्य के पालन में रात में प्रार्थना करता है तो फिर उसे दावा और आशा है कि दूसरे लोग उसका या उसकी उपलब्धियों और अच्छे कार्यों की प्रशंसा करेंगे, जबकि उनके पीठ पीछे अन्य आलोचना की गई तो शैतान एक ऐसे व्यक्ति के प्रभाव में गिर गया। जब शैतान इस दिशा से हम पर आता होगा तो हम अपना अच्छा करने के लिए शैतान का विरोध करते हैं।

शैतान की एक और चाल, तुच्छ बातों को महत्वपूर्ण और विपरीत उपाध्यक्ष बनाना है। यदि विश्वासी एक दूसरे के साथ छोटी छोटी बातों पर विवाद करेंगे (जैसे कि दैनिक निर्धारित प्रार्थना के बाद ईश्वर की महिमा के लिए मोतियों का उपयोग करना) इस बात को अनदेखा करके कि उनके बच्चे अविश्वास और भौतिकवाद की सड़कों पर घसीटे जा रहे हैं, यह एक संकेत है कि शैतान सफलतापूर्वक उन्हें बहका चुका है।

“शैतान अप्रिय विचार और इच्छाओं का सुझाव देता है।”

जब शैतान सच्चे विश्वासियों को बहकाने में विफल रहता है तो वह उनमें अप्रिय विचार और इच्छाऐं फुसफसाता है। उदाहरण के लिए विचार को संध के माध्यम से वह विश्वासियों को परमात्मा को नाकारात्मक विचारों के विकास की ओर या अविश्वास या अवज्ञा की ओर धकेल देता है। जब विश्वासी इस तरह के विचारों पर जीते हैं, तब शैतान उन्हें परेशान करेगा जब तक उनके विश्वास में संदेह न आ जाए या फिर तब तक जब तक वे अपना धार्मिक जीवन जीने से से निराश न हो जाएं।

एक और चाल जिसे शैतान इस्तेमाल करता है यह है कि वह अच्छे और सच्चे विश्वासियों को अपने धर्म कृत्यों की युद्धता या वैद्यता पर संदिद्ध बनाता है। उदाहरण के लिए एक विश्वासी स्वयं से पूछ सकता है, क्या मैंने सही ढंग से प्रार्थना की? वुजू करते हुए क्या मैंने अपने हाथों और चेहरे को अच्छी तरह धोया? क्या मैं शरीर के सही अंग को सही संख्या में धोया है? जिन विश्वासियों को इस तरह के अनैच्छिक विचार सनक और संदेह द्वारा सताए जाते हैं उन्हें यह पता होना चाहिए कि इस प्रश्नों में उनके मन कोई भूमिका नहीं निभाते। बिल्कुल चोर की भांति जो अमीर और मज़बूत देशों को लूटने का प्रयास करते हैं जो संसाधन संपन्न देशों पर नियंत्रण करने का प्रयास करते हैं, तो शैतान विश्वासियों के मनों को परेशान करके उनसे छेड़खानी करने की अंतिम कोशिश करता है।

इस प्रकार के हमले की तुलना हम ऐसे व्यक्ति से कर सकते हैं जिसे तेज बुखार हो। हम जानते हैं कि जो शरीर के विरूद्ध एक बिमार व्यक्ति के रक्त में बनती है, वे हानिकारक रोगाणुओं या कीटाणुओं को नष्ट या रोक देता है। इसी कारण से शरीर का तापमान बढ़ जाता है। इसी प्रकार शैतान के बुरे सुझाव से परेशान दिल इनके विरूद्ध संघर्ष करके स्वयं का बचाव करता है। इसलिए यह मन सही है जो ऐसे विचार उत्पन्न करता है, न तो यह इन विचारों का अनुमोदन करता है और न ही इन्हें अपनाता है। किसी अशुद्ध का प्रतिबिम्ब स्वयं अशुद्ध नहीं है, यह दूसरों को भी अशुद्ध नहीं बना सकता। उसी तरह अविश्वास के बारे में सोचना वास्तविक अविश्वास के रूप में एक बात नहीं है।

हम भी कह सकते हैं कि शैतान के बुरे सुझाव लाभ वास्तव में विश्वासियों के लिए है, क्योंकि वे हमें सतर्क रहने अपने स्वयं कामुक और शैतान के विरूद्ध संघर्ष और उच्च आध्यात्मिक श्रेणियों की ओर प्रगति के कारण बहकाता है।

शैतानी सुझावों से कैसे मुक्त रहें!

वास्तव में शैतान एक मकड़ी के जाले की तरह है (सूरह अननिसाः 476) जो कि हमारे मार्ग में दिखाई देता है। इसे आप प्रगति से नहीं रोक सकते और आपको इसे किसी भी बड़े महत्व के साथ नहीं जोड़ना चाहिए। शैतान केवल सुझाव या फुसफुसाता है, वह अंदाज कुछ वांछनीय के रूप में पापी कार्य करता है, उन्हें सस्ते चमकदार काग़ज में पेश करता है, विश्वासी उसका निमंत्रण कभी स्वीकार नहीं करते। शैतान की फुसफुसाने के लिए कोशिश हमें अनुभव होना चाहिए कि वह अपना कम से कम शक्तिशाली हत्थियार इस्तेमाल कर रहा है और उसे अनदेखा करे। यदि हम इन व्याकुलता पर ध्यान दें तो हम पराजित हो सकते हैं। एक कमाण्डर की भांति जिससे उसे लश्कर में अपने सैनिकों को भ्रांत और भेजने का कारण बनता है। विश्वासी जो शैतान की कमज़ोरी सुनते हैं उनकी क्षमता केवल उसी का विरोध नहीं बल्कि उनकी स्वयं कामुख का विरोध हो अंत में यह विश्वासी है जो पराजित होंगे।

विश्वासी जो इस जाल से बचना चाहते हैं, वह स्वयं को पापों से दूर रखे, उन सभी से जो शैतान आकर्षित बनाने की कोशिश करता है। अनवधानता और एक पूजा की उपेक्षा शैतान के “तीरों” की ओर मार्ग खोलती हैः “जो व्यक्ति रहमान (अल्लाह) के स्मरण की उपेक्षा करता है, हम उस पर एक शैतान नियुक्त कर देते हैं और वह उसका साथी बन जाता है।” (अज-जुखुरूफ़ 43:36)

आदेश में पने आप को शैतान के हमलों से बचाने के लिए हमें सबसे दयालु को याद रखना चाहिए, पवित्र और धन्य घटनाओं के बारे में सोचना और एक पवित्र जीवन जीने की कोशिश करना। यदि तुम शैतान का फुसफुसाना अपने लिए सुनो, तो ईश्वर की शरण चाहना, वह सब सुनने वाला और सब जानने वाला हैः “यदि कभी शैतान तुम्हें उकसाए तो अल्लाह की पनाह मांगो, वह सब कुछ सुनने वाला और जानने वाला है। वास्तव में जो लोग डर रखने वाले हैं उनका हाल तो ये होता है कि कभी शैतान के प्रभाव से कोई बुरा विचार यदि उन्हें छू भी जाता है तो फौरन चैकन्ने हो जाते हैं और फिर उन्हें साफ दिखाई देने लगाता है कि उनके लिए उचित कार्यप्रणाली क्या है।” अल-अराफ़ (7:200-1)

ईश्वर के दूत ने सलाह दीः “यदि तुम क्रोधित हो जाओ, तो यदि खड़े हो तो बैठ जाओ, यदि आप बैठे हो तो बिस्तर पर लेटे हो तो खड़े हो जाओ और वुजू करो।” एक सैन्य अभियान से लौटने के समय एक बार नबी द्वारा निश्चित स्थान में एक पड़ाव के लिए बुलाए जाते थे। उनके साथी काफी थक गए थे वे प्रातः प्रार्थना के माध्यम से सोए, जब सब जगे, पैगम्बर ने कहा कि वे तुरन्त छोड़ दो क्योंकि “शैतान के नियम यही है।” पैग़म्बर ने यह भी कहा कि शैतान भाग गया था जब प्रार्थना की आवाज उसने सुनी।

विश्वसियों को भटकाने के नेतृत्व के लिए शैतान भी अभद्र विचारों और घटनाओं का उपयोग करता है, वह हमें हमारे आनन्द के साथ अवैध मोहक द्वारा शारीरिक दर्द दे जाता है। ऐसे अवसर पर हमें अपने आप को याद दिलाना चाहिए कि ऐसी प्रसन्नता में लिप्त पछतावा जन्माना और हमारे वर्तमान और भविष्य दोनों जीवन ख़तरे में पड़ सकते हैं। हमें कभी भूलना नहीं चाहिए कि जीवन इस दुनिया में एक खिलौना गुजर एक विश्रामदायक भ्रम की तुलना में अधिक नहीं और कि असली या सच्चा जीवन तो इसके बाद है। जब कुछ साथी भीषण गर्मी के कारण से ताबुक के अभिमान में भाग लेने से संकोचित हो रहे थे तो ईश्वर ने उन्हें चेतावनी दी थीः “इनसे कहो कि जहन्नम (नरक) की आग इससे अधिक गर्म है, कैसा अच्छा होता कि ये इसे जान पाते।” (अत-तौबा 9:81)

जब शैतान की फुसफुसाहट और शैतानी विचार आते हैं तो विश्वासी ऐसे विचारों को केवल कमजोरी और भावनाओं के अतिरंजित और बिगाड़ते हैं। हमें लापरवाह होने से बचना चाहिए और सुनिश्चित करना चाहिए कि हमें अपनी पूजा के किसी भी कोण की अवेहलना नहीं करनी चाहिए। ऐसी ग़लतियां शैतान का ध्यान आकर्षित करती है। यदि हम याद रखें सबसे दयालु (ईश्वर) और पवित्र घटनाओं पर ध्यान देते हैं तो अन्य और एक पवित्र जीवन जीना है, फिर हम शैतान के बुलाने के विरोध में सक्षम हो जाएंगे।

क्यों शैतान अपने अविश्वास पर बल देता है?

शैतान अरबी का शब्द है जिसका अर्थ हैः “दिव्य उपस्थिति से नीचे फेंका हुआ ईश्वर की दया से अपमान में दूर संचारित।” शैतान उस एक की तरह है, जिसके पास सारे तुरूप कार्ड है, परन्तु उन्हें स्वयं के विरूद्ध ही खेल रहा है या एक की तरह जिसने सब कुछ खो दिया जीतने की कगार (समीप) पर है।

कुरआन शैतान की स्थिति का वर्णन इस प्रकार करता हैः “हम ने तुम्हारी संरचना का आरंभ किया, फिर तुम्हारा रूप बनाया फिर फरिश्तों से कहा आदम को सजदा करो। इस आदेश पर सब ने सजदा किया परन्तु इब्लीस (शैतान) सजदा करने वालों में सम्मिलित न हुआ। पूछा तुझे किस चीज ने सजदा करने से रोका जबकि मैंने तुझ को आदेश दिया था? बोला मैं उससे अच्छा हूं तूने मुझे आग से पैदा किया है और उसे मिट्टी से।”(7:11-12)

शैतानी इतनी दूर भटक चुका है कि वह सच को सुनना या अनुभव नहीं कर सकता, वह इतना विकृत हो चुका है कि वह अपनी भ्रष्टता के दुष्चक्र का स्वयं शिकार बन गया है। दूसरे शब्दों में पहले उसने स्वयं को गर्व, घमण्ड और दंभ से पीड़ित किया। अपनी पहली शैतानी ढांकती के साथ (मैं उसकी तुलना में अच्छा हूं) उसने अपने दुष्चक्र की पहली यात्रा की। इस तरह के बहानों के साथ “कि मैं उससे बेहतर हूं” उसने क्षमा और लज्जा करने के सभी तरीकों से स्वयं को वंचित रखा। स्पष्ट रूप से उसकी प्रतिक्रिया से उसका घमण्ड साथ ही साथ उसके गर्व दंभ ओर अंहकार का पता चलता है।

शैतान की ग़लती इसलिए आदम और हव्वा ने जब मना किए गए पेड़ से खाया हालांकि जैसे ही उनको अपनी गलती का अनुभव हुआ। आदम और हव्वा ने ईश्वर से निती की उन्हें क्षमा करने के लिएः “ दोनों बोल उठे ऐ रब हम ने अपने ऊपर अत्याचार किया अब यदि तूने हमें क्षमा न किया और दया न की तो यकीनन हम तबाह हो जाऐंगे।”(7:23) ईश्वर ने उनका अनुरोध माना, और इसलिए दुश्चक्र स्थापित नहीं किया जा सकता है, शैतान दूसरी ओर स्वयं को सही ठहराने के लिए।

कई छंद (आयतें) मानवता के विरूद्ध शैतान की शत्रुता, इर्ष्या और लड़ाई, साथ ही साथ ईश्वर की ओर ढिठाई, अज्ञान और अवज्ञा का वर्णन करते हैं उनमें से कुछ यह हैः “शैतान बोला अच्छा तो हिस तरह तुने मुझे गुमराही में डाला है मैं भी अब तेरी सीधी राह पर इन इंसानों की घात में लगा रहूंगा। आगे और पीछे, दाएँ और बाएँ हर ओर से इनको घेरूँगा और तू इनमें से अधिकतर को शुक्रगुजार न पाएगा। (7:16-17)

इस प्रकार वह मानवता का यम बन गया। उसकी त्रृटि, आत्म रक्षा, अंहकार और विद्रो उसके निष्कासन का परिणाम स्वरूप है। (7:13) यह उसके लोगों केा भ्रष्ट करने के व्रत के साथ उसे ज्ञान वर्धक, चमकदार और उच्च वायुमण्डल से दूर हटा दिया। उसने स्वयं को पूरी तरह से शैतानी तर्क में लिप्त और समर्पित कर दिया और सबसे अधिक दुष्ट प्रलोभक का मार्ग चुना। जितना अधिक उसने बहकाया वह उतना ही अधिक दुर्भावना पूर्ण इर्ष्या और विद्वेष अनुभव किया। इस प्रक्रिया ने उसे क्रतघनता, साजिश, दोष और भ्रष्टता के साथ एकीकृत दूसरा स्वभाव प्राप्त करने का कारण बनाया।

जैसे जैसे दूरी बढ़ी वह और अधिक शातिर और भ्रष्ट बन गया। उसके घमण्ड, दंभ और विद्वेष की वृद्धि हुई। उसने ईश्वर के साथ विवाद का साहस किया और स्वयं को उसकी दया से और हटा लिया। ईश्वर की ललकार के विरूद्ध, विद्रोह ने उसके भाग्य पर मोहर लगा दी। उसके मन पर मोहर लगा दी गई थी, उसके मन में अब कुछ नहीं केवल बुराई थी और स्वयं को सुधारने या परिवर्तित करने का अवसर भी नष्ट हो चुका था।

हम बहुत सम्मानित प्राणी है, यदि हम पूरी तरह अपनी क्षमता का अनुभव करें तो हम पवित्र बन जाऐंगे, परन्तु हम भी दूसरी दिशा में जो सकते हैं, निम्नलिखित पर विचार करें: मुस्लिम जो अपने धार्मिक कर्तव्यो को पालन करे और अन्य के साथ अच्छे संबंध बनाए रखे। इस अवसर पर अपना स्वयं नियंत्रण खो और विस्फोट खो सकता है ऐसे समय में वे अपनी सभी नम्रता, दया, क्षम और सहिष्णुता खो देते है। यदि तुम उन्हें अध्ययन करो जब वे इस स्थिति में हो, आप केवल घृणा, दुर्भावनापूर्ण, इर्ष्या, द्वेष और नरक के चिगांरियों की भांति क्रोध देख सकोगे। यदि तुम ऐसे समय पर उन्हें राय या परामर्श के लिए प्रयास करोगे आपके माध्यम से उन्हें प्राप्त करने में सक्षम नहीं होंगे।

हर किसी ने इसी तरह की स्थितियों को देखा और अनुभव किया। परन्तु हम सदैव संभावित क्षमता, बनाए रखें। ईश्वर की दया के माध्यम से ऐसी स्थितियों से गुजर रहा और पुनः उबरे। इसके विपरीत शैतान नफ़रत दुर्भावनापूर्ण, इर्ष्या और विद्वेष की एक स्थिति में स्थाई रूप से है। वह सदैव बुरा और शैतानी सोचता है क्योंकि वह कैसे अच्छाई के बारे में सोचते हैं नहीं जानता। शैतान दया, नम्रता और सहनशीलता, जो सभी अपनी स्वयं की बाधाऐं हैं, भूल गया। संक्षेप में वह अपनी स्वयं की पूजा करता हैं, ऐसी स्थिति में पड़ने पर अपनी प्राथमिकता रक्षा करने के लिए अपने ऊपर विश्वास और ईश्वर में विश्वास रखो। हम स्वयं को उससे और उस पर निर्भर त्यागपत्र दें। वह हमें निम्नलिखित शैतान से बचाएगा।

Pin It
  • Created on .
प्रकाशनाधिकार © 2020 फ़तेहउल्लाह गुलेन. सर्वाधिकार सुरक्षित
fgulen.com प्रसिद्ध तुर्की विद्वान और बौद्धिक फतहुल्लाह गुलेन पर आधिकारिक स्रोत है